जॉर्डन घाटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जॉर्डन नदी के दोनों ओर जॉर्डन घाटी को दिखाने वाले उपग्रह मानचित्र और आरेख

जॉर्डन घाटी(अरबी: غور الأردن‎, घोर अल-उरदुन; साँचा:Lang-he-n, एमेक हायरदन ) जॉर्डन रिफ्ट घाटी का ही एक हिस्सा है। अधिकांश अन्य नदी घाटियों के विपरीत, "जॉर्डन घाटी" शब्द अक्सर जॉर्डन नदी के निचले भाग पर लागू होता है, यह वो स्थान हे जहां यह उत्तर में गैलील के समुद्र को छोड़कर आगे निकालता है, और अंत में दक्षिण में जहां यह "मृत सागर" में जा मिलती है। [1] व्यापक अर्थ में, यह शब्द मृत सागर के घाटी और वाडी अरबाह या अरावा घाटी को भी कवर करता है, जो कि मृत सागर से परे रिफ्ट वैली खंड है और अकाबा / ईलाट, 155 किमी (96 मील) दूर दक्षिण में समाप्त होता है। [2]

घाटी एक लंबी और संकरी गर्त है, इसकी लम्बाई 105 किमी (65 मील) है, जिसकी चौड़ाई 10 किमी (6.2 मील) की औसत के साथ है, कुछ बिंदुओं पर 4 किमी (2.5 मील) तक सीमित है, जैसा की अधिकतर जगह पर है, मृत सागर तक पहुंचते पहुंचते यह 20 किमी (12 मील) से अधिक चौड़ी एक डेल्टा का रूप धारण कर लेती है। यह दुनिया की सबसे गहरी घाटी है, जो समुद्र तल से -212 मीटर (-696 फीट) की ऊँचाई पर शुरू होती है और समुद्र तल से -400 मीटर (-1,300 फीट) की ऊँचाई पर समाप्त होती है। घाटी के दोनों तरफ, पूरब और पश्चिम में, ऊँची खड़ी पहाड़ियों है और घाटी के तल से ऊँची पहाड़ियों के बीच 1,200 मीटर (3,900 फीट) से 1,700 मीटर (5,600 फीट) तक के अंतर है। [3]

अपनी अधिकांश लंबाई पर, जॉर्डन घाटी पूर्व में जॉर्डन और पश्चिम में इजरायल और वेस्ट बैंक के बीच की सीमा तय करती है। जिसका विवरण इज़राइल-जॉर्डन शांति संधि 1994 द्वारा नियंत्रित किया जाता है, जो जॉर्डन और वेस्ट बैंक के बीच एक "प्रशासनिक सीमा" स्थापित करता है, जो 1967 में इज़राइल द्वारा कब्जा कर लिया गया था, उस क्षेत्र की स्थिति के लिए पूर्वाग्रह के बिना। इजरायल ने बस्तियों के लिए पश्चिमी तट के हिस्से में इज़राइल को 86% भूमि आवंटित की है। [4][5] कई इजरायली राजनेताओं द्वारा जॉर्डन घाटी को इजरायल में मिलाने का प्रस्ताव रखा गया है, जो की हाल ही में सितंबर 2019 में बेंजामिन नेतन्याहू ने भी कहा हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Sauer, James Abbott, and Khair Yassine. "The East Jordan Valley Survey, 1975." Bulletin of the American Schools of Oriental Research 222 (1976): 41–66". मूल से 5 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 दिसंबर 2019.
  2. Moawiyah M. Ibrahim (2009). Eva Kaptijn; Lucas Petit (संपा॰). The Jordan Valley during the Early Bronze Age (PDF). A timeless vale. Archaeological and related essays on the Jordan Valley in honour of Gerrit van der Kooij on the occasion of his sixty-fifth birthday. (ASLU 19). Archaeological Studies Leiden University (ASLU). Leiden University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-908-72-8076-5. मूल से 2 अप्रैल 2015 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 19 March 2015.
  3. Salameh, Elias. "Sources of water salinities in the Jordan Valley Area/Jordan." Acta hydrochimica et hydrobiologica 29.6/7 (2002): Introduction on page 330 (2 in PDF)[मृत कड़ियाँ]
  4. 'Israel: Settlement Agriculture Harms Palestinian Children,' Archived 2 जून 2015 at the वेबैक मशीन. Human Rights Watch April 13, 2015
  5. 'Ripe for Abuse:Palestinian Child Labor in Israeli Agricultural Settlements in the West Bank,' Archived 2 जून 2015 at the वेबैक मशीन. Human Rights Watch 13 April 2015.