टारगेट रेटिंग प्वाइंट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

टारगेट रेटिंग प्वाइंट कुल दर्शकों में से लक्ष्यित दर्शकों के घटक का अनुमान का प्रतिनिधित्व करने वाला खरीदारी

टेलीविजन का मूल्यांकन करने का कमरा

का नाप है। जीआरपी की तरह (सकल रेटिंग प्वाइंट का संक्षिप्त रूप) यह लक्ष्यित दर्शकों तक पहुँचने के लिए एक विशिष्ट माध्यम है जो विज्ञापन द्वारा रेटिंग की योग के रूप में मापा जाता है। उदाहरण के लिए, यदि एक विज्ञापन एक से अधिक बार छपता है, जो कुल दर्शकों तक पहुंचता है, टीआरपी आंकड़ा प्रत्येक जीआरपी की राशि अनुमानित लक्ष्यित दर्शकों का गणना है जो कुल दर्शकों में शामिल हैं।

एक टीवी विज्ञापन अगर 5 बार प्रसारित होता है वह कुल दर्शकों के 50% और लक्ष्यित दर्शाकों में से केवल 60% तक पहुँचता है, तो इसका 250 GRPs (= 5 x 50) होगा - अर्थात् GRP = आवृत्ति x पहुँच - इस मामले में टीआरपी 250 GRPs में से 60% होगा = 150 टीआरपी - यह लक्ष्य रेटिंग पॉइंट है, जो कुल दर्ज़ा के 60% है।

ये दो मेट्रिक्स महत्वपूर्ण घटक हैं जो एक विशेष विज्ञापन का विपणन प्रभावशीलता को निर्धारित करते हैं।

टेलीविशन रेटिंग प्वाइंट्स - टीआरपी एक कसौटी है जो एक चैनल या कार्यक्रम की लोकप्रियता इंगित करती है और यह डाटा विज्ञापनदाताओं के लिए बहुत उपयोगी है। आजकल, INTAM (इंडियन टेलिविशन आडिएंस मेशरमेंट) ही एकमात्र इलेक्ट्रॉनिक रेटिंग एजेन्सी भारत में काम करती है।INTAM टीआरपी की गणना के लिए दो तरीकों का इस्तेमाल करती है। पहली आवृत्ति की निगरानी है, जहाँ 'पीपल मीटर्स' को नमूने घरों में स्थापित किये जाते हैं और ये इलेक्ट्रॉनिक उपकरण परिवार के सदस्यों द्वारा देखा जाने वाला चैनल के बारे में डाटा लगातार रिकॉर्ड करते हैं। 'पीपल मीटर' एक कीमती उपकरण है, जो विदेशों से आयात किया जाता है। यह चैनल की आवृत्तियों को पढ़ता है, जो बाद में, चैनल के नामों में डीकोड किया जाता है और यह एजेंसी राष्ट्रीय डाटा तैयार करता है जो इन नमूने घरों के रीडिंग पर आधारित है। लेकिन इस तकनीक में एक दोष है, क्योंकि केबल आपरेटरों अक्सर घरों में संकेत भेजने से पहले विभिन्न चैनलों की आवृत्तियों को बदलते रहते हैं। एक चैनल को अगर एक निश्चित आवृति के अनुसार पढ़ा गया तो यह गुमराह कर सकती है यदि पूरी भारत में एक ही डाउन लिंकिंग आवृति क्यों न हो.

दूसरी तकनीक अधिक विश्वसनीय है और भारत में अपेक्षाकृत नई है। तस्वीर मिलान तकनीक में पीपल मीटर लगातार उस तस्वीर के छोटे हिस्सों को रिकार्ड करता जाता है जिसे एक निश्चित टेलीविशन में देखा जा रहा है। इसके साथ-साथ यह एजेन्सी सभी चैनलों के डाटा को भी छोटे तस्वीर के अंश के आकार में रिकार्ड करती है। नमूने घरों से जो डाटा एकत्र किया गया है उसे बाद में मुख्य डाटा बैंक से मिलान करते हैं ताकि चैनल के नाम की व्याख्या कर सकें. और इस तरह राष्ट्रीय दर्ज़ा का उत्पादन होता है।[1]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

TRP full Form व् अन्य जानकारी हिंदी में