अंकीय क्रांति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

यांत्रिक प्रौद्योगिकी और एनालॉग इलेक्ट्रॉनिकी से आगे जाकर प्रौद्योगिकी का अंकीय इलेक्ट्रॉनिकी में प्रवेश करना अंकीय क्रांति (डिजिटल रिवोलूशन) कहलाता है। यह क्रान्ति १९५० के दशक और १९७० के दशक के बीच हुई मानी जाती है। अंकीय संगणक (डिजिटल कम्प्यूटर) का अधिकाधिक उपयोग और दस्तावेजों आदि का अंकीय रूप में रखना, इस क्रांति के दो महत्वपूर्ण पहलू हैं।

सामाजिक विकास की दीर्घ यात्रा

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]