अश्वसेन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अश्वसेन, तक्षक नाग का पुत्र। अर्जुन द्वारा खांडववन जलाए जाने के समय (महाभारत, आदि पर्व, 218.9; 220.40; 60.35) तक्षक की पत्नी तथा पुत्र अश्वसेन वहीं थे। जान बचाने के लिए तक्षक की पत्नी ने पुत्र को मुंह में दबाकर आकाशमार्ग से भाग निकलने का प्रयत्न किया। किंतु अर्जुन ने तक्षकभार्या का सिर काट डाला। तक्षक से मित्रता होने के कारण इंद्र ने अर्जुन के विरुद्ध वर्तन करके अश्वसेन की रक्षा की।

पश्चात्‌ महाभारत (कर्ण पर्व 66) में कर्णर्जुन युद्ध के समय अश्वसेन ने कर्ण के बाण पर आरोहण किया। लेकिन कृष्ण तत्काल स्थिति समझ गए और उन्होंने रथ के अश्वों को घुटनों के बल बैठा दिया। बाण चूका और अर्जुन की ग्रीवा की बजाए उसके मुकुट को टुकड़े-टुकड़े करता हुआ निकल गया। अर्जुन ने अश्वसेन को मार डाला।