एमएसटीसी लिमिटेड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एमएसटीसी लिमिटेड (MSTC Limited) भारत सरकार के इस्पात मंत्रालय के अधीन 'मिनि रत्न' श्रेणी का सर्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है। इसकी स्थापना ९ सितम्बर १९६४ को लौह कबाड़ (स्क्रैप) के निर्यात को नियंत्रित करने के उद्देश्य से की गयी थी। सन् १९७४ में यह स्टील अथारिटी ऑफ इण्डिया की सहायक ईकाई बना दी गयी और पुनः सन् १९८२ में इसे सेल से अलग कर दिया गया। सन् १९९२ तक भारत में लौह स्क्रैप का आयात इसके माध्यम से ही किया जाता था।

एम.एस.टी.सी., इस्पात मंत्रालय के अधीन भारत सरकार की यह कंपनी 30 वर्षों से ज्यादा समय से घरेलु और अंतराष्ट्रीय व्यापारिक गतिविधियों में लिप्त है। 1992 तक भारत में कार्बन स्टील मेल्टिंग स्क्रेप और स्पौंज आयरन/हौट ब्रिक्वेटेड आयरन और री-रोल्लेबल स्क्रेप के आयात की कैनलाइजिंग एजेंसी थी। पुराने जहाजों को तोड़ने की भी कैनलाइजिंग एजेंसी यह कंपनी थी।

एम.एस.टी.सी. के कैनलाइजेशन के बाद इसका कार्यकलाप चुनौतीपूर्ण और विविधतापूर्ण हो प्रतियोगीतामूलक परिदृश्य में भी एम.एस.टी.सी. ने सफलतापूर्वक अपनी प्रतियोगी धार और वित्तीय प्रदर्शन को बनाए रखा है।

लौह अयस्क वाले वस्तुओं के अंतराष्ट्रीय व्यापार में इसने विशेषता हासिल की है और कई मिलियन टन फेरस मेल्टिंग स्क्रेप, पुराने जहाजों के टुकड़े, स्पौंज आयरन हौट ब्रिकवेटेड आयरन, री-रोल्लेबल स्क्रेप आदि का आयात किया है। इसने हजारों टन फेरस स्क्रेप, जूट उत्पादन आदि का आयाद भी किया है। यह कंपनी घरेलू बाजार में लौह औयस्क और एकीकृत इस्पात संयंत्रों, कोयला और यातायात क्षेत्र, सुरक्षा और दूसरे सरकारी विभाग/निजी क्षेत्र के संगठनों के विविध स्क्रेप का विपणन भी करती है। कंपनी का "पेड-अप कैपिटल" 22.0 मिलियन रुपया हैं। कंपनी के दो मुख्य कार्यगत अनुमंडल हैं।

अंतराष्ट्रीय विपणन[संपादित करें]

यह अनुमंडल वृहद स्तर पर कार्बन स्टील मेल्टिंग स्क्रेप के आयात और निर्यात का काम करता है और अब कोयला/कोक समेत पेट्रोलिय उत्पात, एस.के.ओ. आदि गैर-पारंपरिक वस्तुओं का आयात बढ़ा रहा है।

घरेलू विपणन[संपादित करें]

यह अनुमंडल मुख्य तौर पर लौह अयस्क और विविध स्क्रेप के विक्रय और इस्पात संयंत्रों के गाद (एराइजिंग्स) समेत 250 से अधिक सरकारी क्षेत्र के उपक्रमों और विभागों के स्क्रेप और उपयोग किए गए भंडार, अस्वीकृत, कूड़ा-कर्कट आदि और बचत सामक्रियों के विक्रय के लिए जिम्मेदार है।

निगम का एक "प्रबंधन सेवाएं" अनुमंडल भी है जो बाजार का अध्ययन कर कार्यगत अनुंजलों को नियमित सूचनाएं उपलब्ध कराता है। यह अनुमंडल नए व्यापार और नीतिगत गठबंधनों के लिए भी काम करता है। कंपनी का पंजीकृत और निगमित कार्यालय कलकत्ता में है और कलकत्ता, दिल्ली, चेन्नई एवं मुंबई में इसके चार क्षेत्रीय कार्यालय स्थित हैं। इनके अलावा बंगलोर, विशाखापत्तनम, बड़ोदरा (बड़ौदा), राउरकेला में शाखा कार्यालय और कई साइट कार्यालय हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]