कैनबिस (ड्रग)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कैनबिस
Cannabis sativa Koehler drawing.jpg
Common hemp
वैज्ञानिक वर्गीकरण
Kingdom: पादप
कुल: कैनाबीसी
वंश: कैनबिस
L.
प्रजातियाँ [1]
कैनबिस का पौधा


कैनबिस भांग के पौधे से तैयार किया जाता है जिसे एक प्सैकोएक्टिव ड्रग या औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है। कैनबिस को मारिजुआना, गांजा और भांग के नामों से भी पुकारा जाता है। कैनबिस का मुख्य प्सैकोएक्टिव हिस्सा टेट्राहैड्राकैनबिनोल (टी.एछ.सी) होता है; यह ४८३ यौगिकों में से एक है, कम से कम 84 अन्य कैनाबिनोइड सहित, जैसे कैनाबिओल (सी.बी.डी), कैनबिनोल (सी.बी.एल), और टेट्राहैड्रोकैनबिवरिन (टी.एछ.सी.वी)।

कैनबिस भांग अक्सर अपने मानसिक और शारीरिक प्रभाव के लिए लिया जाता है, जैसे बढा मनोदशा, विश्राम, और भूख बढना। अल्पकालिक स्मृति में कमी होना, शुष्क मुँह, बिगड़ा मोटर कौशल, लाल आँखें और व्यामोह की भावनाओं संभावित दुष्प्रभाव हैं। जब धुआं से लिया जाता है तो प्रभाव की शुरुआत बहुत जल्दी होता है। जब खाया जाता है, तब प्रभाव की शुरुआत तीस मिनट के बाद होता है। प्रभाव दो से छः घंटे रहता है।

कैनबिस ज्यादातर विश्राम के लिए या एक औषधीय दवा के रूप में उपयोग किया जाता है। यह धार्मिक या आध्यात्मिक संस्कार के हिस्से के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। २०१३ इस्वी में १२८०-२३२० लाख लोगों ने कैनबिस का इस्तेमाल किये। २०१५ इस्वी में, अमरीका के आधे जनसंख्या भांग का प्रयोग किया था। उसमें से %१२ पिछले वर्ष में, और %७.३ पिछले महीने में। कैनबिस का उपयोग २०१३ से बहुत बढ गया है।

कैनबिस के उपयोग के बारे में सबसे पहला लिखा हुआ तारीख तीसरी सहस्राब्दी बी.सी में है। बीसवी सदी के शुरु से ही, भांग कानूनी प्रतिबंध के अधीन कर दिया गया है। भांग के कब्जे , उपयोग और बिक्री जिसमें प्सैकोएक्टिव कैनबिनोइड्स होता है, वह ज़्यादातर सब देशों में अवैध है। युनाइटड नेषन्स ने कहाँ है कि भांग दुनिया के सबसे ज़्यादा उपयोग किया गया अवैध ड्रग है। मेडिकल कैनबिस वह कैनबिस को पुकारा जाता है जो डॉक्टरों लिखके देते हैं। मेडिकल कैनबिस का इस्तेमाल केनडा, बेलजियम, औस्ट्रेलिया, नेधर्लेंड्स, स्पैन और अम्रीका के २३ स्टेटों में होता है। पिछले कुछ वषों से कैनबिस का प्रयोग और वैधीकरण के लिए समर्थन, दुनियाभर बढ रही है।

उपयोग[संपादित करें]

चिकित्सा संबन्धी[संपादित करें]

कैनबिस कीमोथेरेपी के वक्त मतली और उल्टी कम करने के लिए प्रयोग किया जाता है। कैनबिस को एचआईवी / एड्स के रोगियों में भूख सुधार करने के लिए और मांसपेशियों की ऐंठन के साथ मदद करने के लिए भी प्रयोग किया जाता है। अल्पकालिक उपयोग बढ़ जाती नाबालिग प्रतिकूल प्रभाव है, लेकिन प्रमुख प्रतिकूल प्रभाव बढ़ाने के लिए प्रकट नहीं होता है।

Bodily effects of cannabis.svg
मनोरंजन[संपादित करें]

भांग के उपयोग में प्साइकोएक्टिव और मनोवैज्ञानिक प्रभाव होते हैं। भांग लेने से तत्काल वांछित प्रभाव छूट और हल्के उत्साह होता है। कुछ तत्काल अवांछित दुष्प्रभाव आंखों की लाल होना, अल्पकालिक स्मृति में कमी , शुष्क मुँह और बिगड़ा मोटर कौशल होना भी शामिल है।

आध्यात्मिक[संपादित करें]

कैनबिस कई धर्मों में पवित्र स्थिति आयोजित किया गया है। यह एक एन्थियोजेनिक संदर्भ में इस्तेमाल किया गया है। भांग एक धार्मिक, शामेनिक, या आध्यात्मिक संदर्भ में इस्तेमाल किया गया है। भारत और नेपाल में, वेदिक काल लगभग १५०० ईसा पूर्व में वापस से भांग का प्रयोग हो रहा है। ग्रीक पौराणिक कथाओं में पीड़ा और दु:ख का सफाया करने के लिए एक शक्तिशाली दवा के कई संधर्ब हैं। घुमंतू हिंदू संतों सदियों के लिए नेपाल और भारत में इसे इस्तेमाल किये हैं। आधुनिक संस्कृति में भांग की आध्यात्मिक उपयोग रस्ताफ़री आंदोलन के शिष्यों द्वारा फैल गया है, जो भांग को संस्कार और ध्यान के लिए एक सहायता कि तरह प्रयोग करते हैं।

भांग लेने की रुपों[संपादित करें]
  • धूम्रपान जो आम तौर पर वाष्पीकृत कैनाबिनोइड इन्हेलिंग शामिल, छोटे पाइप, बॉन्ग से, कागज लपेटा जोड़ों या तंबाकू की पत्ती लिपटे ब्लण्ट्स, और अन्य मदों।
खोलकर भांग
  • वेपराइज़र १६५-१९० डिग्री सेल्सियस के लिए भांग के किसी भी रूप तपता है, जिससे सक्रिय तत्व के कारण संयंत्र सामग्री जल के बिना एक भाप में लुप्त हो जाता है।
  • भांग चाय THC एक तेल है जिसकी वजह से THC के अपेक्षाकृत छोटे सांद्रता शामिल होता है, और केवल थोड़ा पानी में घुलनशील है। भांग चाय पहले कुछ भांग के साथ गर्म पानी के साथ एक संतृप्त वसा जोड़कर बनाया जाता है।
  • खाद्य, जहां भांग खाद्य पदार्थ , सहित मक्खन और पके हुए माल की एक किस्म में से एक के लिए एक घटक के रूप में जोड़ा जाता है।

संदर्भों[संपादित करें]

https://en.wikipedia.org/wiki/Cannabis_(drug)

  1. Geoffrey William Guy; Brian Anthony Whittle; Philip Robson (2004). The Medicinal Uses of Cannabis and Cannabinoids. Pharmaceutical Press. पृ॰ 74–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-85369-517-2.