जल का विद्युत अपघटन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Electrolysis.svg

जब जल से होकर विद्युत धारा प्रवाहित की जाती है तो जल के अणुओं का विघटन हो जाता है और हाइड्रोजन एवं आक्सीजन प्राप्त होतीं हैं। इसे ही जल का विद्युत अपघटन (Electrolysis of water) कहते हैं। चूंकि शुद्ध जल, विद्युत का कुचालक है, इसलिये शुद्ध जल में बहुत कम मात्रा में अम्ल मिला दिया जाता है ताकि कम वोल्टता लगाकर ही जल से होकर आसानी से धारा प्रवाहित की जा सके।

जल के विद्युत-अपघटन में दो आंशिक अभिक्रियाएं होती हैं, जो दो इलेक्ट्रोड (कैथोड और एनोड) पर होती हैं। इस रेडॉक्स अभिक्रिया की समग्र प्रतिक्रिया यह है-

(जहाँ T = 298 K, p = 1,013 × 105 Pa)
हॉफमान का वोल्टामीटर का आरेख ; इसका उपयोग जल के विद्युत अपघटन के प्रदर्शन के लिए किया जाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • जल का विद्युत अपघटन
  • अम्लीय जल में विधुत का चालन
  • "Electrolysis of Water". Experiments on Electrochemistry. अभिगमन तिथि November 20, 2005.
  • "Electrolysis of Water". Do Chem 044. अभिगमन तिथि November 20, 2005.
  • EERE 2008 - 100 kgH2/day Trade Study
  • NREL 2006 - Electrolysis technical report