श्रीलंका का भूगोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्द महासागर के उत्तरी भाग मे स्थित इस द्वीप राष्ट्र की भूमि केन्द्रीय पहाड़ो तथा तटीय मैदानो से मिलकर बनी है। वार्षिक वर्षा २५०० से ५००० मि.मी. तक होती है। वार्षिक तापमान का औसत मैदानी इलाकों में २७ डिग्री सेल्सियस तथा नुवारा एलिया (ऊंचाई - १८०० मीटर) के इलाके में १५ डिग्री सेल्सियस रहता है।


इस देश का विस्तार ६-१० गिग्री उत्तरी अक्षांश के मध्य होने, तथा चारो ओर समुद्र से घिरे होने की वजह से यह एक उष्ण कटिबंधीय जलवायु क्षेत्र है। यहां की औसत सापेक्षिक आर्द्रता दिन में ७०% से लेकर रात के समय में ९०% तक हो जाती है। भारतीय उपमहाद्वीप का हिस्सा समझे जाने वाले इस द्वीप को भारत से पाक जलडमरूमध्य अलग करता है। इसका कुल क्षेत्रफल 65,610 वर्ग किलोमीटर है तथा इसकी समुद्रतटीय रेखा 1340 किमी लम्बी है।


पिदुरुतलगला श्रीलंका का सर्वोच्च बिंदु है जिसकी समुद्रतल से उँचाई लगभग 2500 मीटर है।[1] यानि एवरेस्ट की ऊँचाई के एक तिहाई से भी कम। आदम का पुल (राम सेतु) की तरह श्रीलंका में एक आदम की चोटी भी है जो देश के उत्तर की बजाय दक्षिण में स्थित है। इसे स्थानीय लोग श्री पाद कहते हैं क्योंकि इसके शिखर के समीप एक 1.5 मीटर की रचना है जिसको बौद्ध लोग भगवान बुद्ध का पदचिह्न मानते है। हिन्दू लोग इसे भगवान शिव का पदचिह्न मानते हैं तो मुस्लिम इसे आदम का। यह देश की दूसरी सबसे उँची चोटी है जिसकी समुद्र तल से कोई 2243 मीटर है। यह आसपास के इलाकों से बहुत उन्नत तथा सुन्दर दिखता है तथा पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र है।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.mongabay.com/reference/country_studies/sri-lanka/GEOGRAPHY.html