ब्रॉडबैंड वायरलेस अभिगम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इन्हें भी देखें: Mobile broadband
307 डब्ल्यू. 7 स्ट्रीट फोर्ट वर्थ टीएक्स (TX) के ऊपर तीन 45 एमबीट (Mbit)/s वायरलेस डिशेज़

वायरलेस ब्रॉडबैंड एक बेहतर नई तकनीक है, जो एक विस्तृत क्षेत्र में उच्च गति के वायरलेस इंटरनेट और डाटा नेटवर्क अभिगम (पहुंच) प्रदान करती है।

ब्रॉडबैंड शब्द[संपादित करें]

802.16-2004 मानक के अनुसार, ब्रॉडबैंड का अर्थ है लगभग 1 मेगाहर्ट्ज से ज्यादा बड़े तात्क्षणिक बैंडविड्थ (दूरसंचार प्रणाली की प्रेषण क्षमता) और करीब 3 एमबीपीएस और एमबीट/ट्स व 756 केवीपीएस किलोबाइट से ज्यादा समर्थित डेटा दर होना. इसका मतलब यह है कि वायरलेस ब्रॉडबैंड में गति मोटे तौर पर तार वाले ब्रॉडबैंड पहुंच, जैसे एडीएसएल या केबल मॉडम के समकक्ष होती है। वायरलेस ब्रॉडबैंड भी सममित हो सकता है, जिसका मतलब यह हुआ कि बैंडविड्थ दोनों दिशाओं- डाउनलोड/अपलोड की ओर जा सकता है, जो 'फिक्स्ड वायरलेस' के साथ सबसे ज्यादा जुड़ा हुआ है। फिक्स्ड वायरलेस मोबाइल की तुलना में एक स्थिर स्थलीय वायरलेस कनेक्शन है, (उपग्रह के समान, लेकिन उससे कहीं बेहतर गति वाला) जो अधिक से अधिक गति की अनुमति देता है।

संक्षिप्त रूप[संपादित करें]

आदिवर्णी शब्द "डब्ल्यूआईबीबी (WiBB)" स्थानीय भाषा में "वायरलेस ब्रॉडबैंड" के एक संकुचन के रूप में प्रवेश कर रहा है, उसी तरह जैसे "वाईफ़ाई (WiFi)" 802.11 या इसी तरह के वायरलेस नेटवर्क के लिए संदर्भित करता है। [मूल अनुसंधान?] [प्रशस्ति-पत्र अपेक्षित

प्रौद्योगिकी और गतियां[संपादित करें]

चित्र:100-0023 IMG.JPG
एक निवास पर एक ठेठ विस्प (WISP) ग्राहक परिसर उपकरण (सीपीई (CPE)) स्थापित.

कुछ वायरलेस इंटरनेट सेवा प्रदाता (डब्ल्यूएसआईपीएस (WISPs)) 100/एमबिट/ट्स से ज्यादा की डाउनलोड स्पीड प्रदान करते हैं, हालांकि ज्यादातर ब्रॉडबैंड वायरलेस एक्सेस सेवाओं का अनुमानित दायरा टॉवर से 50 किमी (30 मील) दूरी तक होता है।[1] जिन टेक्नोलॉजीज का प्रयोग किया जाता है, उनमें एलएमडीएस और एमएमडीएस शामिल हैं, साथ ही आईएसएम बैंडों के भारी इस्तेमाल और एक विशेष पहुंच प्रौद्योगिकी का आईईईई 802.16 द्वारा मानकीकृत किया जा रहा है, जिसे वाईमैक्स के रूप में जाना जाता है।वाईमैक्स यूरोप में अत्यधिक लोकप्रिय है, लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका में इसे पूर्ण स्वीकृति नहीं मिली हैं, क्योंकि इसे स्थापित करने की लागत निवेश के आंकड़ों पर उतना प्रतिदान नहीं देता. 2005 में फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन एक रिपोर्ट और व्यवस्था को अपनाया, जिसने स्थलीय वायरलेस ब्रॉडबैंड संचालनों के लिए 3650 मेगाहर्ट्ज बैंड खोलने के लिए नियमों में संशोधित किया।[2] 14 नवम्बर 2007 को आयोग ने एक सार्वजनिक सूचना डीए 07-4605 जारी की, जिसमें वायरलेस टेलीकम्युनिकेशंस ब्यूरो ने 3650-3700 मेगाहर्ट्ज बैंड के लिए लाइसेंस देने और पंजीकरण की प्रक्रिया की तारीख की घोषणा की गई थी।[3] हाल ही में एफसीसी ने टीवी व्हाइट अंतरिक्ष नियम (टीवीडब्ल्यूएस) को अपनाया और एफसीसी भाग 15-नियमों (http://www.wispa.org/?p=3146) में दृष्टि आवृत्ति (700 मेगाहर्ट्ज) के लिए कुछ बेहतर नॉन-लाइन की अनुमति दी. डब्ल्यूआईएसपीएस के एक राष्ट्रीय संघ, वायरलेस इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर एसोसिएशन (http://www.wispa.org) ने एफसीसी के समक्ष याचिका दायर की और उसे जीत मिली. इस वजह से हम बाजार में नए उत्पादों को देख सकेंगे, जो वाई-फाई मानक से बेहतर होंगे और जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर कवरेज की अनुमति मिल सकेगी.

प्रारंभ में, डब्ल्यूआईएसपीएस (WISPs) केवल ग्रामीण क्षेत्रों में पाये जाते थे और केबल या डीएसएल (DSL) द्वारा कवर नहीं किये गये थे।[4] इन शुरुआती डब्ल्यूआईएसपीएस उच्च क्षमता वाले टी करियर, जैसे टी 1 या डीएस 3 कनेक्शन स्थापित करेंगे और तब एक उच्च उत्थापन, जैसे पानी के टॉवर के शीर्ष से सिगनल का प्रसारण करेंगे. इस प्रकार के इंटरनेट कनेक्शन प्राप्त करने के लिए उपभोक्ताओं को अपने घर या कार्यालय की छत पर एक छोटी डिश रखनी होगी और इसे ट्रांसमीटर की ओर केंद्रित करना होगा. दृष्टि की पंक्ति 2.4 और 5 गीगाहर्ट्ज बैंडों में डब्ल्यूआईएसपीएस आपरेशन में आमतौर पर जरूरी होते हैं और इसके साथ 900 मेगाहर्ट्ज बेहतर एनएलओएस (नन-लाइन-ऑफ-साइट) काम करता है।

मोबाइल वायरलेस ब्रॉडबैंड[संपादित करें]

मोबाइल ब्रॉडबैंड भी कहे जाने वाले मोबाइल वायरलेस ब्रॉडबैंड प्रौद्योगि‍कियों में वेरिजन, स्प्रिंट और एटी एंड टी मोबिलिटी जैसी कंपनियो की नई सेवाएं शामिल हैं, जो ब्रॉडबैंड पहुंच के और गतिशील संस्करण प्रदान करती हैं। उपभोक्ता अपने पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप को सेल फोन टावरों के जरिये इंटरनेट से जोड़ने के लिए एक पीसी कार्ड, लैपटॉप कार्ड या यूएसबी उपकरण खरीद सकते हैं। इस तरह का कनेक्शन लगभग किसी भी क्षेत्र में स्थिर रहेगा, जहां एक मजबूत सेल फोन कनेक्शन प्राप्त होता हो. पोर्टेबल होने की सुविधा के कारण इन कनेक्शनों की लागत अधिक आती है, साथ ही साथ शहरी वातावरण को छोड़कर सभी क्षेत्रों में गति की सीमाएं रहती हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कई महीनों की चर्चा के बाद 2 जून 2010 में एटी एंड टी पहला वायरलेस इंटरनेट प्रदाता बन गया, जिसने उपयोग के अनुसार ही शुल्क लेने की घोषणा की. चूंकि अमेरिका में एकमात्र आईफान सेवा ही है, एटी एंड टी को अधिक इंटरनेट का प्रयोग करने में समस्या का अनुभव दूसरे प्रदाताओं की तुलना में ज्यादा हुआ। करीब 3 प्रतिशत एटी एंड टी स्मार्ट फोन ग्राहकों ने इस प्रौद्योगिकी का 40 प्रतिशत तक का ही इस्तेमाल किया। कंपनी के 98 प्रतिशत ग्राहकों ने 25 डॉलर मासिक प्लान की सीमा के तहत 2 गीगाबाइट (4000 पृष्ठ देखना, 10,000 ई-मेल या 200 मिनट स्ट्रीमिंग वीडियो) से भी कम तथा 15 डॉलर मासिक सीमा प्लान के अंतर्गत 65 प्रतिशत ने 200 मेगाबाइट से कम का उपयोग किया। सीमा से अधिक प्रत्येक गीगाबाइट के लिए ग्राहकों को 7 जून 2010 से एक माह के लिए 10 डॉलर प्रति माह शुल्क लिया जाएगा, हालांकि मौजूदा ग्राहकों को प्रति माह 30 डॉलर असीमित सेवा योजना से परिवर्तन की आवश्यकता नहीं होगी. नई योजना उन लोगों के लिए आवश्यकता बन जायेगी, जो बाद में गर्मियों में नई आईफोन प्रौद्योगिकी के लिए समुन्नत होंगे.[5]

लाइसेंस[संपादित करें]

एक वायरलेस कनेक्शन लाइसेंस सहित या लाइसेंसरहित हो सकता है। अमेरिका में लाइसेंसी कनेक्शंस एक निजी स्पेक्ट्रम का प्रयोग करते हैं, जिसका अधिकार प्रयोक्ता ने फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन (एफसीसी (FCC)) से हासिल किया है। अन्य देशों में स्पेक्ट्रम का लाइसेंस देश की राष्ट्रीय रेडियो संचार प्राधिकार (जैसे ऑस्ट्रेलिया में एसीएमए (ACMA) या नाइजीरिया में नाइजीरियाई संचार आयोग) प्रदान किया जाता है। लाइसेंस लेना आमतौर पर महंगा होता है और यह अक्सर वैसी बड़ी कंपनियों के लिए आरक्षित होता है, जो बिंदु से बिंदु तक उपयोग के लिए स्पेक्ट्रम तक निजी पहुंच की गारंटी चाहते हैं। इस वजह से, वायरलेस आईएसपी के ज्यादातर उपयोगकर्ता बिना लाइसेंस वाले स्पेक्ट्रम का उपयोग करते हैं, जो सार्वजनिक रूप से साझा किया जाता है।

अमेरिका में स्पेक्ट्रम की मांग[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में वायरलेस ब्रॉडबैंड इंटरनेट पहुंच के लिए अधिक प्रसारण स्पेक्ट्रम की जरूरत होती थी और मार्च 2009 में, मैसाचुसेट्स सीनेटर जॉन केरी ने स्पेक्ट्रम के कुशल उपयोग के लिए एक अध्ययन की आवश्यकता हेतु एक विधेयक पेश किया।

उसी साल बाद में, सीटीआईए (CTIA) ने कहा कि 800 मेगाहर्ट्ज और जोड़ने की जरूरत है। एसोसिएशन फॉर मैक्सिमम सर्विस टेलीविज़न के डेविड डोनोवैन ने कहा कि मोबाइल उपग्रह सेवा के लिए आबंटित 2 गीगाहर्ट्ज बैंड का दस साल के बाद भी इस्तेमाल नहीं किया गया था और इस बैंड की ओर रुख करना प्रसारकों को और आबंटन करने के लिए कहने से बेहतर होगा. डिजिटल संक्रमण की वजह से टेलीविजन को अपने 400 मेगाहर्ट्ज में से 100 का नुकसान उठाना पड़ा.[6] नेशनल एसोसिएशन ऑफ ब्रॉडकास्टर्स और एएमएसटी ने एफसीसी से टिप्पणी की कि सरकार को और ज्यादा चाहने के बदले इस नये उपलब्ध स्पेक्ट्रम और वायरलेस के लिए पहले से ही आबंटित दूसरे स्पेक्ट्रम का अधिकतम उपयोग करना चाहिए, जबकि इससे लाभान्वित होने वाली कंपनियों ने कहा कि सरकार जहां तक संभव हो, हर जगह देखे.[7][8] कई प्रसारकों ने आपत्ति की.[7]

सबसे नये रिपब्लिकन आयुक्त मेरेडिथ एटवेल बेकर इस बात पर सहमत हुए कि मौजूदा स्पेक्ट्रम का समुचित उपयोग महत्वपूर्ण था और ऐसा करना नवीनतम प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करना था। वायरलेस उद्योग को और अधिक स्पेक्ट्रम, लाइसेंसी और लाइसेंसरहित दोनों की जरूरत है।[9]

एफसीसी ब्रॉडबैंड सलाहकार ब्लेयर लेविन ने फ़रवरी 2010 तक एक योजना चाही.[8] एक अन्य प्रस्ताव "जियो फिल्टर्ड वाईमैक्स (WiMAX)" था, जिस पर एचडीटीवी (HDTV) को एक खास बाजार में अनुमति थी, लेकिन यह याद दिलाते हुए कि यह स्पेक्ट्रम 60 बिलियन में बेचा जा चुका है। वाईमैक्स वर्तमान सेवाओं की जगह लेगा, लेकिन यह एमवीपीडी (MVPD) सेवाओं को और सस्ता बना देगा और प्रसारकों के लिए और अधिक धन कमाने का अवसर देगा. अतिरिक्त स्पेक्ट्रम उद्योग का ऋण चुकाने के लिए बेचे जा सकेंगे.[8]

23 नवम्बर 2009 को एफसीसी की एक कार्यशाला में कई तरह के विचार उभरे. वर्जीनिया टेक के प्रोफेसर चार्ल्स बोस्टियान ने कहा कि साझेदारी की जा सकती है, पर श्वेत स्थानों में नहीं, इसके बदले वाईफाई स्पेक्ट्रम का प्रयोग किया जाना चाहिए. गूगल (Google) की विन्ट सर्फ़ ने कहा कि केबल कंपनियों को "अवश्य पालन किये जाने वाले नियमों", जो इसकी अनुमति नहीं देते, को छोड़कर कुछ वैसे स्पेक्ट्रम बांटना चाहिए, जो वो चाहती हैं। बीबीएन टेक्नोलॉजीज के मुख्य इंजीनियर चिप इलियट ने शोधकर्ताओं द्वारा साझा किये जाने वाले सरकार द्वारा वित्त पोषित ब्रॉडबैंड की जरूरत बताई. इस प्रौद्योगिकी को आगे बढ़ाने के लिए सहयोग जरूरी है और "सहयोगकर्ता" शब्द ब्रॉडबैंड के लिए संदर्भित है, जो न केवल अनुसंधान का लक्ष्य है, बल्कि वाहक भी है।[10]

श्वेत क्षेत्रों के उपयोग के साथ वाई-फाई का परीक्षण 2009 के आखिर में वर्जीनिया में और 2010 में उत्तरी कैरोलिना के विलमिंग्टॉन में किया गया।[11]

14 दिसम्बर 2009 को हाउस एनर्जी एंड कॉमर्स कमेटी की संचार उपसमिति के समक्ष सुनवाई में एनएबी के अध्यक्ष गॉर्डन एच. स्मिथ ने ग्रामीण क्षेत्रों के श्वेत इलाकों में मोबाइल उपकरणों के बदले स्थिर उपकरण के उपयोग और सेज्मी द्वारा विकसित की गईं नई ब्रॉडबैंड सेवाओं के प्रकार के इस्तेमाल की सिफारिश की. सीटीआईए के अध्यक्ष स्टीव लारजेंट ने कहा कि उद्योग को स्पेक्ट्रम की जरूरत है, "जो कहीं से भी आये". उन्होंने कहा कि सरकारी स्पेक्ट्रम का शायद कुशलतापूर्वक उपयोग नहीं किया गया था और इसे "संभवत:" "नये मकसद के लिए लगाया जायेगा", जबकि अन्य प्रसारण और उपग्रह स्पेक्ट्रम का वायरलेस के लिए बेहतर इस्तेमाल किया "जा सकता" है। लारजेंट ने यह भी कहा कि और अधिक स्पेक्ट्रम के बिना कंपनियों को जो उनके पास है, उसका विलय कर बेहतर इस्तेमाल करना चाहिए. एफसीसी के पूर्व इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी प्रमुख, सलाहकार डेव हैटफील्ड ने कहा कि संपीड़न और अधिमिश्रण के जरिये मौजूदा स्पेक्ट्रम के अधिकतम प्रयोग में मदद मिलेगी, लेकिन यह पर्याप्त नहीं होगा.[12][13]

7 फ़रवरी 2010 की समय सीमा एक महीने के लिए बढ़ायी गई।[14] 16 मार्च को एफसीसी की मासिक बैठक में कनेक्टिंग अमेरिका नाम से राष्ट्रीय ब्रॉडबैंड योजना का खुलासा हुआ, जिसके अनिवार्य व स्वैच्छिक प्रयासों के संयोजन से स्पेक्ट्रम में 300 मेगाहर्ट्ज तक की वृद्धि का अनुमान किया गया, जिसमें से 120 मेगाहर्ट्ज प्रसारकों से मिलने की उम्मीद थी और 90 मेगाहर्ट्ज मोबाइल उपग्रह सेवा से.[15][16]

एफसीसी के ब्रॉडबैंड प्रवक्ता मार्क विगफिल्ड ने बताया कि अगर अप्रत्याशित घटना के रूप में बाजार के सारे प्रसारक अपने स्पेक्ट्रम छोड़ दें तो एफसीसी को यह गारंटी देनी होगी कि कुछ ओवर-द-एयर सेवा बहाल रहे.[17]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "WiMAX: Broadband Wireless Access". wi-fiplanet.com. http://www.wi-fiplanet.com/tutorials/article.php/3412391. अभिगमन तिथि: 2008-03-17. 
  2. "REPORT AND ORDER - Released: March 16, 2005" (PDF). Federal Communications Commission. http://hraunfoss.fcc.gov/edocs_public/attachmatch/FCC-05-56A1.pdf. अभिगमन तिथि: 2008-03-17. 
  3. "PUBLIC NOTICE - Released: November 14, 2007" (PDF). Federal Communications Commission. http://hraunfoss.fcc.gov/edocs_public/attachmatch/DA-07-4605A1.pdf. अभिगमन तिथि: 2008-03-17. 
  4. "A WISP with Vision". wi-fiplanet.com. http://www.wi-fiplanet.com/columns/article.php/3652986. अभिगमन तिथि: 2008-03-17. 
  5. Bartash, Jefffrey (2010-06-03). "AT&T first carrier to end unlimited data plans". MarketWatch. http://www.thesunnews.com/2010/06/03/1509693/att-first-carrier-to-end-unlimited.html. अभिगमन तिथि: 2010-06=03. 
  6. Eggerton, John (2009-10-05). "Broadcasters Tackle Spectrum-Sharing Debate". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/356595-Broadcasters_Tackle_Spectrum_Sharing_Debate.php?rssid=20065&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-10-09. 
  7. Eggerton, John (2009-10-26). "Broadcasters Defend Spectrum From Reclamation Proposals". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/366470-Broadcasters_Defend_Spectrum_From_Reclamation_Proposals.php?rssid=20068&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-10-30. 
  8. Eggerton, John (2009-11-02). "Broadcasters Defend Their Spectrum". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/367021-Broadcasters_Defend_Their_Spectrum.php?rssid=20068&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-11-05. 
  9. Eggerton, John (2009-10-26). "Q&A: Baker Seeks Spectrum". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/366209-Q_A_Baker_Seeks_Spectrum.php?rssid=20068&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-10-30. 
  10. Eggerton, John (2009-11-23). "Academics, Execs Signal Need For More Bandwidth, Money For Broadband Research". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/390234-Academics_Execs_Signal_Need_For_More_Bandwidth_Money_For_Broadband_Research.php?rssid=20103&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-12-03. 
  11. Eggerton, John (2010-02-24). "Wilmington Tests WiFi in White Spaces". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/450679-Wilmington_Tests_WiFi_in_White_Spaces_.php?rssid=20068&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2010-02-25. 
  12. Eggerton, John (2009-12-15). "Broadcast, Wireless Industries Keep Powder Dry". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/440398-Broadcast_Wireless_Industries_Keep_Powder_Dry.php?rssid=20065&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-12-17. 
  13. Eggerton, John (2009-12-14). "Smith: Broadcasters Must Be Part of Broadband Ecosystem". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/440278-Smith_Broadcasters_Must_Be_Part_of_Broadband_Ecosystem.php?rssid=20068&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2009-12-17. 
  14. Eggerton, John (2010-01-18). "FCC's Bellaria Says Broadcasters Lobbying Against Scenario That's No Longer On Table". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/444575-FCC_s_Bellaria_Says_Broadcasters_Lobbying_Against_Scenario_That_s_No_Longer_On_Table.php?rssid=20103&q=digital+tv. अभिगमन तिथि: 2010-01-26. 
  15. Eggerton, John (2010-03-15). "FCC Broadband Plan: Commission Sets 2015 Spectrum Deadline". Broadcasting & Cable. http://www.broadcastingcable.com/article/450261-FCC_Broadband_Plan_Commission_Sets_2015_Spectrum_Deadline.php. अभिगमन तिथि: 2010-03-23. 
  16. "The National Broadband Plan". Federal Communications Commission. http://www.broadband.gov/plan/. अभिगमन तिथि: 2010-04-08. 
  17. Eggerton, John (2010-03-08). "FCC Has Legal Obligation to Preserve Free TV". Broadcasting & Cable. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]