इमादद्दीन नसीमी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इमादद्दीन नसीमी
Portrait of Nasimi.jpg
जन्म {{{3}}} 1369
शमाख़ि
मृत्यु अलेप्पो

इमादद्दीन नसीमी (पूर्ण और सच्चा नाम: सैय्यद अली बिन सेइद मोहम्मद) (1369, शमाख़ि - 1417, अलेप्पो) — अज़रबैजान कवि, विचारक। इमादद्दीन नसीमी के नाम स॓ प्रसिद्ध है। उन्होंने शमाख़ि में अपनी प्रारंभिक शिक्षा का अध्ययन किया, उस समय के विज्ञानों, धर्मों के इतिहास, तर्क, गणित और खगोल विज्ञान का अध्ययन किया।.

जीवन[संपादित करें]

नसीमी के जीवन के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। अधिकांश स्रोत उन्हें इमादद्दिन के रूप में संदर्भित करते हैं, लेकिन ऐसे स्रोत हैं जो नसीमी के वास्तविक नाम अली और उमर का उल्लेख करते हैं। कई शोधकर्ताओं का दावा है कि उनका जन्म शमाख़ि और अन्य बुर्सा, तबरीज़, बाकू, दियारबाकिर और यहां तक कि शिराज में हुआ था।

कवि के पिता सैय्यद मोहम्मद, शिरवन में एक प्रसिद्ध व्यक्ति था। नसीमी का एक भाई भी था। यह ज्ञात है कि वह शमाख़ि में रहता था और उसने छद्म नाम शाह खानदान के तहत कविताएँ लिखा और इस नाम से एक प्राचीन कब्रिस्तान में दफनाया गया था। इस्लामी काल के बाद के समय में शमाख़ि सब से बड़े सांस्कृतिक केंद्रों में से एक बन गया।

यहाँ पूर्व के चारों ओर कई स्कूल, मदरसे, कविता और संगीत सम्मेलन थे, और समृद्ध सार्वजनिक और निजी पुस्तकालय थे।

क्रियान्वयन

राजधानी के बाहर, मेलम नामक स्थान में, प्रसिद्ध कवि ख़गानी शिरवानी के चाचा - वैज्ञानिक और चिकित्सक कावेरीदीन द्वारा बनाई गई दार-उल-शफ़ा चिकित्सा अकादमी भी कार्य किया था। ऐसे माहौल में नसीमी के स्कूल के साल गुजर गए। नसीमी अपने काल के प्रमुख विकास से संबंधित विज्ञानों का अध्ययन करने के बाद, हुरुफी फजलुल्लाह नाईमी की सेवा में प्रवेश किया, उनकी शिक्षा और प्रशिक्षण से लाभान्वित हुए।। अपनी सभी यात्राओं में, वह शेख उस्ताद नसीमीके एक साथी था और उनकी बेटी से शादी की थी।

कवि की रचनाओं के विश्लेषण से पता चलता है कि नसीमी उस समय के शमाख़ि में सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों की मांग को पूरा करनेवाला एक आदर्श शिक्षा में महारत हासिल की थी।

उन्होंने शास्त्रीय पूर्वी और प्राचीन ग्रीक दर्शन, साथ ही साथ उनके साहित्य, इस्लाम और ईसाई धर्म की नींव, चिकित्सा, खगोल विज्ञान और ज्योतिष, गणित और तर्कशास्त्र गहराई से सीखा थी।

उस ने भाषाओं को इतनी अच्छी तरह से सीखा था कि वह अजरबैजान, फारसी और अरबी भाषाओं में काफी सुंदर कविताएं लिख सकता था। उसकी अजरबैजानी भाषा में कविता की भाषा अपनी समृद्धि और सार्वजनिक भाषण के निकटता से विशिष्ट है, कहावत, बुद्धिमान शब्द यहां बहुत है। नसीमी की रुबाईयां अज़रबैजान लोक कविता – बायाती के बहुत करीब हैं।

नसीमी की कविताओं में अक्सर अजरबैजान और अन्य पूर्वी देशों के प्रसिद्ध विद्वानों और कवियों के नाम उल्लेख किये जाते हैं। इनमें से, इब्न सिना, खगानी, निज़ामी, फ़लाकी, मंसूर हल्लाज, फ़ज़लुल्लाह नईमी, शेख महमूद शबस्टारी, औहदी मरगाई और अन्य शामिल हैं।

जब तेय्मुरलंग की तरफ़ से हुरुफियों के खिलाफ़ अधीन दबाव किया गया था, तब नसीमी को अपने देश के दूर इराक, तुर्की और सीरिया में रहना पड़ा।

उसे अलेप्पो शहर में पंटेईस्ट विचारों के आधार पर निष्पादित किया गया था। इब्न अल-इमाद हनबली नसीमी की फांसी के बारे में यही लिखता था "वह हुरुफियों का शैख़ था; वह अलेप्पो में रहता था, उसके समर्थकों को गुणा किया गया था, उसके धर्म नवाचार बढ़ गये; उस स्थान तक आया कि सुल्तान ने उसकी हत्या का आदेश दिया, उसकी गर्दन काटी गई, चर्मविदारण किया गया और उसे क्रोस पर चढ़ाया गया थ।"

नसीमी ने अपने विचारों को एक पेशेवर दार्शनिक की तरह अलग प्रणाली के रूप में नहीं दिया, क्योंकि मियानाजी को इब्न अरबी के व्यापक सूफ़ी दार्शनिक कार्यों के बाद इस संदर्भ में लेखन की ज़रूरत नहीं थी। हुरुफ़िज्म की सैद्धांतिक नींव के लिए, यह नाईमी के कामों में पहले से ही व्यायाम किया था।

रचनात्मकता[संपादित करें]

नसीमी अपनी ग़ज़लों में भाषा की समृद्धि का उपयोग करता है। कवि कभी-कभी केवल अपील और अभिव्यंजक दोहराव पर कविता लिखता है। उदाहरण के लिए:

मुझ में दो जान हैं, मैं इस जहान में फ़िट नहीं हो सकता। मैं एक जगह के बिना एक रत्न हूँ, अस्तित्व और स्थान के लिए फ़िट नहीं हूं।

दार्शनिक-कवि की कविता बहुत जल्दी मध्य एशियाई, तुर्की और ईरानी लोगों के बीच लोकप्रियता हासिल करती है। मंसूर हल्लाज के साथ उसका नाम अपने स्वयं के विश्वास के लिए असामान्य वफ़ादारी और साहस का प्रतीक बन जाता है। उसकी रचनाओं का कई भाषाओं में अनुवाद किया जाता है और उन भाषाओं में कविता लेखक उसकी नकल करते हैं। नसीमी की कविताओं को लोगों के ऊंची आवाज़ से पढ़ने और उसके हुरुफ़ी विचारों को प्रचारित करने के लिये बहुत लोग पीड़ित हो गये और यहां तक कि मारे किये गाये हैं। अपनी रचनात्मक गतिविधि के शुरुआती वर्षों में, नसीमी अपने उस्ताद नाईमी के जैसे एक ही सूफ़ीवाद स्थिति में था और प्रसिद्ध सूफ़ी शैख़ शिबली का प्रशिक्षण ज़ारी रखता था। इस स्तर पर कवि "हुसैनी", "सैयद हुसैनी" और "सयिद" छद्म नाम के साथ अपने काम लिखता था। हालाँकि, X सदी के फ़ारसी दार्शनिक मंसूर हल्लाज की शिक्षाएँ नसीमी की भावना के करीब थीं। पहली बार, उसी ने कहा था, "मैं भगवान हूँ!" इस तरह के अविश्वास के कारण, मंसूर सो हल्लाज लगातार उत्पीड़न के संपर्क में था और अंततः अपने जीवान फ़ांसी पर समाप्त कर दिया था। नसीमी, जो अपने पंथ के लिए इस तरह के आत्म बलिदान करने के लिए तैयार था , और उस ने भी मंसूर से हैरान था और अपने कार्यों में उसकी प्रशंसा की। दिलचस्प बात यह है कि कविता हुरुफी प्रशिक्षण को स्वीकार करने के बाद, हल्लाज से लगन को वफ़ादार रहा। ये शब्द सूफ़ी के दर्शन के बारे में कहा जा सकता है, जो नसीमी लंबे समय से वफ़ादार रहा था। इस बारे में, ज़ुमरुद गुलज़ादे लिखती हैं: "नसीमी की रचनात्मकता के केंद्र में एक सुंदर ईश्वर है, जिसे एक सीतात्मक नायक का प्यार है, इसे बढ़ाकर और सुधार करनेवाला और अपने प्रकाश में डालनेवाला ईश्वर है।" इंसान के लिए उच्चतम, उदात्त भाव उस प्रेमी तक पहुंचना, उसे फिर से हासिल करना और उसमें पिघलना है। कवि लिखता है कि, जो लोग प्यार को पाप समझते हैं, उनके शब्दों के बावजूद, वह इससे डरेंगे नहीं क्योंकि केवल इस तरह से एक व्यक्ति को भगवान तक पहुंच सकता है। हम बाद में पढ़ते हैं: लेकिन धीरे-धीरे नासिमी की विश्व दृष्टि में सूफ़ीवाद की जगह हुरुफ़ीवाद आ गई, यह सब से पहले कवि के पैंटिस्टिक विचारों के परिवर्तनों में परिलक्षित होता है। इन विचारों के आधार पर, यह अब प्यार और मादकता नहीं है; पत्र, मन बंद होना शुरू होता है। तब से, नसीमी दर्शन में नाईमी के बनाई हुई हुरुफ़ीवाद पर आधारित होता हैं और इसके मूल प्रावधानों का प्रचार करता है, लेकिन नसीमी का प्रचार करता हुआ हुरुफ़ीवाद नाईमी के सिद्धांत का समान नहीं है। " यह उल्लेखनीय है कि नसीमी का दीवान हामिद मोहम्मदजादे ने 1972 में अजरबैजान में और एक बार ईरान में सय्यद अली सालेही के पहल से "रात के अंधेरे में सिमर्ग" नाम से, 1968 में हुसैन अहि, 1980 में फ़ोरुगी पब्लिशिंग हाउस में, 1972 में नश्री नैय में जलाल पेंदर द्वारा प्रकाशित किया गया था। मोहम्मद फ़ुजूली के नाम पर अज़रबैजान राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के पांडुलिपियों की इंस्टीट्यूट के डिप्टी डायरेक्टर डॉक्टर ऑफ फिलोलॉजी पाशा करीमोव ने अंकारा राष्ट्रीय पुस्तकालय से महान अज़रबैजान कवि इमादद्दिन नसीमी की मातृभाषा में दीवान की दो कोपीयां प्राप्त की हैं। 83 पत्रवाला पहला दीवान स्पष्ट नस्ख़ लेखन से नकल कीये गये थे। 308 पत्रवाला दूसरा दीवान भी साफ़ सुथरा है लेखन से लिखे गये है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि यह दीवान नसीमी की हस्तलिखित दीवानों में से सब से प्रमुख है। दीवान की शुरुआत में "दिवानी-ए-हज़रत-सय्यीद नसीमी क़द्दासा सिरुलहूल आज़ीज" ("हज़रात सय्यीद नसीमी का दीवान")शब्द लिखे हुए। इसमें 711 ग़ज़ल, 6 तर्जीवंद, 3 मसनवी, 9 मुस्ताजाद, 5 मुहम्मस, 603 रुवाई, 3 गिता हैं। उल्लेखनीय तथ्य यह है इस कॉपी में नसीमी कि ऐसी कई कविताएँ हैं जो हमें नसीमी के हस्तलिखित और प्रकाशित दीवान में नहीं मिलीं। जबकि सूत्रों में कविता के मुख़म्मास का उल्लेख नहीं हैं, यहाँ उनकी पाँच मुख़म्मास कविताएँ हैं। यह भी कहा जाता है कि ये कविताएं उन हुरुफ़ी लेखकों की हो सकती हैं जो हुरुफ़ीवाद का प्रचार करने के लिए नसीमी के अधिकार का इस्तेमाल करते हैं।[1]

स्मरण[संपादित करें]

अज़रबैजान गणराज्य की स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद, अज़रबैजान राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के भाषा विज्ञान संस्थान का नाम नसीमी के नाम पर रखा गया था। 15 नवंबर 2018 को, अज़रबैजान के राष्ट्रपति ने अगले साल इमादद्दिन नसीमी की 650वीं वर्षगांठ मनाने का आदेश दिया। 19 नवंबर 2018 को अंतर्राष्ट्रीय संबंध के मॉस्को राजकीय संस्थान में, नसीमी के बस्ट का उद्घाटन किया गया था।

सुनाई हुइ कविताएँ

  • रसीम बलायेव - "कहां हो"
  • रसीम बलायेव और अन्य - "मुझ में दो जान हैं"
  • नूरदीन मेहदिखांली - "मुझ में दो जान हैं"

उसकी कविताओं में लिखी गई संगीत रचनाएँ

  • नसीमी फ़िल्म से दरवेशों का गीत - संगीत: तोफ़ीग गुलियेव
  • नसीमी फ़िल्म की गीत "गाफिल ओयान"(अचानक उठो) संगीत - तोफ़ीग गुलियेव
  • ज़ेनाब खानलारोवा – “नेय्नादी” (क्या किया)
  • कमला नाबियेवा – “कतर तसनीफ़” (जब मैंने अपने दिल के खंडहर में एक रहस्यों का खजाना पाया)

नसीमी को समर्पितनीफ संगीत

  • नसीमी महाकाव्य - फिक्रेत आमिरोव का बैले।

फिल्मोग्राफी

  • नसीमी (फ़िल्म, 1971)
  • नसीमी (फ़िल्म, 1973)
  • इमादद्दिननसीमी (फ़िल्म, 1973)
  • मुझ में दो जान हैं ... (फिल्म, 1973)

सन्दर्भ[संपादित करें]