विलुप्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मॉरीशस का डोडो पक्षी मानव शिकार के कारण विलुप्त हो गया
संरक्षण स्थिति
विलुप्त होने का जोखिम
विलुप्त

विलुप्त
जंगल से विलुप्त

संकटग्रस्त

गंभीर रूप से विलुप्तप्राय
विलुप्तप्राय
असुरक्षित

कम जोखिम

संरक्षण पर निर्भर
संकटासन्न
खतरे से बाहर

यह भी देखें

प्रकृति संरक्षण हेतु अंतरराष्ट्रीय संघ
IUCN लाल सूची

विलुप्त विलुप्त जंगल से विलुप्त गंभीर रूप से विलुप्तप्राय विलुप्तप्राय प्रजातियां असुरक्षित प्रजातियां संकटासन्न संकटग्रस्त प्रजातियां खतरे से बाहर खतरे से बाहरIUCN संरक्षण स्थितियां

जीव विज्ञान में विलुप्ति (extinction) उस घटना को कहते हैं जब किसी जीव जाति का अंतिम सदस्य मर जाता है और फिर विश्व में उस जाति का कोई भी जीवित जीव अस्तित्व में नहीं होता। अक्सर ऐसा इसलिए होता है क्योंकि किसी जीव का प्राकृतिक वातावरण बदल जाता है और उसमें इन बदली परिस्थितियों में पनपने और जीवित रहने की क्षमता नहीं होती। अंतिम सदस्य की मृत्यु के साथ ही उस जाति में प्रजनन द्वारा वंश वृद्धि की संभावनाएँ समाप्त हो जाती हैं। पारिस्थितिकी में कभी कभी विलुप्ति शब्द का प्रयोग क्षेत्रीय स्तर पर किसी जीव प्रजाति की विलुप्ति से भी लिया जाता है।

अध्ययन से पता चला है कि अपनी उत्पत्ति के औसतन १ करोड़ वर्ष बाद जाति विलुप्त हो जाती है, हालांकि कुछ जातियाँ दसियों करोड़ों वर्षों तक जारी रहती हैं। पृथ्वी पर मानव के विकसित होने से पहले विलुप्तियाँ प्राकृतिक वजहों से हुआ करती थीं। माना जाता है कि पूरे इतिहास में जितनी भी जातियाँ पृथ्वी पर उत्पन्न हुई हैं उनमें से लगभग ९९.९% विलुप्त हो चुकी हैं।[1] मानवों के आगमन के बाद उसने बहुत सी जातियों को शिकार या अन्य गतिविधियों से विलुप्त कर दिया है और बहुत सी जातियों को विलुप्ति की कागार पर ला खड़ा किया है।

सामूहिक विलुप्ति एक विशेष प्रकार की घटना होती है जिसमें एक छोटी से काल में बहुत सी जातियाँ विलुप्त हो जाती हैं और पूरी पृथ्वी के सम्पूर्ण जीवन में कमी आती है।[2] सामूहिक विलुप्ति पृथ्वी पर असाधारण है लेकिन जातियों में छिट-पुट विलुप्ति होती रहती है। बहुत से वैज्ञानिक आधुनिक काल में मानवों द्वारा किये गए बदलावों (जैसे की वनों का नाश, प्रदूषण और वातावरण में बदलाव) के कारण तेज़ी से हो रही विलुप्तियों को लेकर चिंतित हैं।[3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Inheritance and Evolution, Denise Walker, Evans Brothers, 2006, ISBN 978-0-237-53010-5, ... When a whole species dies out, we say that it has become extinct. Extinction is usually a natural process and it is estimated that 99.9 per cent of all species that have ever lived are now extinct ...
  2. Mass Extinctions and Their Aftermath, A. Hallam, P. B. Wignall, Oxford University Press, 1997, ISBN 978-0-19-854916-1, ... He defines mass extinction as any substantial increase in the amount of extinction (that is, lineage termination) suffered by more than one geographically widespread higher taxon during a relatively short interval of geological time, resulting in at least temporary decline in their standing diversity ... more concise one offered here is that a mass extinction is an extinction of a significant proportion of the world's biota in a geologically insignificant period of time ...
  3. Encyclopedia of Time: Science, Philosophy, Theology, & Culture, Edited by H. James Birx, SAGE, 2009, ISBN 978-1-4129-4164-8, ... There have been five mass extinctions in geological time. It is believed that a sixth mass extinction is currently in progress, the first since the advent of humankind ...