इमाम अली रिज़ा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अली इबने मूसा आर-रीदा (अरबी: علي ابن موسى الرضا), जिसे अबू अल-हसन, (सी। 29 दिसंबर 765 - 23 अगस्त 818) [2] या फारस (ईरान) में अली अल-रज़ा कहा जाता है इमाम रज़ा (फारसी: امام رضا) पैगंबर मुहम्मद और आठवीं शिया इमाम के वंशज थे, उनके पिता मूसा अल कादीम के बाद और उनके बेटे मुहम्मद अल-जवाद उनके बाद इमाम थे। वह ज़ैदी शिया स्कूल और सूफी के अनुसार इमाम थे। वह एक ऐसे समय में रहते थे जब अब्बासीद खलीफा कई कठिनाइयों का सामना कर रहा था, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण शिया विद्रोह था। खलीफा अल-मामुन ने अपने उत्तराधिकारी के रूप में अल-रिज़ा को नियुक्त करके इस समस्या का एक उपाय किया, जिसके माध्यम से वह सांसारिक मामलों में शामिल हो सकता था। हालांकि, शिया के विचार के अनुसार, जब अल-मामुन ने देखा कि इमाम ने और अधिक लोकप्रियता प्राप्त कर ली, तो उसने इमाम को ज़हर दे दिया। इमाम को खोरासान के एक गांव में दफनाया गया, जिसे बाद में मशहद नाम प्राप्त हुआ, जिसका अर्थ शहीद का शहर। [4] [5]

जन्म और पारिवारिक जीवन[संपादित करें]

ज़िल् अल-क़ियादाह के 148 वें, 148 एएच (29 दिसंबर, 765 सीई) पर, इमाम मुसा अल कादिम (शिया इस्लाम का सातवा इमाम) के घर मदीना में एक बेटा पैदा हुआ था। उसे अली नाम दिया गया था और अली अल-रिज़ा कुन्नियत दिया गया था, जिसका शाब्दिक अर्थ अरबी में है, "संतुष्ट", क्योंकि यह माना गया था कि अल्लाह उसके साथ संतुष्ट हुआ। उनका (वैकल्पिक नाम) अबू हसन था, क्योंकि वह अल-हसन का पिता थे; अरब संस्कृति में अपने बेटे के एक आम व्यवहार के बाद एक पिता का नाम पड जाता हे, शिया के सूत्रों में वह आमतौर पर अबुल-हसन अल-अस्सानी (दूसरा अबू हसन) कहलाता है, क्योंकि उनके पिता मुसा अल कादिम अबू हसन थे (वह भी अबूल् हसन के नाम से जाना जाते थे -अबूल् हसन अव्व्ल, जिसका अर्थ है पहले अबू हसन)। शीया के बीच अपने उच्च स्तर की स्थिति को रखते हुए उन्हें अन्य सम्मानित खिताब दिए गए हैं, जैसे कि साबिर्, वाफी, राज़ी, जकी अम्द वली [7]

अली का जन्म उनके दादा, जाफर अस-सादिक की मृत्यु के एक महीने बाद हुआ, और अपने पिता की दिशा में मदीना में लाया गया। [8] उनकी मां, नजमा भी, एक प्रतिष्ठित और धार्मिक महिला थीं।

उनकी संतानों और उनके नामों की संख्या के संबंध में विवाद मौजूद हैं। विद्वानों के एक समूह (सुन्नी) का कहना है कि वे पांच बेटे और एक बेटी थे, और ये थे: मुहम्मद अल तक़ी , अल-हसन, जाफर, इब्राहिम, अल हुसैन, एक बेटी। सब्त इब्न अल-जावजी, अपने किताब् में ताधकिरातुल-ख्वास ("ताज़किराट उल ख़्वास" تذکرۃ الخواص- मुहम्मद द पैगंबर ऑफ इस्लाम के उत्तराधिकारियों के प्रारम्भ की शुरूआत करते हैं, कहते हैं कि बेटे केवल चार थे, सूची से हुसैन नाम को छोड़कर। [1 1]

अल्लामा मजलिसी ने बिहारुल अनवार् जल्द 12 पेज 26 में कई बातें नकल करने के बाद बहवाला कुर्बुल्नसाद् लेख किया है कि आपके दो पुत्र थे। इमाम मूसा तकी (अल्लाह तआला प्रसन्न हो )दुसरे मुसा। अनवार नयीमिया 127 में है कि आपकी आप तीन संतान थी।अनवार ालहसीनिया जल्द 3 पी 52 में है कि आप तीन संतान थी। नस्ल् केवल इमाम मुहम्मद तकी से आई थी। स्वाहेक मोह्र्र्का १२३ में है कि आपके पास पांच लड़के और एक लड़की थी यह नवारुल्ब्सार 145 में है कि आप पांच लड़के और एक लड़की थी। ये लोग हैं इमाम मुहम्मद ताकी, हसन, जाफर, इब्राहीम, हुसैन, एक बेटी।

रोज़तह शोहदा 238 में है कि आप पाँच लड़के थे जिनके नाम हैं। इमाम मोहम्मद तकी, हसन, जाफर, इब्राहीम, हुसैन। लेकिन आपकी पीढ़ी केवल इमाम मोहम्मद तकी से बढ़ी है। यही कुछ रहमत उल्लील आलमीन २ पेज १४५ में हे। जनातुल खुलुद् 32 में हे कि आपके पास पांच लड़के और एक लड़की है। रोज़ा अल-हज जमालुद्दीन में है कि आपके पास पांच पुत्र हैं। कशफ़ुल गौमा 110 है कि आप छह संतान थी 5 लड़का एक लड़की। यही मतालिब अलसोल में है। कनज़ अलांसाब 96 में है कि आप आठ लड़के थे जिनके नाम हैं इमाम मोहम्मद तक़ी, हादी अली नक़ी, हुसैन, याकूब, इब्राहीम, फेज़्, जाफर।

लेकिन इमाम अलमहदतीन ताज अलमहककीन हज़रत अल्लामा मुहम्मद बिन मुहम्मद नोमान बगदादी अलमतोनि 413 ई हिजरी अलमकलब इस शेख मुफीद् किताब इरशाद 271.345 और ताज ालमफसरीन, अमीन दीन हजरत अबू अली फज़ल बिन हसन बिन फैज़ तबरसी अलमशहदि साहब म्ज्मा अल् बयान अलमतोनफि 548 पुस्तक अलाम अल्वरी में लिखा है, 199 कान ललरज़ामन ालोलद ाबना बादल जाफर मुहम्मद बिन अली ालजवाद ला गैर हज़रत इमाम मुहम्मद तक़ी।

अलावा ईमाम अली रज़ा कोई और संतान न थी। यही कुछ किताब उम्दा अल्तलीब 186 है।

इमाम के रूप में पदनाम[संपादित करें]

आठवे इमाम अपने पिता की मृत्यु के बाद, दैवीय कमान और अपने पूर्वजों के आदेश के माध्यम से इमामत पर पहुंचे, [12] विशेष रूप से इमाम मूसा अल कादिम, जो बार-बार अपने साथियों से कहते है कि उनके बेटे अली इमाम होंगे। [13] जैसे, मख्ज़ूमी कहते हैं कि एक दिन मुसा अल काज़िम् ने हमें बुलाया और हमें इकट्ठा किया और उन्हें "उनके निष्पादक और उत्तराधिकारी" के रूप में नियुक्त किया। [14]

याजिद इब्न सालीत ने भी सातवें इमाम से एक ऐसी ही कथन लिखी है, जब वह मक्का जाने के रास्ते में उन्हें मिले:इमाम ने कहा "अली, जिसका नाम पहले और चौथे इमाम जैसा है, मेरे पीछे इमाम है।" हालांकि, मूसा अल-कज़िम की अवधि में चरम घुटन वातावरण और प्रबल दबाव होने के कारण, उन्होंने कहा, "मैंने जो कहा है वह आपने तक (प्रतिबंधित) रहना चाहिए और इसे किसी को तब तक न बताए, जब तक कि आपको पता न हो कि वह हमारे दोस्तों और साथियों मे से है। "[15] [16] यहि अली बिन याकतिन सुनाई गई है, इमाम मूसा अल-कज़िम ने कहा कि" अली मेरे बच्चों मे सबसे अच्छा है और मैंने उनको मेरे उपदेश दिये "[13] वक्दी के अनुसार यहां तक ​​कि अपनी जवानी में अली अल-रद्दा अपने पिता कि हदीस संचारित करते थे और मदीना की मस्जिद में फतवा देते थे। [8] [17] हारून रशीद ने अली अल-रिधा को अनुकूल नहीं देखा; और मदीना के लोगों को उनके पास जाने और उनसे सीखने से रोक लगा दी। [18] डॉनल्डसन के अनुसार वह पच्चीस या बीस साल के थे जब वह मदीना में इमाम के रूप में अपने पिता के उत्तराधिकारी हुए और लगभग अठारह साल बाद, खलीफा अल-मामुन ने अली आर-रिज़ा को खुद के खिलाफत के उत्तराधिकारी के रूप प्र्सतुत करके कई शिया गिरोहो को अपने साथ करने का प्रयास किया। "[5]

समकालीन राजनीतिक स्थिति[संपादित करें]

809 में हारून अल रशीद की मौत के बाद, हारून के दो बेटों ने अब्बासीद साम्राज्य के नियंत्रण के लिए लड़ाई शुरू कर दी। एक बेटा, अल-अमीन, एक अरब मां था और इस प्रकार अरबों का समर्थन था, जबकि उनके भाई अल-मामुन की मां फारसी थी और उसको फारस की सहायता थी। [1 9] अपने भाई को हरा दिया। अल-मामुन ने कई क्षेत्रों में पैगंबर के परिवार के अनुयायियों से कई विद्रोहो का सामना किया। [17]

अल मामुन के युग के शिया, आज के शिया की तरह, जिन्होंने अल-मामुन के ईरान में एक बड़ी आबादी बनाई, ने इमामों को अपने नेताओं के रूप में माना, जिनकी उपदेशो का आध्यात्मिक और स्थलीय एव जीवन के सभी पहलुओं, में पालन किया जाना चाहिए। वे इस्लामिक पैगंबर, मुहम्मद के वास्तविक खलीफा के रूप में उन पर विश्वास करते थे। उमायद की तरह अब्बासियों ने भी उन्को अपनी खिलाफत् के लिए एक बड़ा खतरा माना, क्योंकि शीयाओ ने अल-मामुन को अत्याचारी के रूप में देखा, जो उनके इमामों की पवित्र स्थिति से दूर था। अल्लाह तआबातेई अपनी किताब शिया इस्लाम में लिखते हैं, कि अल-मामुन ने अपनी सरकार के आसपास कई शिया विद्रोहों को शांत करने के लिए,इमाम अल-रिज़ा को खुरासन बुलाया और शिआओं और अल-रिज़ा के रिश्तेदारों को सरकार के विरूद्ध विद्रोह से रोकने के लिए क्राउन प्रिन्स की भूमिका दी। क्योंकि एक तो इससे वे अपने ही इमाम से लड़ते; दूसरे, लोगों में इमामों के लिए आंतरिक लगाव खोने का कारण बनता, क्योंकि इमाम, अल-मामुन की भ्रष्ट सरकार से जुड़ा होते। [20] तीसरा, वह शियाओ को यह विश्वास करने के लिए मानना ​​चाहता था कि उसकी सरकार बुरी नहीं थी, क्योंकि अल-रिज़ तो मामुन के बाद सत्ता में आएंगे। और चौथी, वह खुद को शियाओं के इमाम पर कड़ी निगाह रखना चाहता था, जिससे कि अल-मामुन के ज्ञान के बिना कुछ भी नहीं हो सके।

मामून के हलकों में यह बात तेजी से फैल गयी कि अल-ममुन अली इब्न मूसा अल-रिज़ को क्राउन प्रिंस को बनाने की पेशकश में ईमानदार नहीं था, और यह केवल एक राजनीतिक कदम था। अल-ममुन भी पागल हो गया और सोचा कि अल-रिज़ा भी इसी तरह सोचेगे , और ऐसा ही उनके शिआ। लोगों के संदेह को शांत करने के लिए अल-मामुन ने पहले ही खुद ही,अल-रिज़ा को खलीफा पद की पेशकश की। अल-रीधा, जो इस प्रस्ताव का असली कारण जानते थे, ने विनम्रता से इनकार कर दिया [21] और कहा:

"यदि यह खिलफत् तुम्हारे लिये है, तो यह तुमको अनुमति नहीं है,कि जो परिधान अल्लाह ने आप को दिया उसे उतार दे ओर किसी दुसरे को दे। अगर खिलाफत आपके लिए नहीं है, तो आप मुझे

वो नही दे सकते जो तुम्हारा नहीं है। "[17]

अल-मामुन अपने प्रस्ताव को बार बार ईमानदारी से दिखाने का प्रयास कर रहा था और खिलाफत को फिर से भेंट करता रहा, और अंत में अपनी वास्तविक योजना कि अपने क्राउन प्रिंस को अली अल-रिज़ा बनाने के लिए कोशिश करता रहा जब इमाम अल-रिज़ा ने इस स्थिति को भी अस्वीकार कर दिया, तो अल मामुन ने उन्हें धमकी दी कि "आपके पूर्वज अली को दूसरे खलीफा द्वारा चुना गया था ताकि वह तीसरे खलीफा का चुनाव करने के लिए छह सदस्यीय परिषद में हो, और जो छहों में से अनुपालन नहीं करे उसको मारने का आदेश दिया। अगर आप मेरी सरकार में क्राउन प्रिंस की स्थिति को स्वीकार नहीं करते हैं, तो मैं उसी तरह करुगा। " अल-रिज़ा ने कहा कि वह इस शर्त के तहत स्वीकार करेंगे कि सरकार के कोई भी काम उनके नहीं होगा। वह न तो किसी को नियुक्त करेगे, न ही खारिज करेंगे वह कानून नहीं बनाएगे, या कानून पास करेगे वह केवल नाम में क्राउन प्रिंस होगे। अल-मामुन खुश हो गया कि अल-रिज़ा ने स्वीकार कर लिया और वे उसकी स्रकार की कामो से भी दूर रहेंगे, ओर उसने भी इमाम कि शर्त स्वीकार कर ली। अल-ममुन ने काले अब्बासीद झंडे को हरे रंग में भी बदल दिया, [22] [23] [23]जो शियाओ का पारंपरिक मोहम्मद के झंडे और अली का अमामा का रंग था। [24] उन्होंने सिक्कों को अल-मामुन और अली अल-रिज़ा दोनों नामों के साथ भी बनवाने का आदेश दिया अल-रिज़ा को खुरसान बुलाया गया और उनहोने अल-मामुन के उत्तराधिकारी की भूमिका को अनिच्छा से स्वीकार कर लिया, [12] [25]

अल-मामुन ने इमाम के भाई ज़ायद् को खोरासान में, जिन्होंने मदीना में विद्रोह किया था अपने अदालत में बुलाया अल-ममुन ने उसे अल अली-रिज़ा के सम्मान में मुक्त कर दिया और उसकी सजा को नजरअंदाज कर दिया। [26]

हालांकि, एक दिन, जब अल-अल-रिज़ा एक भव्य सभा में एक भाषण दे रहे थे, उन्होंने सुना कि जयाद ने लोगों के सामने खुद की प्रशंसा की, कहा कि मैं और भी बहुत कुछ हूं। अली अल-रिज़ा ने उनसे कहा: [27]

"हे ज़ैद, क्या आपने कुफा के दुकानदारो के शब्दों पर भरोसा किया है और उन्हें लोगों तक पहुंचाया है? आप किस चीज के बारे में बात कर रहे हैं? अली इब्न अबी तालिब और फातिमा ज़हरा के पुत्र तभी योग्य और उत्कृष्ट हैं जब वो अल्लाह की आदेशो, और अपने आप को पाप और गलती से दूर रखे। आपको लगता है कि आप मूसा अल कादिम, अली इब्न हुसैन और अन्य इमामों की तरह हैं? जबकि वे अल्लाह के रास्ते में कठोर परिश्रम करते थे और रातो को अल्लाह से प्रार्थना करते थे , क्या आपको लगता है कि आपको बिना दर्द के लाभ मिलेगा? जागरूक रहें, कि यदि हममे से कोइ एक व्यक्ति एक अच्छा काम करता है, तो वह दो गुना इनाम प्राप्त करेगा। उसने मुहम्मद के सम्मान को बनाए रखा है यदि वह कुछ बुरा व्यवहार करता है और एक पाप करता है, तो उन्होंने दो पाप किये हैं। एक यह है कि उसने बाकी लोगों की तरह एक बुरा काम किया और दूसरा यह है कि उन्होंने उसने मुहम्मद के सम्मान को बनाए न रखा, हे भाई! जो कोई अल्लाह का पालन करता है वह हमारा है जो पापी है वह हमारा नहीं है अल्लाह ने नूह के बेटे के बारे में कहा, जो अपने पिता के साथ आध्यात्मिक बंधन को काटते हुए कहते हैं, "वह तुम्हारी वंशावली से नहीं है, अगर वह तुम्हारी वंशावली से बाहर न हो गया होता , तो मैं (बचाया) होता और उसे मोक्ष दे दिया।" [27]

बहस[संपादित करें]

अल-मामुन अरबी में अनुवादित विभिन्न विज्ञानों पर काम करने में बहुत दिलचस्पी थी। इस प्रकार उसने इमाम और मुस्लिम विद्वानों और उनकी उपस्थिति में आने वाले धर्म के संप्रदायों के बीच बहस आयोजित की। [8] [12] इन में से कई शिया हदीसों के संग्रह में दर्ज किए गए हैं, क्यूम संग्रहालय, ईरान में अब अल-रिज़ा द्वारा लिखित कुरान का एक संस्करण वर्क्स अल-रिसालह अल-धहाबियाह मुख्य लेख: अल-रिसालह अल-धहाबियाह अल-रियालाह अल-धहाबियाय (द गोल्डन ट्रीटाइज़) चिकित्सा उपचार और अच्छे स्वास्थ्य के रखरखाव पर एक ग्रंथ है, जिसे ममुन की मांग के अनुसार लिखा गया है। [8] [2 9] इसे विज्ञान के विज्ञान में सबसे अधिक मूल्यवान इस्लामी साहित्य माना जाता है, और "गोल्डन ग्रंथ" का पात्र था क्योंकि माइन ने इसे सोने की स्याही में लिखे जाने का आदेश दिया था। [8]

मृत्यु[संपादित करें]

अल-मॉन ने सोचा कि वह उनके उत्तराधिकारी के रूप में अल-रिज़ा का नाम देकर शिया विद्रोहियों की समस्याओं को समप्त करेंगा,। आखिरकार अल-रिज़ा को इस स्थिति को स्वीकार करने के लिए राजी करने में सक्षम होने के बाद, अल-ममुन ने अपनी गलती का एहसास किया, क्योंकि शिया को और भी लोकप्रियता प्राप्त हुई। इसके अलावा, बगदाद में अरब पार्टी उग्र हो गइ जब सुना है कि अल मामुन् न केवल अपने उत्तराधिकारी के रूप इमाम नियुक्त है,। उन्हें डर था कि साम्राज्य उनसे ले लिया जाएगा। इसलिए अरब पार्टी ने, मामुन को अपदस्थ और इब्राहीम इब्न अल महदी, मामुन के चाचा के प्रति निष्ठा देने के लिए तय किया [5] इसलिये मामुन ने इमाम को ज़हर दिलव दिया फिर, मुहम्मद तकी इमाम के पुत्र इमाम हुवे।