गामा जॅमिनोरम तारा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मिथुन तारामंडल (फ़्रांसीसी में) - गामा जॅमिनोरम 'γ' के चिह्न द्वारा नामांकित तारा है

गामा जॅमिनोरम (γ Gem, γ Geminorum), जिसका बायर नाम में भी यही है, मिथुन तारामंडल का दूसरा सब से रोशन तारा है (पुनर्वसु-पॅलक्स तारे के बाद)। यह पृथ्वी से दिखने वाले सभी तारों में से ४१वाँ सब से रोशन तारा है। यह हमसे १०५ प्रकाश-वर्ष की दूरी पर स्थित है और पृथ्वी से इसका औसत सापेक्ष कांतिमान (यानि चमक का मैग्निट्यूड) १.९ है। वास्तव में यह एक द्वितारा है।[1]

अन्य भाषाओं में[संपादित करें]

गामा जॅमिनोरम को अंग्रेज़ी में "ऐल्हेना" (Alhena) भी कहा जाता है। यह अरबी भाषा के "अल-हना'आह" (الهنعه‎) से लिया गया है जिसका अर्थ "ऊँट की गर्दन पर लगाया गया पहचान चिह्न" है।

वर्णन[संपादित करें]

गामा जॅमिनोरम द्वितारे का मुख्य तारा एक A0 IV श्रेणी का उपदानव तारा है। इसकी निहित चमक (निरपेक्ष कान्तिमान) सूरज की १६० गुना है। इसका द्रव्यमान हमारे सूरज के द्रव्यमान का लगभग २.८ गुना और व्यास हमारे सूरज के व्यास का ४.४ गुना है। इसकी सतह का तापमान लगभग ९,७५० कैल्विन है। इसका साथी तारा एक G श्रेणी का धुंधला-सा तारा है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Harry John Philip Arnold, Paul Doherty, Patrick Moore. "The Photographic Atlas of the Stars". CRC Press, 1999. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780750306546.