अवक्षय क्षेत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डायोड एक P टाइप सेमीकंडक्टर और N टाइप सेमीकंडक्टर का जंक्शन होता है इसलिए डायोड को हम P-N जंक्शन डायोड भी कहते हैं। जैसा की हम जानते हैं कि P टाइप सेमीकंडक्टर में होल कि अधिकता रहती है और N टाइप सेमीकंडक्टर में एलेक्ट्रोंस की. हमें ये भी पता है कि विपरीत चार्ज्ड पार्टिकल एक दुसरे को अपनी ओर आकर्षित करते हैं और सामान विकर्षित. चूँकि एलेक्ट्रोंस निगेटिव चार्ज्ड पार्टिकल होते है और होल पोसेटिव, इसलिए जब हम दोनों प्रकार के सेमीकंडक्टर को मिलाते हैं तो एलेक्ट्रोंस और होल एक दुसरे को आकर्षित करते है। कुछ समय बाद दोनों का आकर्षण सीमित हो जाता है और जंक्शन के पास एलेक्ट्रोंस (P साइड में) और होल (N साइड में) की परत बन जाती है और उसे हम डेप्लेशन रीजन या अवक्षय क्षेत्र कहते हैं।