अमर जवान ज्योति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

1857 के आंदोलन में मुंबई के दो स्वतंत्रता सैनानियों ने बलिदान दिया था। जिसमें से एक शहीद का नाम सैयद हुसैन और दूसरे का नाम मंगल कडिया था। अंग्रेजों के खिलाफ आवाज उठाने वाले इन दोनों मुंबई के आजादी के मतवालों की याद में शिवसेना राज्यसभा सदस्य भारतकुमार राऊत की निधि से आजाद मैदान के पास ‘अमर जवान ज्योति’ स्मारक का निर्माण किया गया है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. ""देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में 11 अगस्त को हुई हिंसा और इस दौरान 1857 के शहीदों की याद में बनाये गये 'अमर जवान ज्योति' स्मारक के साथ हुई तोड़फोड़ की घटना के विरोध में भाजपा 18 अगस्त को प्रदर्शन करेगी।"". दैनिक भास्कर. अभिगमन तिथि २४ मई २०१३.