जम्मू और कश्मीर में मानवाधिकार हनन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जम्मू और कश्मीर में मानवाधिकार हनन
स्थान जम्मू और कश्मीर
तिथि चालू
लक्ष्य नागरिक
मृत्यु हज़ारों के
अपराधी भारतीय सशस्‍त्र सेनाएँ

जम्मू और कश्मीर में मानवाधिकार हनन एक बहुत अहम मामला है जिसमें कश्मीरी लोग या कश्मीर के रहने वालों के सामूहिक हत्या, जबरन गायब, बलात्कार, यातना, बाल सैनिक प्रयोग, राजनीतिक दमन, अभिव्यक्ति स्वतंत्रता का दमन किये जाते हैं।

भारतीय केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल और सीमा सुरक्षा पर यह आरोप लगाया हुआ है कि वे गंभीर रूप से कश्मीर में मानवाधिकार हनन कर रहे हैं।[1] यह आरोप को विभिन्न भारतीय सेनाएँ और अन्य अर्धसैनिक समूहों पर भी लगाया हुआ है।[2]

मानवाधिकार हनन के कारण से कश्मीर में विभिन्न उग्रवादी स्वतंत्रता संगठन जन्मे हुए हैं।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Hindwan, Sudhir (1998). Verma, Bharat, संपा॰. "Policing the police". Indian Defence Review. Lancer. 13 (2): 95. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0970-2512.
  2. Hartjen, Clayton; S. Priyadarsini (2011). The Global Victimization of Children: Problems and Solutions (2012 संस्करण). Springer. पृ॰ 106. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1461421788.
  3. Yardley, Jim (27 September 2010). "India Reopens Kashmir's Schools, but Many Stay Away". The New York Times. अभिगमन तिथि 7 March 2012.