चुचुक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
स्त्री के स्तन और स्तनाग्र

स्तन के अग्र भाग को स्तनाग्र या चुचुक (निपल) कहते हैं। स्त्रियाँ इससे बच्चे को दूध पिलाती हैं।

प्रत्येक स्तन में एक चूचुक और स्तनमण्डल (एरिओला) होता है। स्तनमण्डल का रंग गुलाबी से लेकर गहरा भूरा तक हो सकता है साथ ही इस क्षेत्र में बहुत सी स्वेदजनक ग्रंथियां भी उपस्थित होती हैं। स्त्री और पुरुष दोनों में स्तन का विकास समान भ्रूणीय ऊतकों से होता है परन्तु यौवनारम्भ पर स्त्रियों के अंडाशय से स्रावित हार्मोन ईस्ट्रोजन स्त्रियों में स्तन के विकास के लिए मुख्य रूप से उत्तरदायी है, जबकि पुरुषों मे इस हार्मोन की उपस्थिति बहुत कम मात्रा मे होने के कारण स्तनों का विकास नहीं होता, हालांकि बाल्यवस्था में चूचुक और मण्डल स्त्री-पुरूष दोनों में एक समान होते है। बच्चे के जन्म के समय में उसके वक्षस्थल हल्के उभरे हुए हो सकते है। यदि इन उभरे हुए स्तनों को दबाया जाए तो 1-2 बूंदे दूध की भी निकलती है। यह दूध मां के इस्ट्रोजन हार्मोन के प्रभाव के कारण होता है और जिसे आम भाषा में जादूगरनी का दूध कहकर पुकारा जाता है। स्त्रियों के शरीर में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन दूध का निर्माण करता है।

वैसे दूध बनाने का प्रमुख कार्य प्रोलेक्टीन का है जो पिट्यूटी ग्रंथि से प्रसव के बाद निकलता है। स्तनों के अंदर कुछ फाइबर्स कोशिकाओं के कारण स्तन छोटे-छोटे हिस्सों में बंटा रहता है जिसमें दूध बनाने वाली ग्रंथियां होती है। यह ग्रंथियां आपस में मिलकर एक नलिका बनाती है जो निप्पल में जाकर खुलती है तथा जहां से दूध रिस्ता है। यह नलिका निप्पल के पास आकर कुछ चौड़ी हो जाती है जहां दूध भी इकट्ठा हो सकता है। स्तनों में मांसपेशियां नहीं होती। केवल एक तरह का लिंगामेंट इसे बांधे रहता है, जिसको कूपरलिगामेंट कहते है। इसलिए अधिक वजन के कारण या अच्छा सहारा न मिलने के कारण स्तन नीचे की ओर लटक जाते है।

बच्चे के जन्म के बाद स्तनपान कराना अमृत के समान होता है। बच्चे के शरीर का विकास तथा समय के अनुसार शरीर में परिवर्तन आना यह गुण मां के दूध में पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होता है। गर्भावस्था की अवधि के दौरान मां के शरीर में अधिक चर्बी जम जाती है। परन्तु मां के शरीर की चर्बी स्तनपान के साथ-साथ कम होती चली जाती है। मां अपने पहले जैसे सामान्य वजन पर आ जाती है।

चिकित्सीय महत्व[संपादित करें]

स्तन कैन्सर[संपादित करें]

स्तन कैंसर के लक्षण अक्सर सबसे पहले चूचुक और एरिओला में देखे जा सकते हैं, हालांकि सभी महिलाओं में एक जैसे लक्षण नहीं होते हैं, और कुछ लोगों में किसी भी प्रकार के संकेत या लक्षण नहीं दिखते हैं। एक व्यक्ति को नियमित मैमोग्राम के बाद पता लग सकता है कि उसे स्तन कैंसर है। चेतावनी के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • चूचुक या स्तन या बगल में नई गांठ का बनना,
  • स्तन, एरोला, या चूचुक के हिस्से का मोटा होना या सूजन होना,
  • स्तन की त्वचा में जलन या गड्ढा पड़ना,
  • चूचुक या स्तन में लाली या परतदार त्वचा,
  • चूचुक में खिंचाव या उस भाग में दर्द,
  • चूचुक से दूध के अलावा कुछ और निकलना, जैसे रक्त,
  • स्तन या चूचुक के आकार में कोई बदलाव,
  • स्तन के किसी भी हिस्से में दर्द होना,

चूचुक में कोई बदलाव होना जरूरी नहीं है कि वो स्तन कैंसर के कारण हो, अन्य कारण से भी इस तरह के लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

संक्रमण[संपादित करें]

कुछ संक्रमण चूचुक के माध्यम से भी हो सकते हैं, खासकर अगर चूचुक में जलन या चोट लगी हो। इन परिस्थितियों में, चूचुक स्वयं कैंडिडा से संक्रमित हो सकता है, जो स्तनपान करने वाले शिशु के मुंह में मौजूद होता है। जिससे शिशु संक्रमण को मां तक पहुंचा देता है। ज्यादातर समय, यह संक्रमण चूचुक के भाग में होता है। कुछ मामलों में, संक्रमण सूजन या स्तन संक्रमण का पूर्ण विकसित मामला बन सकता है। कुछ मामलों में, यदि मां को कोई चूचुक छेद या अल्सर के बिना संक्रमण है, तो भी शिशु को स्तनपान कराना सुरक्षित है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]