स्पेशल 26

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
स्पेशल 26
स्पेशल 26 पोस्टर.jpg
निर्देशक नीरज पाण्डेय
निर्माता वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स
फ्राइडे फिल्मवर्क्स
कुमार मंगत
लेखक नीरज पाण्डेय
अभिनेता अक्षय कुमार
काजल अग्रवाल
जिमी शेरगिल
मनोज बाजपेयी
अनुपम खेर
दिव्या दत्ता
संगीतकार गाने:
एम एम कीरवानी
हिमेश रेशमिया
पृष्ठभूमि:
सुरेन्द्र सोढी
छायाकार बॉबी सिंह
संपादक श्री नारायण सिंह
स्टूडियो वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • फ़रवरी 8, 2013 (2013-02-08)
कार्यावधि 143 मिनट[1]
देश भारत
भाषा हिन्दी
लागत भारतीय रुपया42 करोड़ (US$8.65 मिलियन)[2]
कुल कारोबार भारतीय रुपया70 करोड़ (US$14.42 मिलियन)[3]

स्पेशल 26 नीरज पाण्डेय द्वारा निर्देशित 2013 की एक सस्पेंस थ्रिलर फ़िल्म है। फ़िल्म अक्षय कुमार, काजल अग्रवाल, जिमी शेरगिल, मनोज बाजपेयी, अनुपम खेर और दिव्या दत्ता अभिनीत है।

पटकथा[संपादित करें]

फ़िल्म एक गुट से आरम्भ होती है जिसमें अजय (अक्षय कुमार), शर्मा (अनुपम खेर), जोगिंदर (राजेश शर्मा) और इक़बाल (किशोर कदम) काम करते हैं। यह एक ऐसा गुट जो नकली सीबीआई अधिकारीयों का भेस धर जगह-जगह रेड डालता हैं और फिर सारा माल लेकर उड़ जाता है। एक ऐसी ही रेड में नकली सीबीआई वाले सारा माल लेकर फुर्र हो जाते हैं और फंस जाता है असली पुलिस वाला रणवीर सिंह (जिमी शेरगिल)। रणवीर को जब इस बात का एहसास होता है कि उसे बेवक़ूफ़ बनाया गया है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। रणवीर को उसकी लापरवाही के लिए उसके पद से निलंबित कर दिया जाता है। रणवीर बार-बार ये कहता है कि उसकी कोई गलती नहीं है लेकिन उसकी एक नहीं सुनी जाती। फिर वो असली सीबीआई का सहारा लेता है ताकि वो इस नकली सीबीआई को पकड़ सके। रणवीर सिंह असली सीबीआई ऑफिसर वसीम (मनोज वाजपेयी) से वादा करता है कि वो इस नकली गुट को पकड़ने में जी जान लगा देगा। इस बीच नकली सीबीआई बनकर अजय और शर्मा अपनी रेड जारी रखते हैं और हर बार इसलिए बच जाते हैं क्योंकि जिनके घर में रेड पड़ती है वो इस डर से पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करवाते क्योंकि ऐसा करने से उनके काले धन की सच्चाई सबके सामने आ जाएगी। अजय और शर्मा ने मिलकर एक स्पेशल 26 की टीम बनाई जिसमें वसीम के भी कुछ लोग शामिल हो गये। रणवीर सिंह किसी तरह से शर्मा का पता लगाने में कामयाब हो जाता है। शर्मा अपना मुंह असली सीबीआई ऑफिसर वसीम के आगे खोल देता है और रोते हुए कहता है कि यह उसकी गलतियाँ थी लेकिन अब वह क्या कर सकता है। वसीम अजय को पकड़ने के लिए उसे कहता है कि यदि वह जीवित रहना चाहता है तो उसे अब वैसे ही करना होगा जैसा कार्यक्रम उन्होंने तय किया था। अजय और शर्मा स्पेशल 26 की टीम को अगले दिन का पूरा कार्यक्रम समझा देते हैं। इधर वसीम उस जौहरी के पास पहुँचता है जहाँ स्पेशल 26 की टीम छापा मारने वाली है। वहाँ से वो सब सामान दूसरी जगह विस्थापित करवा देते हैं और नकली समान रखकर अपने ही आदमियों को वहाँ के क्रमचारियों के रूप में नियुक्त कर देता है। इधर अजय और शर्मा अपनी स्पेशल 26 टीम को विशेष बस से वहाँ उस जौहरी की दुकान पर भेज देते हैं जहाँ छापा मारना है और सलाह देते हैं कि बस से तब तक मत उतरना जब तक वो वहाँ नहीं पहुँच जाते। बस के काफी देर तक वहाँ रुके रहने के पश्चात पता चलता है कि अजय और शर्मा ने उस दुकान को लूट लिया है जहाँ वसीम ने जौहरी की दुकान का सामान रखवाया था।

कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

स्पेशल 26 के संगीत के रूप में एम॰ एम॰ कीरवानी द्वारा रचित पाँच गीत हैं एवं एक गाना (गोरे मुखड़े) हिमेश रेशमिया द्वारा रचित है। फ़िल्म का के गीत इरशाद कामिल और सब्बीर अहमद द्वारा लिखे गये हैं। अलबम के सभी अधिकार टी-सिरीज के पास हैं।[4]

स्पेशल 26
चित्र:Special 26 SoHaM.jpg
ध्वनि-पट्टी एम एम कीरवानी और हिमेश रेशमिया द्वारा
संगीत शैली फ़िल्म ध्वनि-पट्टी
लेबल टी-सीरीज़
क्र. शीर्षक गीतकार गायक अवधि
1. "तुझ संग लागी"   इरशाद कामिल एम॰ एम॰ कीरवानी, केके 4:13
2. "गोरे मुखड़े पे ज़ुल्फा दी छावा"   सब्बीर अहमद श्रेया घोषाल, शबाब सब्री, अमन त्रिखा 4:06
3. "कौन मेरा (महिला)"   इरशाद कामिल चैत्र अम्बड़ीपुड़ी 2:57
4. "मुझ में तू"   इरशाद कामिल अक्षय कुमार 3:20
5. "कौन मेरा (पुरुष)"   इरशाद कामिल अंगराज महंता 2:54
6. "धरपकड़"   इरशाद कामिल बप्पी लाहिड़ी 2:22
7. "कौन मेरा"   इरशाद कामिल सुनिधि चौहान 2:32
8. "मुझ में तू"   इरशाद कामिल एम॰ एम॰ कीरवानी 4:24
कुल अवधि:
25:28

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]