ट्रस सेतु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पुलिन्दा पुल या ट्रस ब्रिज वो पुल होते हैं जिनके अन्दर खिचाव और तनाव बल के रूप में लगते है। ये सबसे पुराने पुलों में आते हैं। इन पुलों का आरम्भ १९वीं व २० वीं सदी हुआ था। इन पुलों को बनाने में कम खर्च और बनाने की सामग्री सहजता से मिल जाती है।

रचना[संपादित करें]

इन पुलों में वर्टिकल मॅम्बर्ज़ (सीधे खड़े हुआ) और लोवर हॉरिज़ॉण्टल मॅम्बर्ज़ (समतल) पर खिचाव लगता है।