राय आनंद कृष्ण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राय आनंद कृष्ण कला इतिहासवेत्ता एवं संग्रहालयशास्त्री थे। इन्होंने न केवल भारतीय कलाकृतियों का संरक्षण करने में योगदान दिया है, बल्कि इस विधा में व्यावसायिक कला शोधकर्त्ता भी तैयार किये हैं। इनके कार्य और संग्रह भारत कला भावन, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय. वाराणसी में सुरक्षित हैं, जिन्होंने कला के इतिहास को भारत में एक नई आधुनिक दृष्टिकोण दिया। ये विख्यात कला मर्मज्ञ तथा कलाविद तथा भारत कला भवन संग्रहालय के संस्थापक थे। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन 'भारत कला भवन' के लिए संग्रह हेतु समर्पित कर दिया। उनके जीवन का यही समर्पण और आत्मविश्वास आज 'भारत कला भवन' के रूप में काशी हिंदू विश्वविद्यालय को गौरवान्वित कर रहा है। विभिन्न कला कृतियों के संयोजन में तो उनकी अभिरुचि थी ही, किंतु भारतीय चित्रों के संकलन के प्रति उनकी आत्मीय आस्था थी। यही कारण है कि 'भारत कला भवन' न केवल राष्ट्रीय स्तर पर अपितु अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लघु चित्रों के संग्रह में अपना एक निजस्व रखता है।इन्हें भरत सरकार ने पद्मविभूषण से सम्मानित किया था।[1]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. इतिहास– भारत कला भवन-लक्ष्मीकांत नारायण

बाह्य सूत्र[संपादित करें]