एम्सटर्डम संधि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एम्सटर्डम संधि के ज़रिए यूरोपीय संघ का विस्तार पूर्वी क्षेत्र की तरफ़ करने की शुरूआत की गई। कुछ और देशों के वीटो अधिकार ख़त्म किए गए। रोज़गार और भेदभाव पर क़ानून और सख़्त किए गए माश्ट्रिश्ट संधि का सामाजिक नीति का अध्याय अब यूरोपीय संघ के क़ानून का हिस्सा बना दिया गया। शेंगेन समझौता ने भी क़ानूनी रूप ले लिया हालाँकि ब्रिटेन और आयरलैंड इससे अब भी बाहर रहे। इससे आव्रजन और शरण लेने के मुद्दों पर यूरोपीय संघ को और ज़्यादा कहने का अधिकार मिल गया।