आइन्स्टाइन वलय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

किसी स्रोत से (जैसे, किसी गैलेक्सी या किसी तारे से) आने वाला प्रकाश जब विरूपित होकर एक वलय (रिंग) के रूप में दिखता है जिसे आइन्स्टाइन वलय (Einstein ring या Einstein–Chwolson ring या Chwolson ring) कहते हैं। ऐसा तब होता है जब स्रोत से निकला प्रकाश किसी अति-द्रव्यमान वाले आकाशीय पिण्ड से होकर गुजरता है जैसे दूसरी गैलेक्सी या कृष्ण विवर (ब्लैक होल)। इस अति-द्रव्यमान वाले पिण्ड के कारण एक प्रकार की गुरुत्वीय लेंसिंग हो जाती है।

Einstein Rings.jpg

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]