कवकनाशी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

कवकनाशी जैविक रासायनिक यौगिक या जैविक जीव हैं जिनका उपयोग परजीवी कवक या उनके बीजाणुओं को मारने के लिए किया जाता है। [1] एक कवकनाशी उनके विकास को रोकता है। कवक कृषि में गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप उपज, गुणवत्ता और लाभ का गंभीर नुकसान हो सकता है। कवकनाशी का उपयोग कृषि में और पशुओं में फंगल संक्रमण से लड़ने के लिए किया जाता है। ओमीसाइकेट्स को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रसायन, जो कवक नहीं हैं, उन्हें कवकनाशी भी कहा जाता है, क्योंकि ओमीसाइकेट्स पौधों को संक्रमित करने के लिए कवक के समान तंत्र का उपयोग करते हैं। [2] कवकनाशी या तो संपर्क, अनुवादक या प्रणालीगत हो सकते हैं। संपर्क कवकनाशी पौधे के ऊतकों में नहीं जाते हैं और केवल उस पौधे की रक्षा करते हैं जहां छिड़काव किया जाता है। ट्रांसलामिनार कवकनाशी कवकनाशी को ऊपरी, छिड़काव वाली पत्ती की सतह से निचली, बिना छिड़काव वाली सतह पर पुनर्वितरित करते हैं। प्रणालीगत कवकनाशी को लिया जाता है और जाइलम वाहिकाओं के माध्यम से पुनर्वितरित किया जाता है। कुछ कवकनाशी पौधे के सभी भागों में चले जाते हैं। कुछ स्थानीय रूप से प्रणालीगत हैं, और कुछ ऊपर की ओर बढ़ते हैं।

ऐसे रसायन या जीव जो कवक को मारने या कम करने में सहायक होते हैं, कवकनाशी या फफूंदनाशी (Fungicides) कहलाते हैं। कवक कृषि को भारी क्षति पहुँचा सकते हैं। इसलिये कृषि में फफूंदों से लड़ने के लिये कवकनाशी उपयोग में लाये जाते हैं। इसके अलावा कवकनाशियों का उपयोग मानव एवं अन्य जन्तुओं में कवक संक्रमण से लड़ने के लिये भी किया जाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]