कनकदास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कनक दास (1509 – 1609) महान सन्त कवि, दार्शनिक, संगीतकार तथा वैष्णव मत के प्रचारक थे। उनकी गणना आचार्य माधव के अनुयायियों में होती है जिनमें मुख्य नाम नरहरि तीर्थ, श्रीपाद तीर्थ, व्यास तीर्थ, वादि राज, पुरन्दर दास, राघवेन्द्र तीर्थ, विजय दास, गोपाल दास आदि हैं। ये सभी परम ज्ञानी सन्त थे।

कनक दास का जन्म कर्णाटक में धारवाड़ जिले के बंकापुर गांव में बीर गौडा और बचम्मा के गड़रिया परिवार में हुआ था।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]