जल्लीकट्टू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जल्‍लीकट्टू
Madurai-alanganallur-jallikattu.jpg
एक युवक एक बैल का नियंत्रण लेने की कोशिश
उपनाम चढ़ाई आलिंगन, मंजू मुक्त
सबसे पहले खेला गया 400-100 BC [1]
विशेषताएँ
मिश्रित लिंग नहीं
स्थल खुला मैदान
ओलंपिक नहीं

जल्‍लीकट्टू (Jallikattu) तमिल नाडु के ग्रामीण इलाक़ों का एक परंपरागत खेल है जो पोंगल त्यौहार पर आयोजित कराया जाता है और जिसमे बैलों से इंसानों की लड़ाई कराई जाती है। [2] जल्लीकट्टू को तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का प्रतीक कहा जाता है। ये 2000 साल पुराना खेल है जो उनकी संस्कृति से जुड़ा है। [3]

इस खेल पर पाबंदी लगाने[संपादित करें]

जानवरों की सुरक्षा करने वाली संस्था पेटा इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में ले गयी। अदालत ने 2014 में इस खेल पर पाबंदी लगाने का फैसला सुनाया.[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. François Gautier. A Western Journalist on India: The Ferengi's Columns.
  2. "जल्‍लीकट्टू हमारे गौरव और संस्कृति का प्रतीक है'". BBC. अभिगमन तिथि 19 January 2017.
  3. "What is Jallikattu? - This 2,000-year-old sport is making news in India. Here's why – The Economic Times". अभिगमन तिथि 17 January 2017.