आधिकारिक मत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आधिकारिक मत (Doctrine) उन मतों, विश्वासों, आस्थाओं और शिक्षाओं का विधिवत संग्रह होता है जिसे किसी मान्यता, धर्म, समाज या अन्य सामाजिक व्यवस्था में आधिकारिक माना जाता है। यह आवश्यक नहीं है कि उस सामाजिक व्यवस्था से बाहर के लोग किसी आधिकारिक मत को सत्य माने, और अक्सर दो धार्मिक संस्थानों के आधिकारिक मत एक-दूसरे से विपरीत भी हो सकते हैं।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Verbit, M. F. (1970). The components and dimensions of religious behavior: Toward a reconceptualization of religiosity. American mosaic, 24, 39.