ओनीगिरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ओनिगिरी

ओनिगिरी, जिसे ओ-मुसुबी, निगिरी या चावल के गोले जाना जाता है, एक जापानी भोजन है। इसे सफेद चावल से बनाया जाता है और इसे अंडाकार या त्रिकोणीय आकार दिया जाता है और अक्सर नोरी (समुद्री शैवाल) से बांधा जाता है। परंपरागत रूप से, इसका उपयोग सामन, उमबोसी, कैतासुशी, ताराको या किसी भी खट्टी मलाईदार सामग्री के लिए एक सुरक्षात्मक मसाले के रूप में किया जाता है। अधिकांश जापानी सुविधा स्टोर विभिन्न भरावों और स्वादों के साथ अपनी ऑनिगिरी को बनाते हैं। जापान में विशेष दुकानें भी हैं जो केवल 'टेकआउट' (बना भोजन जिसे बाहर लेजा कर खाया जाता है) के लिए ओनिगिरी बेचती हैं। जापान में इस प्रवृत्ति की लोकप्रियता के कारण, ओनिगिरी दुनिया भर में जापानी रेस्तरां में एक लोकप्रिय भोजन बन गया है।

आम गलतफहमी के बावजूद, ओनिगिरी सुशी का एक रूप नहीं है। ओनिगिरी को सादे चावल (कभी-कभी हल्के नमक) के साथ बनाया जाता है, जबकि सुशी को सिरका, चीनी और नमक दाल कर चावल से बनाया जाता है।[1] ओनिगिरी चावल को पोर्टेबल और खाने में आसान बनाने के साथ-साथ उसे संरक्षित भी करता है, जबकि सुशी की उत्पत्ति मछली के संरक्षण के एक तरीके के रूप में हुई है।

दुकान में ओनिगिरी

इतिहास[संपादित करें]

मुरासाकी शिकिबु की 11 वीं शताब्दी की डायरी मुरासाकी शिकीबु निक्की में, वह चावल की पिन्नी खाने वाले लोगों के बारे में लिखती है।[2][3] उस समय, ओनिगिरी को तोनीजिकी कहा जाता था और अक्सर बाहरी पिकनिक लंच में खाया जाता था।[4] अन्य जगह लिखा गया है , जहाँ तक सत्रहवीं शताब्दी की बात है, में कहा गया है कि युद्ध के दौरान समुराई भोजन में बांस की चादर में लिपटे चावल के गोले खाते थे, लेकिन ओनिगिरी की उत्पत्ति लेडी मुरासाकी से भी पहले की है। चॉपस्टिक के प्रसिद्ध होने से पहिले नारा अवधि में, चावल को अक्सर एक छोटी के रूप में खाया जाता था ताकि इसे आसानी से उठाया जा सके। हीयन काल में चावल को छोटे आयताकार आकार में भी बनाया जाता था, जिसे टोनजिकी के रूप में जाना जाता था ताकि उन्हें एक प्लेट पर आसानी से डाला जा सके और आसानी से खाया जा सके।

टोक्यो की ओनिगिरी

बड़े पैमाने पर विनिर्माण[संपादित करें]

1980 के दशक में त्रिकोणीय ओनिगिरी बनाने वाली मशीन का अविष्कार किया गया था। अंदर भरने को रोल करने के बजाय, स्वाद को ओनिगिरी के एक छेद में डाल दिया गया था और छेद को नोरी द्वारा लपेटा जाता था।चूँकि इस मशीन द्वारा बनाई गई ओनिगिरी नोरी के साथ पहले से ही चावल की पिन्नी पर लगी लगाई आती थी, समय के साथ नोरी नम और चिपचिपी बन गई और चावल से चिपक गई। उसके बाद इक अलग तरह ही पैकिंग आने लग गई जिससे नोरी को चावल से अलग से संग्रहीत रखा जा सकता था। खाने से पहले नोरी का पैकेट खोल सकता था और ओनिगिरी को उससे लपेट सकता था। ओनिगिरी को भरने के लिए एक छेद के उपयोग करके ओनिगिरी के नए स्वादों को उत्पादन करना आसान बन गया क्योंकि इस खाना पकाने की प्रक्रिया और सामग्री में बदलाव की आवश्यकता नहीं थी। आधुनिक यंत्रवत् द्वारा पैक ओनिगिरी को विशेष रूप से मोड़ा जाता है तांकि प्लास्टिक रैपिंग नॉरी और चावल के बीच एक नमी अवरोधक के रूप में कार्य करे। जब पैकेजिंग को दोनों सिरों पर खोला जाता है, तो नोरी और चावल संपर्क में आते हैं।

चावल[संपादित करें]

आमतौर पर, ओनिगिरी को उबले हुए सफेद चावल के साथ बनाया जाता है पर कभी-कभी विभिन्न प्रकार के पके हुए चावल के साथ भी बनाया जाता है, जैसे:

  • ओ-कोवा या कोवा-मेशी (सेकीहान): सब्जियों के साथ पके हुए चावल / उबले हुए (लाल बीन्स)
  • मेज़-गोहान ("मिश्रित चावल"): पका हुआ चावल पसंदीदा सामग्री के साथ मिलाया जाता है
  • तले-भुने चावल

भरावट[संपादित करें]

उमिबोशी, ओकाका, या तुस्कुदानी लंबे समय से अक्सर ओनिगिरी के लिए भरने के रूप में उपयोग किए जाते हैं। आमतौर पर, पूर्व-अनुभवी चावल (ऊपर देखें) के साथ बनाई गई ओनिगिरी सामग्री से नहीं भरी जाती। विशिष्ट भरण नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • नमक
  • मेयोनेज़ के साथ ट्यूना, मेयोनेज़ के साथ झींगा, आदि।
  • सूखी मछली: भुना हुआ और कद्दूकस किया मैकेरल (鯖), जापानी हॉर्स मैकेरल (鰺), आदि।
  • तले हुए खाद्य पदार्थ: छोटे आकार के टेम्पुरा, कटलेट
  • काकुनी: डोंगपो पोर्क
  • सूखा भोजन: ओकाका, आदि।
  • प्रोसेस्ड रो: मेंटाइको, टोबिको, कैवियार आदि।
  • श्योकारा: स्क्वीड, शोटो, आदि।
  • त्सुकुदानी: नोरी, हाइपोप्टीचस डाइबोव्स्की (小女子), वेनारुपिस फिलीपिनारम (浅蜊), आदि।
  • मसालेदार फल और सब्जियां: उमेबोशी, ताकाना, नोज़ावाना आदि।
  • मिसो: कभी-कभी हरे प्याज के साथ मिलाया जाता है और भुना जाता है

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Murata, Yoshihiro; Kuma, Masashi; Adrià, Ferran (2006). Kaiseki: the exquisite cuisine of Kyoto's Kikunoi Restaurant. Kodansha International. पृ॰ 162. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 4-7700-3022-3.
  2. Ikeda, Kikan; Shinji Kishigami; Ken Akiyama (1958). Koten Bungaku Taikei 19: Makura no Sōshi, Murasaki Shikibu Nikki. Tōkyō: Iwanami Shoten. पृ॰ 455. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 4-00-060019-2.
  3. Hasegawa, Masaharu; Yūichirō Imanishi (1989). Shin Koten Bungaku Taikei 24: Tosa Nikki, Kagerō Nikki, Murasaki Shikibu Nikki, Sarashina Nikki. Tōkyō: Iwanami Shoten. पृ॰ 266. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 4-00-240024-7.
  4. A Taste of Japan, Donald Richie, Kodansha, 2001, ISBN 4-7700-1707-3