ईसाई धर्ममीमांसा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

ईसाई धर्ममीमांसा (अंग्रेजी-christian theology) ईसाई विश्वास और व्यवहार का धर्ममीमांसा है । इस तरह का अध्ययन मुख्य रूप से "पुराने नियम" और "नए नियम" के ग्रंथों के साथ-साथ ईसाई परंपरा पर भी केंद्रित है। ईसाई धर्ममीमांसा बाइबिल विभाष्य, व्याख्या, तर्कसंगत विश्लेषण और तर्कयुक्ति का उपयोग करते हैं।

ईसाई परंपरा के प्रमुख धर्ममीमांक- पश्चिम चर्च के चार महान डॉक्टर- संत ऑगस्टिन, संत जेरोम, महान संत ग्रेगरि और संत अम्ब्रोज़ (बायें से दहिने)।

ईसाई धर्ममीमांसा के कुछ विशेष उद्देश्य होते हैं-

  1. ईसाई सिद्धांतों को बेहतर ढंग से समझने में मदद करना।
  2. ईसाई धर्म और अन्य परंपराओं के बीच तुलना करना।
  3. आपत्तियों और आलोचनाओं के खिलाफ ईसाई धर्म का बचाव करना।
  4. ईसाई चर्च में सुधार करने के लिये।
  5. ईसाई धर्म के प्रचार के लिये।
  6. कुछ वर्तमान स्थिति या कथित आवश्यकता को संबोधित करने के लिए ईसाई परंपरा के संसाधनों का उपयोग करना।

ईसाई धर्म की क्षेत्रसीमा[संपादित करें]

ईसाई परंपराएं[संपादित करें]

ईसाई धर्ममीमांसा, ईसाई परंपरा की विभिन्न मुख्य शाखाओं (कैथोलिक, रूढ़िवादी और प्रोटेस्टेंट) में महत्वपूर्ण रूप से भिन्न होता है। उन परंपराओं में से प्रत्येक के पास सेमिनरी(धर्मप्रशिक्षणालयों) और मंत्रिस्तरीय गठन के लिए अपना अनूठा दृष्टिकोण है।

सुव्यवस्थित धर्ममीमांसा[संपादित करें]