छन्दाश्रित

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

छन्दाश्रित ऐसे छंद हैं जो बहुत लोकप्रिय हो गए हों और कवियों द्वारा विशेष रूप से अपनाये गये हों तथा जिनके नाम पर कवियों ने अपने मुक्तकों के कोश या संग्रह का नाम भी रखा हो। जैसे दोहा छंद पर अपभ्रंश में राम सिह ने पाहुड़दोहा नामकी रचना लिखी। हिंदी में इसी तरह की रचना ढोलामारुरा दुहा है। तुलसीदास ने भी दोहों के संग्रह का नाम दोहावली रखा। इसी तरह गुंडलिया छंद पर गिरधरदास ने कुंडलिया-गिरधरदास लिखा

सहायक पुस्तकें[संपादित करें]

  • हिंदी साहित्य कोश (भाग 1):पारिभाषिक शब्दावली, ज्ञानमंडल लिमिटेड, वाराणसी, २000