चींटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चींटी
Ants
सामयिक शृंखला: पूर्व चाकमय - वर्तमान
Meat eater ant feeding on honey02.jpg
मांसाहारी चींटी शहद खाते हुए
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
संघ: आर्थ्रोपोडा (Arthropoda)
वर्ग: कीट (Insecta)
गण: हायमेनोप्टेरा (Hymenoptera)
अधिकुल: फ़ोरमिकोइडीया (Formicoidea)
कुल: फ़ोरमिसिडाए (Formicidae)
लात्रेइल, 1809
अपने क्षेत्र को संरक्षित रखने के लिए बाहरी दुश्मन पर हमला करती एक चींटी

चींटी या पिपीलिका एक सामाजिक कीट है, जो फ़ोरमिसिडाए नामक जीववैज्ञानिक कुल में वर्गीकृत है। इस कुल की 12,000 से अधिक जातियों का वर्गीकरण किया जा चुका है और अनुमान है कि इसमें लगभग 10,000 और जातियाँ हैं। इनका विश्व के पर्यावरण में भारी प्रभाव है, जिसका पिपीलिकाशास्त्री गहरा अध्ययन करते हैं।[1][2]

वर्गीकरण और क्रमविकास[संपादित करें]

चींटी फ़ोरमिसिडाए कुल और हाइमेनोप्टेरा गण के अंतर्गत आती है। इसमें मधुमक्खी और वाशीभी भी शामिल हैं। एंटियल वाशिप के भीतर एक वंश से चींटियों का क्रमविकास हुआ और 2013 के एक अध्ययन से पता चला कि वे एपोइडिया की एक बहन समूह हैं। सन् 1966 में ई.ओ. विल्सन और उनके सहयोगियों ने चाकमय कल्प (क्रिटेशियस) में रहने वाले एक चींटी (स्केकेमॉर्मा) के जीवाश्म अवशेषों की पहचान की। आज से 9.2 करोड़ वर्ष पूर्व कहरुवे (ऐम्बर) में फंसे हुए नमूने में, कुछ अपशिष्टों में पाया गया है, लेकिन आधुनिक चींटियों में पाया नहीं गया है। स्पैकोमिमा संभवत: एक भूरा था, जबकि हेमीमिरमेक्स और हैडोमिरमोड्स, सबफ़ैमली स्पेलकोमिमाइनी में संबंधित पीढ़ी, सक्रिय पौधों के शिकारियों के रूपमें पुनर्निर्मित हैं।

जीनस स्पाइकोमिरेड्स में पुराने चींटियों को म्यांमार से 9.9 करोड़ वर्षीय कहरुवे में पाया गया है। लगभग 10 करोड़ वर्ष पहले फूलदार पौधों के उदय के बाद, वे लगभग 6 करोड़ वर्ष पूर्व पारिस्थितिक प्रभुत्व को विविध और ग्रहण कर चुके थे। कुछ समूहों, जैसे लपटानिलिने और मार्शिआनी, को प्रारंभिक आदिम चींटियों से अलग करने का सुझाव दिया जाता है, जो मिट्टी की सतह के नीचे शिकारियों की संभावना थी। चाकमय अवधि के दौरान, आदिम चींटियों की कुछ प्रजातियां लौरासियन अतिमहाद्वीप (उत्तरी गोलार्ध) पर व्यापक रूप से फैली हुई थीं। वे अन्य कीटों की आबादी की तुलना में दुर्लभ थे, और पूरी कीट आबादी का केवल 1% का प्रतिनिधित्व करते थे। पेलेोजेन कालकी शुरुआत में अनुकूली विकिरण के बाद चींटियों का प्रभाव बढ़ गया। ओलिगोसीन और माओसिन द्वारा, चींटियों के प्रमुख जीवाश्म जमाओं में पाए गए सभी कीड़ों के 20-40% का प्रतिनिधित्व करने के लिए आ गया था। प्रजातियों में से जो इओसीन युग में रहते थे, वर्तमान में 10 प्रजातियों में से एक जीवित रहते हैं। आज जीना में बाल्टिक एम्बर जीवाश्मों (प्रारंभिक ओलिगोसीन) में 56% पीढ़ी और डोमिनिकन एम्बर जीवाश्म (जाहिरा तौर पर जल्दी मिओसीन) में 9 2% प्रजाति शामिल है। दीमक, हालांकि उन्हें कभी-कभी 'सफेद चींटियों' कहा जाता है, जीववैज्ञानिक दृष्टि से चींटियाँ नहीं हैं।

संचार,संवाद[संपादित करें]

चीटिया ध्वनिया और स्पर्श का उपयोग करके एक दूसरे से संवाद करती है रासायनिक संकेतों के रूप में फेरोमोन का उपयोग चींटियों में अधिक विकसित होता है।  अगर चीटियों को कोई संकट का आभास हुआ तो वे फेरोमोन नामक रासायनिक द्रव का उत्सृजन करती है जो बाकी चीटीओ को चौकन्ना करती है । फेरोमोन का आदान-प्रदान भी किया जाता है जिनमे वे भोजन के इस्तेमाल में करती है इसी तरह अपने बने हुए कॉलोनी  के भीतर सुचना पहुचायी जाती है जिससे अन्य चीटियों को पता लगता है की भीतर की चीटिया किस काम में व्यस्त है । (जैसे, चारा या घोंसला रखरखाव) से संबंधित काम .

कई प्रजातियों में जब मादा रानी चींटी फेरोमोन का उत्पादन बंद कर देती है तो अन्य सदस्य चीटिया नई रानीयो को पालना शुरू कर देते है।  जब चीटिया खाद्य स्त्रोत की और मार्ग पर रहती है तो जब भी अचानक मार्ग पर बाधा आती है तब सवसे आगे वाली चीटिया नए और आसान रास्तो पर  चलने के लिए बाकियो को निशाँन छोड़ती है।  बेहतर मार्गों को मजबूत करती हैं और धीरे-धीरे सर्वोत्तम मार्ग की पहचान करती हैं।

चित्रदीर्घा[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Deborah Gordon (2010). Ant Encounters Interaction Networks and Colony Behavior. New Jersey: Princeton University Press. p. 143. ISBN 978-0691138794.
  2. Sleigh, Charlotte (2007) Six legs better : a cultural history of myrmecology. The Johns Hopkins University Press. ISBN 0-8018-8445-4