आंकेतिल द्यूपरों

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
आंकेतिल द्यूपरों
Abraham Hyacinthe
Anquetil-Duperron
Anquetil1.JPG
जन्म 7 दिसम्बर 1731
पेरिस, फ्रान्स
मृत्यु 7 दिसम्बर 1731
व्यवसाय पूर्वविद्यावादी (Orientalist)

आंकेतिल द्यूपरों (Abraham Hyacinthe Anquetil-Duperron ; 7 दिसम्बर 1731 - 17 जनवरी 1805) पहला[1] व्यावसायिक फ्रान्सीसी भारतविद था। उसने ही इस विद्या के लिए सांस्थानिक संरचना (फ्रेमवर्क) सम्बन्धी विचार किया। उसकी प्रेरणा से ही उसकी मृत्यु के एक शताब्दी पश्चात 'अति-पौर्वात्य फ्रान्सीसी विद्यालय' (École française d'Extrême-Orient) स्थापित किया गया। 'पुद्दुचेरी का फ्रान्सीसी संस्थान' (Institut français de Pondichéry) का नामकरण उसके नाम पर ही किया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. T. K. John, "Research and Studies by Western Missionaries and Scholars in Sanskrit Language and Literature," in the St. Thomas Christian Encyclopaedia of India, Vol. III, Ollur[Trichur] 2010 Ed. George Menachery, pp.79 - 83