कार्ल मेंगर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जन्म स्थान[संपादित करें]

मेंगर, नौवी सैक्ज, के शहर में पैदा हुआ था, जो अब पोलैंड में स्तिथ है। वह नाबालिग बड़प्पन के एक धनी परिवार का बेटा था; उसके पिता, एंटोन, एक वकील थे। उनकी मां, कैरोलीन,एक धनी बोहीमियन व्यापारी, की बेटी थी। उनके पुत्र, कार्ल मेंगर, एक गणितज्ञ थे, जो प्रौद्योगिकी के इलिनोइस संस्थान में कई वर्षों के लिए सिखाया था।

शिक्षा[संपादित करें]

व्यायामशाला में भाग लेने के बाद,वह प्राग और वियना विश्वविधयालय में कानून का अध्ययन किया और उसके पश्चात, क्राकौव में स्तिथ, जगिएल्लोनिअन विश्वविद्यालय से न्यायसशास्त्र में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। १८६० के दशक में, मेंगर ने स्कूल छोड़ दिया और एक पत्रकार रिपोटि॔ंग और विश्लेषण बाजार में खबर के रूप में कार्यकाल का आनंद लिया।

काम[संपादित करें]

अपने अखबार काम के दौरान, उन्होने,अपने स्कूल में पढाया गया शास्त्रीय अर्थशास्त्र और जो असली दुनिया के बाजार प्रतिभागियों का मानने में बहुत अंतर देखा। १८६७ में, मेंगर ने राजनीतिक अर्थव्यवस्था का एक अध्ययन शुरू किया और अपने सिद्धांतों के साथ १८७१ में समापन हुआ। इस प्राकार वे आर्थिक विचारों की ऑस्ट्रियाई स्कूल के पिता बने। वे इस काम के दौरान अपने मर्गिनलिटी के सिद्धन्तो के साथ शास्त्रीय लागत आधारित मूल्य के सिद्धांतों को चुनौती दी। और ये कहा कि उस कीमत के मार्जिन पर चुना गया हैं। १८७२ मे, मेंगर, वियेना विश्वविद्यलय में विधि संकाय में दाखिला लिया। वे आगे कि कई साल वित्त और राजनीतिक अर्थव्यवस्था पढाने में खर्च कर दिये। वे सेमिनार और व्याख्यन् दोनो रूप में अपने बढती छात्रों को पढाते थे। १८७३ में वे अपने ३३साल के कम उम्र में ही आर्थिक सिद्धांत विश्वविद्यालय की कुर्सी प्राप्त किया।

युवराज आर्कडयूक रुडोल्फ् हैब्सबर्ग का शिक्षण[संपादित करें]

१८७६ में मेंगर ने आर्कडयूक रुडोल्फ् हैब्सबर्ग, ऑस्ट्रिया के राजनीतिक अर्थव्यवस्था और आँक्डों के युवरज को पढाने लगे। वे २ साल् तक अपनी यात्रा पहली महद्वीपिय यूरोप के माध्यम से और फिर बाद में ब्रिटिश द्विपों के माध्यम से युवरज के साथ थे। कहा जाता हे के उन्होने १८७८ में एक पुस्तिका कि रचना को गुमनाम रूप में प्राकाशित करने में युवराज कि मदद की। ये उच्च ऑस्ट्रिया के अभिजात वर्ग के लिये समालोचनात्मक था। युवराज के साथ उनका संबंध १८८९ में रुडोल्फ् के आत्महत्या तक हि था।

प्राध्यापक का पद[संपादित करें]

१८७८ में रुडोल्फ के पिता, सम्राट फ्रांज जोसेफ ने, वियना में राजनीतिक अर्थव्यवस्था के कुर्सी के लिए मेंगर को नियुक्त किया गया था। 'होफ्रात' के खिताब से उनको सम्मानित् किया गया था। और उन्को १९०० में ऑस्ट्रिया के Herrenhaus (हेर्रेन्हौस) के लिए नियुक्त किया गया था। अपने प्रोफेसर के पद पर विराजमान,मेंगर, चल पडे संशोधन करते हुए और् अपाने तरिकों व सिद्धांतो का प्रतिवाद करते हुए। इस्के परिणामस्वरूप अर्थशास्त्र के विशेष स्ंदर्भ में सामाजिक विज्ञान की विधि की जांच का प्रकाशन किया गया था १८८३ मे। अवधि विशेष रूप से एक प्रतिकूल आलोचना में इस्तेमाल किय गया था। इस किताब ने बहुत कलबली मचा दी थी।

ऐतिहासिक स्कूल के सदस्यों ने उपहासपूर्वक फोन लगा कर् मेंगर और उनके छात्रों को 'ऑस्ट्रियन स्कूल' केह्ने लगे।

बहस का शुभार्ंभ[संपादित करें]

१८८४ में मेंगर ने पैम्फलेट के साथ जवाब दिया और येतिहासिक स्कूल और ऑस्ट्रिया के स्कूल के बीच में एक बहस का शुभार्ंभ हुआ। इस समाय के दौरान उन्होने एक जैसे सोच वाले छात्रों को आकर्षित करना शुरु किया, जो आगे चल कर अपना छाप बनायेंगे। १८८० के अंत में, मेंगर को एक आयोग का प्रमुख नियुक्त किया गया ऑस्ट्रिया मौद्रिक प्राणाली में सुधार लाने के लिये। अगले दशक के दौरान उन्होने 'राजधानी की थ्योरी' और 'मनी' लिखा।

[1] इस्तीफा[संपादित करें]

काफी हद तक जर्मन की स्थिति के बारे में अपने नीराशावाद के कारण मेंगर ने १९०३ में अप्ने प्रोफेसर पद से इस्तीफा दिया और अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करने लगे।

  1. http://www.econlib.org/library/Enc/bios/Menger.html