एमवे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


एमवे सीधे बिकरी के मॉडल का इस्तेमाल कर फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) बेचती है। इस मॉडल के तहत ग्राहकों को ही कंपनी का एजेंट बनाया जाता है, जो दूसरे लोगों को सीधे तौर पर प्रोडक्ट बेचते हैं। एजेंट के बाद ग्राहक बनने वाले इन लोगों को सीधे तौर पर कमिशन नहीं मिलता। उन्हें सेल्स के जरिए दूसरे लोगों को शामिल करना होता है। कंपनी बोनस और रिवॉर्ड देने के लिए प्वाइंट सिस्टम रखती है।[1]

कम्पनी का स्थान[संपादित करें]

यह कंपनी कमाई के मामले में प्रॉक्टर ऐंड गैंबल, जिलेट जैसी दिग्गज विदेशी और इमामी जैसी देसी एफएमसीजी कंपनी से कहीं आगे हैं। अब तो यह जीएसके कंज्यूमर हेल्थकेयर, गोदरेज कंज्यूमर प्रोडक्ट्स और मैरिको के भी करीब पहुंच रही है। अनूठी बात यह है कि ऊपर बताई गई सभी कंपनियों से उलट यह कंपनी रिटेल शृंखला की मदद लेने के बजाय सीधे ग्राहकों के घर सामान पहुंचाती है।[2]

विवाद[संपादित करें]

मई 2013 के अंत में इसके मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ विलियम एस पिंकने और दो कंपनी डायरेक्टरों को केरल में प्राइज चिट्स एंड मनी सर्कुलेशन स्कीम्स (बैनिंग) एक्ट, 1978 के तहत गिरफ्तार किया गया। उनको बाद में बेल पर छोड़ा गया।[3]


सन्दर्भ[संपादित करें]