विलासराव देशमुख

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
२००८ की एक घटना के दौरान एक सम्मेलन में देशमुख

विलासराव दगड़ोजीराव देशमुख महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हैं। ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य भी हैं। ये महाराष्ट्र के लातूर जिला के हैं। श्री विलासराव देशमुख को भारत सरकार की पंद्रहवीं लोकसभा के मंत्रीमंडल में बड़े उद्योग एवं सार्वजनिक उपक्रम में मंत्री बनाया गया है।

जीवन[संपादित करें]

इनका जन्म २६ मई १९४५ को हुआ था एवं मृत्यु अगस्त १४, २०१२ को चेन्नई के अस्पताल में हुयी.

पुत्र[संपादित करें]

इनका पुत्र रितेश देशमुख बॉलीवुड (हिन्दी सिनेमा जगत) का एक प्रसिद्ध अभिनेता है।

इस्तीफा[संपादित करें]

२६ नवंबर २००८ मुंबई में श्रेणीबद्ध गोलीबारी के बाद इन्होंने धमाकों में अपनी व सरकार की कमियों को मानते हुए अपने पद पर ३ दिसंबर को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है, जिसे श्रीमती सोनिया गाँधी ने स्वीकार भि कर लिया है। इसके साथ ही सोनिया ने देशमुख को निर्देश दिया है कि वे राज्‍यपाल को इस्‍तीफा सौंप दें.[1]

मुंबई में आतंकी हमलों के बाद जनता की हिफाजत में अक्षम साबित होने का आरोप झेल रहे विलासराव देशमुख की कुर्सी आखिरकार छिन ही गई। कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी को इस्‍तीफा सौंपने के बाद वे पार्टी के निर्देश का इंतजार कर रहे थे। अब राज्‍यपाल को इस्‍तीफा सौंपा जाना महज औपचारिकता ही रह गई है।

गौरतलब है कि मुंबई में आतंकी हमलों के बाद विलासराव देशमुख जब होटल ताज का जायजा ले रहे थे, तो साथ में उनके अभिनेता पुत्र रीतेश देशमुख और फिल्‍म निर्देशक रामगोपाल वर्मा भी थे। इस घटनाक्रम के बाद उन पर यह आरोप लगा कि आतंकी हमले जैसे गंभीर मसले को भी उन्‍होंने बेहद हल्‍के तरीके से लिया।

पूर्वाधिकारी
नारायण राणे
महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री
18 अक्तूबर 1999 - 16 जनवरी 2003
उत्तराधिकारी
सुशील कुमार शिंदे
पूर्वाधिकारी
सुशील कुमार शिंदे
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री
1 नवं 2004 – वर्तमान
पदस्थ

सन्दर्भ[संपादित करें]