कृष्ण गीतावली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कृष्ण गीतावली गोस्वामी तुलसीदास की एल लघु काव्य कृति है। इसमें ६१ पदों के माध्यम से कृष्ण चरित को काव्य का विषय बनाया गया है। यह ग्रन्थ ब्रजभाषा में है -

कबहुं न जात पराए धाम ही।
खेलत ही निज देखों आंगन सदा सहित बलराम ही। ।

बाहरी कड़ियाँ[स्रोत सम्पादित करें]