ओसिरिस मिथक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दाएँ से बाएँ: ईसिस, उनका पति ओसिरिस, और उनका बेटा होरस, बाइसवें राजवंश की प्रतिमा में ओसिरिस मिथक के मुख्य पात्र

ओसिरिस मिथक प्राचीन मिस्र के पौराणिक कथाओं में सबसे व्यापक और प्रभावशाली कहानी हैं। यह भगवान ओसिरिस, मिस्र के एक आदिम राजा, और उनकी हत्या के परिणामों से संबंधित है। ओसिरिस के कातिल, उसके भाई सेत, उनका सिंहासन हड़प लेता हैं। इस बीच, ओसिरिस की पत्नी ईसिस अपने पति के शरीर को पुनर्स्थापित करती है व मरणोपरांत उससे एक बेटा गर्भ धारण करती है।  कहानी का शेष हिस्सा होरस पर केंद्रित रहता हैं, जो ओसिरिस और ईसिस के संगम का परिणाम हैं, और जो प्रथम तो अपनी माँ द्वारा संरक्षित कमज़ोर बालक रहता हैं, परन्तु बाद में सिंहासन के लिए सेत का प्रतिद्वंद्वी बनता हैं। उनके अक्सर हिंसक संघर्ष, होरस  की जीत के साथ समाप्त होते हैं, जो सेत के महरूम शासनकाल के बाद, मिस्र में व्यवस्था पुनर्स्थापित करते हैं और ओसिरिस के पुनस्र्ज्जीवन की प्रक्रिया पूर्ण करते हैं। अपने जटिल प्रतीकों के साथ, यह मिथक शाशन और उत्तराधिकार की, व्यवस्था और अव्यवस्था के संघर्ष की, तथा विशेष रूप से मृत्यु और पुनर्जन्म की मिस्र की धारणाओं का अभिन्न हिस्सा हैं। इसके मध्य के चारों देवताओं में से प्रत्येक का आवश्यक स्वरुप यह व्यक्त करता हैं, और प्राचीन मिस्र के धर्म में उनकी पूजा के कई तत्त्व इस मिथक से लिए गए हैं। 

रूपरेखा[संपादित करें]

ओसिरिस की मृत्यु और पुनस्र्ज्जीवन[संपादित करें]

होरस का जन्म और बचपन[संपादित करें]

होरस और सेत का संघर्ष[संपादित करें]

उत्पत्ति[संपादित करें]

प्रभाव[संपादित करें]

ओसिरिस और अंत्येष्टि अनुष्ठान[संपादित करें]

सेत[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]