प्रबंधन सूचना प्रणाली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रबन्धन सूचना प्रणाली (MIS) एक व्यवसाय जिसमें लोगों, दस्तावेज़ों और प्रौद्योगिकी के प्रक्रम के अनुप्रयोग शामिल हैं, के समग्र आंतरिक नियंत्रण का एक सबसेट है जो प्रबन्धन लेखाकारों द्वारा उत्पाद या सेवा की लागत तय करने या व्यापार की व्यापक रणनीति बनाने जैसी व्यापार समस्याएँ सुलझाने के लिए प्रयोग किया जाता है। प्रबन्धन सूचना प्रणाली आम सूचना प्रणाली से अलग है क्योंकि इसका प्रयोग संगठन में होने वाली परिचालन गतिविधियों पर लागू होने वाली अन्य सूचना प्रणालियों का विश्लेषण करने के लिए किया जाता है।[1] शैक्षिक तौर पर, सामान्यतः मनुष्य द्वारा निर्णय लेने की प्रक्रिया की मदद या स्वचालन से जुड़ी सूचना प्रबन्धन विधियों के समूह के लिए ये शब्द प्रयोग किया जाता है जैसेकि निर्णय समर्थन प्रणाली,विशेषज्ञ प्रणाली और कार्यकारी सूचना प्रणाली[1]

यह माना जाता है कि "MIS प्रौद्योगिकी और व्यापार को मिलाने वाले स्थान पर रहता है। लोगों को अपने काम को बेहतर ढंग से/ज्यादा तेज़ी से/ और ज्यादा चालाकी से करने के लिए तकनीकी और व्यापार के जिस मेल की ज़रुरत होती है वो MIS देता है। जानकारी सभी संगठनों को जिंदा रखने के लिए ज़रूरी खून की तरह है - और यह बात वर्तमान समय में पहले से भी ज्यादा सच है। MIS व्यवसायी प्रणाली विश्लेषक, परियोजना प्रबन्धक,प्रणाली प्रशासक आदि रूपों में कार्य करते हैं, इन रूपों में वो पूरे संगठन के कर्मचारियों और प्रबन्धन से सीधे बात करते हैं। "[2]

समीक्षा[संपादित करें]

शुरू में, व्यापार और अन्य संगठनों में, आंतरिक रिपोर्ट सिर्फ निश्चित समयांतराल पर हाथ से बनायीं जाती थी। ये रिपोर्ट लेखा प्रणाली के आधार पर और कुछ अन्य आंकड़ों को शामिल करके तैयार की जाती थी और प्रबन्ध प्रदर्शन के बारे में इसके द्वारा दी जाने वाली सूचना सीमित और विलम्बित होती थी। पहले, संगठन की आवश्यकता के अनुसार लोगों द्वारा आंकड़ों को व्यक्तिगत रूप से अलग करना पड़ता था। बाद में, आंकड़ों और सूचनाओं को अलग किया जाता था और ढेर सारे आंकड़े इकट्ठा करने की बजाय केवल महत्वपूर्ण और सटीक आंकड़ों को संग्रहित किया जाता था।

अपनी प्रारम्भिक अवस्था में, व्यापार कंप्यूटर पेरोल के अभिकलन और देय तथा प्राप्य खातों की निगरानी रखने के व्यावहारिक कार्य के लिए प्रयोग किया जाता था। जैसे जैसे प्रबन्धकों को बिक्री, वस्तु सूची और अन्य आंकड़े देने वाले ऐसे अनुप्रयोग विकसित हुए जो किसी उद्योग के प्रबन्धन में सहायता दे सकते हैं, वैसे वैसे इस तरह के अनुप्रयोगों का वर्णन करने के लिए "MIS" शब्द सामने आया। आज, यह शब्द मोटे तौर पर कई संदर्भों के लिए प्रयोग होता है जिनमें शामिल हैं (लेकिन ये सिर्फ इन तक ही सीमित नहीं है): निर्णय समर्थन प्रणाली, संसाधन और लोगों के प्रबन्धन अनुप्रयोग, परियोजना प्रबन्धन और आंकड़ों की पुनः प्राप्ति के अनुप्रयोग।

परिभाषा[संपादित करें]

'MIS' प्रबन्धन के कार्यों को करने के लिए ज़रूरी सूचनाओं के रूप में आंकड़ों को इकट्ठा करने, उन्हें प्रसंस्कृत करने, उनका भण्डारण करने और उनका प्रसार करने के लिए प्रयोग होने वाली एक सुनियोजित प्रणाली है। एक तरह से यह उन गतिविधियों की रिपोर्ट है जिनकी योजना बनाई गई थी और जिनका कार्यान्वयन किया गया। फिलिप कोटलर के अनुसार, "एक विपणन सूचना प्रणाली लोगों, उपकरणों और ऐसी प्रक्रियाओं से मिलकर बनती है जो विपणन निर्णयकर्ताओं के लिए ज़रूरी सटीक सूचना इकट्ठा करने, अलग करने, उनका विश्लेषण करने, आकलन करने और समय पर उनका वितरण करने का कार्य करती हैं। " [3]

MIS और सूचना प्रणाली ये शब्द अक्सर एक दुसरे के लिए भ्रम पैदा करते हैं। सूचना प्रणाली में ऐसी प्रणालियाँ शामिल हैं जो निर्णय लेने में मदद करने से अभिप्रेत नहीं हैं। अध्ययन के क्षेत्र में MIS की व्याख्या कभी कभी सीमित अर्थ में एक सूचना प्रौद्योगिकी प्रबन्धन के रूप में की जाती है। अध्ययन के उस क्षेत्र को कंप्यूटर विज्ञान समझने का भ्रम नहीं करना चाहिए. आईटी सेवा प्रबन्धन एक व्यवसायी-केन्द्रित शाखा है। MIS भी उद्योग संसाधन योजना(ERP) से कुछ अलग है क्योंकि ERP में ऐसे तत्व भी शामिल हैं जो आवश्यक रूप से निर्णय लेने में मदद करने पर केन्द्रित नहीं हैं।

प्रोफेसर एलेन एस ली का कहना है कि "सूचना प्रणालियों के क्षेत्र में अनुसंधान तकनीकी प्रणाली या सिर्फ सामाजिक प्रणाली, या उन दोनों से ही ज्यादा चीज़ों का परीक्षण करता है; इसके अतिरिक्त, यह उन दोनों की आपस में होने वाली क्रिया से उत्पन्न होने वाली अनोखी घटना की जांच करता है। "[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. O’Brien, J (1999). Management Information Systems – Managing Information Technology in the Internetworked Enterprise. Boston: Irwin McGraw-Hill. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0071123733. 
  2. http://www.sjsu.edu/isystems/
  3. Kotler, Philip; Keller, Kevin Lane (2006). Marketing Management (12 ed.). Pearson Education. 
  4. Lee, Allen S. (2001). "Editor’s Comments". MIS Quarterly 25 (1): iii-vii. 

बाहरी लिंक[संपादित करें]