बिचोलिम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दिवचल या डिचोली
बिचोलिम
—  शहर  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य गोवा
ज़िला उत्तर गोवा
जनसंख्या 14,913 (2001 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 22 मीटर (72 फी॰)

Erioll world.svgनिर्देशांक: 15°36′N 73°57′E / 15.60°N 73.95°E / 15.60; 73.95

गोवा में बिचोलिम की अवस्थिति (नारंगी रंग से दर्शाया गया है)

बिचोलिम, (कोंकणी: दिवचल, मराठी: डिचोली), भारतीय राज्य गोवा के जिले उत्तर गोवा, का एक शहर और नगर परिषद है। यह बिचोलिम तालुका का मुख्यालय भी है। यह गोवा के पूर्वोत्तर में स्थित है, और यह पुर्तगाल की नोवास कोंक्विस्टास (नई विजय) का हिस्सा था। बिचोलिम, गोवा की राजधानी पणजी से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गोवा में यह खनन का गढ़ है।

इतिहास[संपादित करें]

18 वीं शताब्दी तक बिचोमिम का अधिकांश एक स्वतंत्र जमींदार प्रभु सरदेसाई (संखाली/संगेम के) की मिलकियत था जबकि, बचा हुआ हिस्सा सावंतवाड़ी राजशाही के अधिकार क्षेत्र में आता था। 18 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में पुर्तगालियों ने नोवास कोंक्विस्टास (नई विजय) के रूप में इस पर कब्ज़ा कर लिया।

भूगोल[संपादित करें]

बिचोलिम 15°36′N 73°57′E / 15.60°N 73.95°E / 15.60; 73.95 पर स्थित है।[1] इसकी औसत ऊँचाई 22 मीटर (72 फुट) है।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

भारत की 2001 की जनगणना के अनुसार,[2] बिचोलिम की जनसंख्या 14913 थी। जनसंख्या में पुरुषों का हिस्सा 52% और महिलाओं का हिस्सा 48% है। बिचोलिम की साक्षरता दर 80% थी जो तत्कालीन राष्ट्रीय साक्षरता दर 59.5% से अधिक थी; पुरुष साक्षरता दर 84% और महिला साक्षरता दर 75% थी। जनसंख्या का 10%, 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों का था।

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

खनन बिचोलिम का मुख्य उद्यम है और लगभग 36% जनसंख्या, वेदांता ( जिसने सेसा का अधिग्रहण किया था) की एक लोह-अयस्क की खान में कार्यरत है। बुधवार को बिचोलिम में बुध-बाज़ार लगता है जिसमें बिचोलिम और आस पास के इलाकों के लोग जरूरत के सामान का क्रय/विक्रय करते हैं।

पर्यटन स्थल[संपादित करें]

  • मायेम झील; बिचोलिम में पर्यटकों के लिए मुख्य आकर्षण मायेम झील है। पहाड़ों के बीच स्थित इस झील के चारों ओर घने पेड़ों से घिरी है। गोवा पर्यटन ने इसके निकट एक रिजॉर्ट बनाया है और नौका चालन जैसी गतिविधियों का प्रबंध किया है।
  • अर्वालम गुफाएं; यहाँ पर 7 वीं शताब्दी में बनाई गयी विश्व प्रसिद्ध अर्वालम या पांडव गुफाएं भी स्थित है जो पर्यटकों और अन्वेषकों को समान समान रूप से आकर्षित करती हैं।

अन्य स्थल[संपादित करें]

  • शांता दुर्गा और महादेव मंदिर।
  • अवर लेडी ऑफ ग्रेस गिरिजाघर।
  • निमूज़ घर (नमाज़ घर)।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]