गुजरात राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

गुजरात में वर्ष 1986 में पहली बार एड्स रोगी का निदान किया गया था, उसी वर्ष में जिसमें देश में एड्स के पहले मामले की सूचना मिली थी। पहले राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम (एनएसीपी) के चरण के कार्यान्वयन के लिए एक राज्य एड्स सेल (एसएसी) दिसंबर 1992 में बनाया गया था। अंतर - क्षेत्रीय समन्वय के माध्यम से एड्स की रोकथाम के लिए कार्यक्रम के शीघ्र और प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए गैर-सरकारी संगठनों को शामिल करने की दृष्टि से, राज्य एड्स अधिकार कमिटी को पंजीकृत करने का फैसला किया था। भारत सरकार भी इस कार्यक्रम के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी का गठन एनएसीपी के दूसरे चरण में मंज़ूर किया जो अप्रैल 1999 से शुरू हुआ। तब से राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम गुजरात राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी (GSACS) के माध्यम से कार्यान्वित किया जा रहा है।[1]

राष्ट्रीय महिला एवं बाल विकास संस्था के सहयोग से कार्यों को संपन्न करना[संपादित करें]

राष्ट्रीय महिला एवं बाल विकास संस्था (NIWCD) सूरत शहर के सिविल अस्पताल की स्वेच्छित परामर्श एवं प्रशिक्षण केंद्र के कार्यों को शुरू किया। समर्थन परामर्श के रूप में एचआइवी / एड्स के क्षेत्र में गतिविधियों शुरू की गयी हैं। संस्था यौन कामगारों को पी एस एम पी एस एच परियोजना पारस के तहत गैर - सरकारी संगठनों का भी समर्थन और प्रौढ़ शिक्षा और व्यापारिक यौन कामगारों के शिल्प प्रशिक्षण में योगदान किया है और उनके बच्चों को शैक्षिक समर्थन की प्रक्रिया में मदद की है। परामर्श और एचआइवी / एड्स परामर्श की कला पर एक गुजराती पुस्तक राष्ट्रीय महिला एवं बाल विकास संस्था द्वारा प्रकाशित की गयी थी और समय की अवधि में उसी के तीन संस्करण प्रकाशित किए गए थे। इंस्टीटयूट दक्षिण गुजरात में गुजरात राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के कॉलेजों में और एचआइवी / एड्स जागरूकता और जीवन कौशल शिक्षा के लिए मलिन बस्तियों कर रहा है।[2]


गुजरात में बढ़े एचआईवी के मरीज[संपादित करें]

राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) के अनुमान में बताया गया है कि इस रोग के कम ग्रस्त होने वाले राज्यों में शामिल गुजरात में पिछले दो वर्ष के दौरान एचआईवी के नए मामले में साधारण बढ़ोतरी हुई है। नाको ने बताया है कि वर्ष 2009 में 1.2 लाख नए संक्रमण का अनुमान है। सबसे ज्यादा प्रभावित छह राज्यों में 39 फीसदी मामले दर्ज किए गए जबकि उड़ीसा, बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात में 41 प्रतिशत नए मामले दर्ज किए गए हैं। इसका कारण शहरीकरण और काम के लिए दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया गया है।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Gujarat State AIDS Control Society". Gujarat State AIDS Control Society. अभिगमन तिथि 11 जुलाई 2012.
  2. "Training of Staff Nurses on HIV/AIDS Counseling and testing centers (GSACS)". NIWCD. अभिगमन तिथि 11 जुलाई 2012.
  3. "गुजरात में बढ़े एचआईवी के मरीज". Web Dunia Hindi. अभिगमन तिथि 11 जुलाई 2012.