विज्ञापन एजेंसी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विज्ञापन एजेंसी या ऐड एजेंसी ऐसी सेवाओं का व्यापार है जिसमें अपने ग्राहकों के लिए विज्ञापन बनाना, उनका नियोजन करना और संभालना (कभी-कभी प्रचार के दूसरे तरीके) भी शामिल हैं। विज्ञापन एजेंसी ग्राहक से पूर्ण रूप से स्वतंत्र होती है और ग्राहक के उत्पादों या सेवाओं को बेचने के लिए अलग नज़रिया प्रदान करती है। एक एजेंसी अपने ग्राहकों के लिए विपणन, ब्रांड बनाने और बिक्री से जुड़े प्रचार की समग्र रणनीतियों को संभाल सकती है।

विशिष्ट विज्ञापन एजेंसियों के ग्राहकों में उद्योग जगत औऱ निगम, लाभ निरपेक्ष संगठन और सरकारी एजेंसियां भी शामिल हैं। विज्ञापन के प्रचार के लिए एजेंसियों को किराये पर भी लिया जा सकता है।

इतिहास[संपादित करें]

ऐसा माना जाता है कि लंदन गैज़ेट के एक अधिकारी जॉर्ज रेनेल ने 1812 में संयुक्त राष्ट्र के लंदन में पहली विज्ञापन एजेंसी की स्थापना की थी। 1993 तक यह 'रेनेल एण्ड सन' नाम से पारिवारिक व्यवसाय बना रहा और अब टीएमपी रेनेल ब्रांड के अधीन टीएमपी (TMP) वर्ल्डवाइड एजेंसी (ब्रिटेन और आयरलैंड में) का हिस्सा है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] प्रारंभिक दौर में चार्ल्स बार्कर लंदन का एक अन्य विज्ञापन एजेंट था और उसने जिस फर्म की स्थापना की थी उसने 2009 में प्रशासन के अधीन जाने से पहले तक 'बार्कर्स' के नाम से कारोबार किया।

वोल्नी बी. पाल्मर ने 1850 में फिलाडेल्फिया में पहली अमेरिकी विज्ञापन एजेंसी खोली. यह एजेंसी अपने ग्राहकों द्वारा निर्मित विज्ञापनों को विभिन्न अखबारों के

के उत्पादों "फोटोग्राफों, एम्ब्रोटाइप और डग्युरियोटाइप में प्रकाशित कराती थी। उनके विज्ञापन ही पहले ऐसे विज्ञापन थे जिनकी अक्षराकृति और अक्षर प्रकाशन और दूसरे विज्ञापनों के मूलशब्द से अलग होते थे। उस समय के सभी अखबारों के विज्ञापन एगेट और केवल एगेट में ही बनते थे। उनके द्वारा विशिष्ट बड़े अक्षरों का अधिकाधिक उपयोग सनसनी का कारण बन गया। बाद में उसी वर्ष रॉबर्ट बॉनर ने एक अखबार में पहली बार पूरे पृष्ठ का विज्ञापन दिया.

1864 में विलियम जेम्स कार्लटन ने धार्मिक पत्रिकाओं में विज्ञापन के लिए जगह बेचना आरंभ किया। 1868 में जेम्स वाल्टर थॉम्पसन इस फर्म में शामिल हुए. थॉम्पसन तेजी से उनके सर्वश्रेष्ठ विक्रेता बन गये, 1877 में कंपनी को खरीद लिया और उसका नाम बदलकर जेम्स वाल्टर थॉम्पसन कंपनी रख दिया, जो आज सबसे पुरानी अमेरिकन एडवर्टाइजिंग एजेंसी है। यह महसूस करने के बाद कि अगर कंपनी विज्ञापनदाताओं के लिये विषय को विकसित करने की सेवा उपलब्ध कराती है तो वह और अधिक जगह बेंच सकती है, थॉम्पसन ने लेखकों और कलाकारों को काम पर रखकर पहली बार किसी विज्ञापल एजेंसी में क्रियेटिव अर्थात् सृजनात्मक विभाग की स्थापला की. अमेरिका में उन्हें "आधुनिक पत्रिकाओं में विज्ञापन प्रणाली के जनक" के रूप में जाना जाता है।

विज्ञापन एजेंसियों के प्रकार[संपादित करें]

विज्ञापन एजेंसियां हर आकार में उपलब्ध हैं जिनमें एक या दो व्यक्ति की दुकान से लेकर (जहां सभी कार्य स्वतंत्र प्रतिभा पर निर्भर है), छोटे से मध्यम आकार की एजेंसियां, स्मार्ट और टैक्सी जैसे विशाल स्वतंत्र और बहुराष्ट्रीय, एक स्वामित्व के अधीन विभिन्न कंपनियां जैसे-ओमनिकॉम ग्रुप, डब्ल्यूपीपी (WPP) ग्रुप, पब्लिसिस, इंटरपब्लिक ग्रुप ऑफ कंपनीज़ और हवास सभी शामिल हैं।

सीमित सेवा की विज्ञापन एजेंसियां[संपादित करें]

कुछ विज्ञापन एजेंसियां अपनी राशि और सेवा की सीमा तय कर देती हैं। ऐसी एजेंसियां आमतौर पर केवल एक या दो बुनियादी सेवायें प्रदान करती हैं। उदाहरण के लिए, हालांकि कुछ एजेंसियां "सृजनात्मकता" में विशेषज्ञ हैं, वे विज्ञापन सेवा में योजनाबद्ध तरीके से रणनीति मुहैया करती हैं, उनकी बुनियादी रुचि विज्ञापन बनाने में होती है। इसी तरह, कुछ "मीडिया-क्रय सेवा की खरीद" करने वाली मीडिया प्लानिंग उपलब्ध कराती हैं, पर मीडिया की खरीद, प्लेसमेंट और बिलिंग पर ध्यान देती हैं।

जब विज्ञापनदाता सीमित सेवा मुहैया करने वाली विज्ञापन एजेंसियों को चुनता है, तब उसे यह मान लेना चाहिये कि विज्ञापन योजना और समन्वय की गतिविधियां नियमित तौर पर पूर्ण सेवा विज्ञापन एजेंसियों द्वारा नियंत्रित की जाती हैं। इस प्रकार, जो विज्ञापनदाता सीमित सेवा देने वाली एजेंसियों का उपयोग करता है वह आमतौर पर रणनीतिक योजना की अधिक से अधिक जिम्मेदारी लेता है, विशेषज्ञ रचनात्मकता और मीडिया एजेंसियों को विशेष रणनीतिक दिशा देता है और इन एजेंसियों के विशेष उत्पाद पर अधिक नियंत्रण के लिए, यह सुनिश्चित करती हैं कि उनकी अलग-अलग गतिविधियां अच्छी तरह से सुनियोजित और एकीकृत हैं।

विशेषज्ञ विज्ञापन एजेंसियां[संपादित करें]

आम विज्ञापन एजेंसियों की पूर्ण कालिक सेवा के साथ ही कुछ ऐसी एजेंसियां भी हैं जो विशेष तरह के विज्ञापन में विशेषज्ञ हैं- आवश्यकता, मददगार, चिकित्सा, वर्गीकृत, औद्योगिक, वित्तीय, सीधी प्रतिक्रिया, खुदरा, येलो पेजेज, नाटकीय/मनोरंजन, निवेश, यात्रा इत्यादि.

ऐसे क्षेत्रों में विभिन्न कारणों से विशेषज्ञता की जरूरत पड़ती है। उदाहरण के लिए अक्सर भर्ती के विज्ञापनों में, विशेषज्ञ मीडिया या मीडिया का उपयोग होता है जिसमें ज्ञान और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है जो आमतौर पर एक सामान्य लाइन एजेंसी में नहीं मिलता। अन्य मामलों जैसे कि चिकित्सा या औद्योगिक विज्ञापनों में, विषय तकनीकी होता है और ऐसे लेखकों और कलाकारों की आवश्यकता होती है जिन्हें ऐसा प्रशिक्षण प्राप्त हो जिससे वे इसके बारे में सार्थक विज्ञापन संदेश लिख सकें.

ऐसी विशेषज्ञ विज्ञापन एजेंसियां भी आमतौर पर "पूर्ण सेवा" देती हैं, जिसमें वे विशेषज्ञता के साथ-साथ अपने क्षेत्र से संबंधित विज्ञापन एजेंसी की बुनियादी सेवाओं के अलावा अन्य परिधीय विज्ञापन सेवाएं प्रदान करती हैं जो उनकी विशेषज्ञता के क्षेत्र से सम्बंधित हों.

इन-हाउस विज्ञापन एजेंसियां[संपादित करें]

कुछ विज्ञापनदाताओं का मानना है कि वे अपने को इस तरह की विज्ञापन सेवाएं बाहरी एजेंसी के मुकाबले कम लागत में प्रदान कर सकते हैं।

परस्पर-प्रभावी (इंटरैक्टिव) एजेंसियां[संपादित करें]

परस्पर-प्रभावी या इंटरैक्टिव एजेंसियां वेब डिजाइन/ विकास, सर्च इंजन मार्केटिंग, इंटरनेट विज्ञापन/विपणन, या ई-बिजनेस/ ई-कॉमर्स परामर्श जैसी विभिन्न प्रकार की सेवाएं प्रदान कर अपने को अलग साबित कर सकती हैं। परस्पर-प्रभावी एजेंसियों ने परंपरागत विज्ञापन एजेंसियों द्वारा इंटरनेट को अपनाने के बहुत पहले ही प्रमुखता प्राप्त कर ली थी। सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला मुहैया करने की वजह से कुछ परस्पर-प्रभावी एजेंसियों ने बहुत तेजी से विकास किया, हालांकि कुछ ने बाजार की बदलती स्थितियों के सामने उसी तेजी से घुटने टेक दिये. आज, सबसे सफल परस्पर-प्रभावी एजेंसियों को डिज़िटल स्पेस के लिए विशेष विज्ञापन और विपणन सेवाएं प्रदान करने वाली कम्पनियों के रूप में परिभाषित किया जाता है। किसी भी मल्टीमीडिया-समर्थ इलेक्ट्रॉनिक चैनल को जहां से विज्ञापनदाता के संदेश को सुना या देखा जा सके, डिज़िटल स्पेस के रूप में परिभाषित किया गया है। 'डिज़िटल स्पेस' का मतलब इंटरनेट, कियोस्क, सीडी-रॉम (CD-ROMs), डीवीडी (DVDs) और जीवन शैली के उपकरण (आइपॉड, पीएसपी (PSP) और मोबाइल) है। परस्पर-प्रभावी एजेंसियां विज्ञापन एजेंसियों की तरह ही काम करती हैं, हालांकि वे अपना ध्यान पूरी तरह से परस्पर-प्रभावी विज्ञापन सेवाओं पर ही केंद्रित करती हैं। वे रणनीति, रचनात्मक, डिजाइन, वीडियो, विकास, प्रोग्रामिंग (फ़्लैश या कुछ और), परिनियोजन, प्रबंधन और पारितोषक रिपोर्टिंग जैसी सेवाएं उपलब्ध कराती हैं। अक्सर परस्पर-प्रभावी एजेंसियां: डिजिटल प्रभावित पीढ़ी, डिजिटल ब्रांड विकास, परस्पर-प्रभावी विपणन और संचार रणनीति, व्यापक मीडिया अभियान, परस्पर-प्रभावी वीडियो ब्रांड अनुभव, वेब 2.0 वेबसाइट डिजाइन और विकास, ई अधिगम उपकरण, ईमेल विपणन, एसईओ (SEO)/ एसईएम (SEM) सेवायें, पीपीसी (PPC) अभियान प्रबंधन, सामग्री प्रबंधन सेवायें, वेब अनुप्रयोग विकास और समग्र डाटा खनन और रॉय (ROI) मूल्यांकन जैसी सेवाएं प्रदान करती हैं।

परस्पर-प्रभावी एजेंसियों में हाल में आई तेजी का श्रेय वेब आधारित सामाजिक नेटवर्किंग और समुदायिक साइटों की बढ़ती लोकप्रियता को दिया जा सकता है। माइस्पेस, फेसबुक और यू ट्यूब जैसी साइटों के सृजन ने बाज़ार में रुझान उत्पन्न किया है, जिसकी वजह से कुछ परस्पर-प्रभावी एजेंसियों ने अपनी सेवाओं में व्यक्तिगत और कॉर्पोरेट समुदाय साइट के विकास की पेशकश आरंभ कर दी है। अभी ऐसा कहना जल्दबाजी हो सकता है कि एजेंसियां ग्राहकों के आरओआई (ROI) के मुद्रीकरण के लिए इस प्रकार के विपणन का इस्तेमाल किस तरह से करेंगी, लेकिन सभी संकेत इसी ओर इशारा करते हैं कि ऑनलाइन नेटवर्किंग ही ब्रॉंड की संचार और विपणन रणनीति के ब्रॉंड विपणन और परस्पर-प्रभाव का केंद्र होगी.

सामाजिक नेटवर्किंग में तेजी के कारण, नयी तरह की कंपनियां प्रतिष्ठा प्रबंधन कर रही हैं। जब किसी कंपनी को ऑनलाइन क्षति नियंत्रण की आवश्यकता हो तब इस तरह की एजेंसी विशेष रूप से महत्वपूर्ण होती है। यदि कोई ग्राहक असंतुष्ट हो जाता है तो सामाजिक नेटवर्किंग साइटों के माध्यम से किसी कंपनी की प्रतिष्ठा को बहुत आसानी से नुकसान पहुंचाया जा सकता है। क्योंकि इसकी वजह कोई भी जानकारी बड़ी तेजी से फैलती है, ऐसे में किसी भी अफवाह, गपशप या अन्य नकारात्मक ऑनलाइन प्रेस का पता लगते ही उसे संबोधित करना आवश्यक हो जाता है।

खोज इंजन एजेंसियां[संपादित करें]

हाल ही में, पे पर क्लिक पीपीसी (PPC) और सर्च इंजन ऑप्टीमाइजेशन एसईओ (SEO) जैसी कंपनियों को कुछ लोगों द्वारा 'एजेंसी' के तौर पर वर्गीकृत किया गया है क्योंकि वे मीडिया बनाती हैं और विषय आधारित विज्ञापन की खरीद (या छवि आधारित और कुछ मामलों में विपणन खोज में प्रभावी होती हैं। इस अपेक्षाकृत युवा उद्योग ने 'एजेंसी' शब्द को बेहद धीमी गति से अपनाया है, हालांकि विज्ञापन बनाने (पाठ हो या छवि) और मीडिया खरीद में, वे तकनीकी रूप में 'विज्ञापन एजेंसियों' के रूप में योग्य साबित हुए हैं।

सामाजिक मीडिया एजेंसियां[संपादित करें]

सोशल मीडिया या सामाजिक मीडिया एजेंसियां विभिन्न ब्रांडों के प्रचार के लिए ब्लॉग्स, सामाजिक नेटवर्किंग साइटों, क्यू एंड ए (Q&A) साइटों, चर्चा मंचों, माइक्रोब्लॉग्स आदि जैसे विभिन्न सामाजिक मीडिया प्लेटफॉर्मों का इस्तेमाल करती हैं। सामाजिक मीडिया एजेंसियों की मुख्य दो सेवाएं हैं:

स्वास्थ्य सेवा (हेल्थकेयर) संचार एजेंसियां[संपादित करें]

स्वास्थ्य सेवा संचार एजेंसियां स्वास्थ्य सेवा और जीव विज्ञान उद्योगों के लिए रणनीतिक संचार और विपणन सेवाओं में विशेषज्ञता अर्जित करती हैं। ये एजेंसियां यू.एस. फूड एण्ड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन या एफडीए (FDA) द्वारा निर्धारित लेबलिंग और विपणन के कठोर दिशा निर्देशों और एडवामेड(ADVAMED) और फार्मा जैसे उद्योग समूहों के दिशा निर्देशों का पालन कर अपने को अन्य एजेंसियों से अलग बनाती हैं।

उल्लेखनीय उदाहरण: डूडनिक शामिल है।

चिकित्सा शिक्षा एजेंसियां[संपादित करें]

चिकित्सा शिक्षा एजेंसियां स्वस्थ्य सेवा और जीव विज्ञान उद्योगों के लिए शैक्षणिक सामग्री बनाने में विशेषज्ञता प्राप्त करती हैं। ये एजेंसियां आम तौर पर एक दो क्षेत्रों में विशेषज्ञता प्राप्त करती हैं:

  • विज्ञापन-संबंधी शिक्षा(प्रोमोशनल एजुकेशन) - शिक्षा और प्रशिक्षण सामग्री निर्धारित उत्पाद या उपचार के प्रचार से जुड़े हैं
  • सतत चिकित्सा शिक्षा (कनटिन्यूइंग मेडिकल एजुकेशन)- सतत चिकित्सक और पेशेवर चिकित्सा शिक्षा के लिए तैयार की गयी मान्यता प्राप्त शिक्षण और प्रशिक्षण सामग्री.

अन्य एजेंसियां[संपादित करें]

अक्सर विज्ञापन एजेंसियों के स्थान पर इंटरप्राइज़ टेक्नोलॉजी एजेंसीज़ विज्ञापन एजेंसियों के साथ मिलकर वेब, मोबाइल उपकरणों और उभरते डिजिटल प्लेटफार्मों के लिए कुछ परस्पर-प्रभावी एजेंसियों द्वारा उपलब्ध सबसेट सेवाओं : वेब 2.0 वेबसाइट डिजाइन और विकास,सामग्री प्रबंधन प्रणालियों, वेब अनुप्रयोग विकास और अन्य सहज ज्ञान युक्त तकनीक समाधान के लिए काम करती हैं।

छात्रों द्वारा संचालित विज्ञापन एजेंसी मॉडल, मुख्य रूप से विश्वविद्यालय की कक्षाओं के बाहर या छात्र समूहों के रूप में संचालित होटी हैं, शैक्षिक अवसरों के बदले में ग्राहकों को मुफ्त में विज्ञापन की सेवाएं प्रदान करता है।

एजेंसी विभाग[संपादित करें]

सृजनात्मक (क्रिएटिव) विभाग[संपादित करें]

विज्ञापन एजेंसी के केंद्र के वे लोग जो वास्तव में विज्ञापन बनाते हैं। आधुनिक विज्ञापन एजेंसियां आमतौर पर अपने कॉपी राइटर और आर्ट डिरेक्टर को सृजनात्मक टीमों में शामिल करती है। सृजनात्मक टीमों की स्थायी भागीदारी भी हो सकती है या यह अलग-अलग परियोजनाओं पर आधारित हो सकती है। आर्ट डिरेक्टर और कॉपीराइटर क्रिएटिव डिरेक्टर को रिपोर्ट करते हैं, जो आमतौर पर एक सृजनकर्ता कर्मचारी होता है जिसे वर्षों का तजुर्बा होता है। हालांकि कॉपीराइटर्स के कार्य उपाधि में "राइट" और आर्ट डिरेक्टर्स के नाम में "आर्ट" शब्द रहता है, पर यह जरूरी नहीं कि एक लिखे और दूसरा चित्र बनाए, वे दोनों (विज्ञापन या प्रचार के लिए मुख्य संदेश) विचारों का प्रतिनिधित्व करने के लिए संदेश के अनुकूल रचनात्मक प्रस्ताव देते हैं। सृजनात्मक विभाग अक्सर बाहर के डिज़ाइन और प्रोडक्शन स्टूडियो के साथ मिलकर उनके विचारों को विकसित और लागू करने के लिए काम करते हैं। सृजनात्मक विभाग प्रोडक्शन आर्टिस्ट को एंट्री लेवल पदों पर, साथ ही संचालन और रखरखाव के लिए भी नियुक्त कर सकता है। विज्ञापन प्रक्रिया का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है सृजनात्मक प्रक्रिया.

एकाउंट सेवाएं[संपादित करें]

एजेंसियां ग्राहकों के साथ तालमेल बिठाने के लिए अकाउंट कार्यकारी को नियुक्त करती हैं। एकाउंट एक्ज़ीक्यूटिवों को ग्राहकों की जरूरतों और इच्छाओं के बारे में पर्याप्त पता होना जरूरी है ताकि एजेंसी के अधिकारियों को निर्देश दिये जा सकें और एजेंसी की सिफारिश पर उसे ग्राहकों की मंजूरी मिलनी आवश्यक होती है। रचनात्मकता और विपणन कौशल ग्राहक सेवा के लोगों के लिए आवश्यक क्षेत्र हैं। वे प्रत्येक क्षेत्र के विशेषज्ञों के साथ मिलकर काम करते हैं।

मीडिया सेवाएं[संपादित करें]

मीडिया सर्विसेज़ विभाग भले ही इतना लोकप्रिय न हो, लेकिन इसके कर्मचारियों के संबंध विभिन्न रचनात्मक मीडिया के विभिन्न आपूर्तिकर्ताओं के साथ होते हैं। उदाहरण के लिए, यदि एक एजेंसी ग्राहक के लिए फ्लायर्स का उत्पादन करटी है तो वे प्रिंटर्स को सुझाव देने या समझौता कराने में कामयाब होंगे. हालांकि, जब बड़े मीडिया (प्रसारण मीडिया, आउटडोर और प्रेस) के साथ काम होता है तब यह काम मीडिया एजेंसी को सौंप दिया जाता है जो मीडिया प्लानिंग पर सलाह देने में सक्षम होती है और जो सामान्य रूप से इतनी विस्तृत होती है कि बातचीत कर एक अकेली एजेंसी या ग्राहक की अपेक्षा कीमतों को कम कर सके.

उत्पादन[संपादित करें]

उत्पादन विभाग के बगैर कॉपीराइटर और आर्ट डिरेक्टर द्वारा बनाया गया विज्ञापन किसी कागज पर लिखे गये शब्दों और चित्रों के अतिरिक्त कुछ भी नहीं होता. संक्षेप में उत्पादन विभाग यह सुनिश्चित करता है कि टीवी (TV) कामर्शियल या प्रिंट विज्ञापन आदि का उत्पादन हो सके. वे बाहरी विक्रेताओं (टीवी विज्ञापनों के मामले में निर्देशकों और उत्पादन कंपनियों को, प्रिंट विज्ञापन या सीधे मेलर्स के मामले में फोटोग्राफरों और डिज़ाइन स्टूडियो को) के साथ अनुबंध करने के लिए जिम्मेवार होते हैं। निर्माता प्रारंभिक रचनात्मक ब्रिफिंग से लेकर निष्पादन और वितरण तक एक परियोजना के हर पहलू में शामिल होते है। कुछ एजेंसियों में वरिष्ठ निर्माता को "कार्यकारी निर्माता" या "सामग्री आर्किटेक्ट" के रूप में जाना जाता है।

आधुनिक एजेंसियों में एक एकीकृत मीडिया प्लानिंग विभाग भी हो सकता है जो सभी जगह और प्लेसमेंट की योजना बनाता हो.

अन्य विभाग और अधिकारी[संपादित करें]

छोटी एजेंसियों में कर्मचारी रचनात्मक और एकाउंट सर्विस दोनों का काम करते हैं। बड़ी एजेंसियां ऐसे लोगों को आकर्षित करती हैं जिन्हें एक या अन्य क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल हो और वास्तव में विशिष्ट पदों पर अनगिनत लोगों को उदाहरण के लिए- उत्पादन के काम, इंटरनेट एडवर्टाइज़िंग, योजना या रिसर्च के लिए रखती है।

कई बार भुला दिए जाने के बावजूद विज्ञापन एजेंसी के भीतर यातायात एक अभिन्न अंग है। यातायात (ट्राफिक) विभाग एजेंसी में काम के प्रवाह को नियंत्रित करता है। इसकी अध्यक्षता आमतौर पर एक यातायात प्रबंधक (या सिस्टम प्रशासक) करता है। ट्राफिक झूठे कामों को रोक कर, अनुचित काम को बढ़ावा न देकर, अधूरी जानकारी को साझा न करके, अधिक और कम लागत का आंकलन करके और मीडिया के विस्तार की जरूरत को पूरा कर एक एजेंसी की दक्षता और लाभप्रदता को बढ़ाता है। छोटी एजेंसियों में एक समर्पित यातायात प्रबंधक के न होने पर उदाहरण के तौर पर एक कर्मचारी कार्यप्रवाह प्रबंधन के लिए ही नहीं लागत अनुमान एकत्र करने और फोन का जवाब देने जैसे कार्य के लिए भी जिम्मेदार होता है। बड़ी एजेंसियों में यातायात विभाग में पांच या अधिक कर्मचारी भी हो सकते हैं।

एडवर्टाइज़िंग इंटर्न्स आम तौर पर विश्वविद्यालय के कनिष्ठ और वरिष्ठ हैं, जो सही मायने में एडवर्टाइज़िंग में रुचि और योग्यता भी रखते हैं। विज्ञापन एजेंसियों में इंटर्नशिप में पांच में से एक क्षेत्र में विशेषज्ञता होनी चाहिए: एकाउंट सर्विस, इंटरैक्टिव, मीडिया, जनसंपर्क और ट्राफिक.

इंटर्नशिप कार्यक्रम में आम तौर पर एकाउंट के मौलिक काम शामिल है जो एकाउंट प्रबंधन में साथ ही एजेंसी के अन्य पहलुओं के लिए जोखिम की पेशकश भी होती है। इस स्थिति की प्राथमिक जिम्मेदारी खाता प्रबंधक की सहायता करनी होती है। खाता प्रबंधन प्रशिक्षु के कार्य में शामिल हो सकते हैं:

शोध और विश्लेषण: उद्योग के बारे में जानकारी इकट्ठा करना, प्रतियोगिता, ग्राहक उत्पाद या सेवा, साथ ही मौखिक/लिखित रूप में सिफारिशों के साथ निष्कर्ष देना.

• आंतरिक बैठकों में शामिल होना और जब उपयुक्त हो ग्राहकों की बैठक करना

• रचनात्मक परियोजनाओं के प्रबंधन में खाता सेवाओं में सहायता करना

अक्सर इन्टर्न्स आंतरिक रचनात्मक प्रक्रिया में हिस्सा लेते हैं, जहां उन्हें एक वेबसाइट बनाने और उसके प्रबंधन की जिम्मेवारी के साथ ही विज्ञापन अभियान को विकसित करना होता है। इन परियोजनाओं में काम करने वाले जैसे ये इन्टर्न्स सीखते हैं कि प्रभावी विज्ञापन और संचार योजना के लिए रणनीति और अच्छी तरह से विकसित विपणन कितना आवश्यक हैं।

अपने इंटर्नशिप के दौरान प्रशिक्षु एक विज्ञापन, ब्रोश्योर और प्रसारण या संचार परियोजना की शुरू से अंत तक की प्रक्रियाओं को अनुभव प्राप्त करते हैं। इंटर्नशिप के दौरान प्रशिक्षु को एजेंसी में और विज्ञापन की प्रक्रियाओं में अधिक से अधिक मौका मिलना चाहिए.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]