वीन विस्थापन नियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विभिन्न निरपेक्ष तापमान के लिए तरंगदैर्ध्य के फलन के रूप में कृष्णिका तापोत्सर्जन तीव्रता। इस चित्र में वीन का नियम स्पष्ट नहीं है क्योंकि कुल उत्सर्जन में एक 1/λ2 का ज्यामितिय गुण्क है जो λ तरंगदैर्ध्य के विधाओं की गणना करता है और दूसरा गुणक 1/λ2, तीव्रता प्रति इकाई आवृति से प्रति इकाई तरंगदैर्ध्य में रूपान्तरित करता है।

वीन विस्थापन नियम के अनुसार किसी ताप पर कृष्णिका से तापोत्सर्जन का तरंगदैर्घ्य बंटन भी आरेख में प्रदर्शित तरंगदैर्ध्य के अलावा अन्य किसी ताप पर बंटन अनिवार्य रूप समान आकार का हो। वीन विस्थापन नियम के अनुसार

\lambda_\text{max} T = b,

जहाँ λmax शीर्ष तरंगदैर्ध्य है, T कृष्णिका का निरपेक्ष ताप है और b एक अनुक्रमानुपाती नियतांक है जिसे वीन विस्थापन नियतांक कहते हैं, इसका मान 2.8977685(51)×१०−3 m·K (2002 CODATA अनुशंसित मान)।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाह्य सूत्र[संपादित करें]