चर्च कानून

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चर्च कानून या कैनन लॉ (Canon law) उन नियम और कानूनों के समूह को कहते हैं जो चर्च आदि धार्मिक संस्थाओं के संचालन के लिए चर्च नेतृत्व द्वारा बनाए गये हैं।

सामाजिक प्रभाव[संपादित करें]

चूँकि सामाज का एक वर्ग चर्च कानून को मानता है, इसलिए इस कानून का समाज और मानव रिश्तों पर गहरा प्रभाव पड़्ता है। इसी की एक मिसाल इंडियानापोलिस इपिस्कपल चर्च है जिसने अमरीका में समलैंगिक संबंधों को आशीर्वाद देने वाला अमरीका का सबसे बड़ा सम्प्रदाय बन गया है क्योंकि इस रिश्ते को वहाँ के समाज ने पहले ही स्वीकार कर लिया है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]