निर्माण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बड़े निर्माण परियोजनाओं में गगनचुंबी इमारतों, जैसे क्रेन आवश्यक हैं.

वास्तुकला और सिविल इंजीनियरिंग के क्षेत्रों में निर्माण एक प्रक्रिया है, जिसमें निर्माण या बुनियादी सुविधाओंका एकत्रीकरण किया जाता है. एकल गतिविधि से दूर, बड़े पैमाने पर निर्माण का अर्थ कई तरह के कार्य पूरे करना है. सामान्य रूप से काम का प्रबंध परियोजना प्रबंधक करता है और निर्माण प्रबंधक, डिजाइन इंजीनियर, निर्माण इंजीनियर या परियोजना वास्तुकार की देखरेख में संपन्न होता है.

परियोजना के सफल निष्पादन के लिए एक प्रभावी योजना बनाना आवश्यक है. उस खास बुनियादी सुविधाओं और डिजाइन के निष्पादन में जो लगे होते हैं, उन्हें अवश्य ही काम के पर्यावरण संबंधी प्रभाव सफल समयबद्धता, बजट बनाना, स्थल की सुरक्षा, सामग्रियों की उपलब्धता, निर्माण सामग्रियों व श्रमिकों के रख्ररखाव (लॉजिस्टिक), निर्माण में देर के कारण लोगों को होने वाली असुविधा, निविदा दस्तावेजों की तैयारी आदि का विचार करना चाहिए.

निर्माण परियोजनाओं के प्रकार[संपादित करें]

सामान्यत: निर्माण के तीन प्रकार हैं:

  1. भवन निर्माण
  2. भारी/सिविल निर्माण
  3. औद्योगिक निर्माण

प्रत्येक प्रकार की निर्माण परियोजना के लिए योजना बनाने, डिजाइन, निर्माण और परियोजना को आगे बढ़ाने के लिए एक अद्वितीय टीम की आवश्यकता होती है.

भवन निर्माण[संपादित करें]

Building construction for several apartment blocks. The blue material is insulation cladding, which will be covered later.
A large unfinished building

भवन निर्माण रीयल संपत्ति में ढांचे को जोड़ने की प्रक्रिया है. भवन निर्माण परियोजनाओं का एक बड़ा हिस्सा छोटे निर्माण के नवीकरण, जैसे भवन में एक और कमरा जोड़ना या स्नानघर का नवीकरण करना होता है. अक्सर, संपत्ति का मालिक मजदूर, वेतन भुगतानकर्ता के रूप में कार्य करता है और पूरी परियोजना के लिए डिजाइन टीम बनाता है. हालांकि, सभी भवन निर्माण परियोजनाओं में कुछ तत्व आम तौर पर शामिल होते हैं - जैसे डिजाइन, वित्तीय और कानूनी कारण. विभ‍िन्न आकार की कई परियोजनाएं अनपेक्षित अंत पर पहुंचती हैं, जैसे ढांचे का गिर जाना, लागत बढ़ जाना और/या मुकदमेबाजी में फंसना, पर जो इस क्षेत्र में अनुभवी होते हैं, वे एक सकारात्मक परिणाम सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत योजना बनाते हैं और कार्य के दौरान सावधानीपूर्वक निरीक्षण करते हैं.

भवन निर्माण निजी तौर पर या सार्वजनिक क्षेत्र के लिए विभिन्न निकासी पद्धतियों के जरिये होता है, जिसमें हार्ड बिड, बातचीत द्वारा तय किये गये मूल्य, पारंपरिक, प्रबंधन ठेका, जोखिम के साथ निर्माण प्रबंधन, डिजाइन और निर्माण तथा डिजाइन बना हुआ सेतु भी शामिल होते हैं.

May 23, 2006
September 14, 2007 (3 months before completion)

आवासीय निर्माण के अभ्यास, प्रौद्योगिकियों और संसाधनों को अवश्य ही स्थानीय निर्माण प्राधिकार के नियमों और संहिताओं के अनुरूप होना चाहिए. क्षेत्र में उपलब्ध तैयार सामग्रियों को आम तौर पर उपयोग की जाने वाली निर्माण सामग्री कहा जाता है, (जैसे ईंट बनाम पत्थर, बनाम लकड़ी). प्रति वर्ग मीटर (या प्रति वर्ग फुट) के आधार पर घरों की लागत नाटकीय रूप से स्थल की स्थिति, स्थानीय नियमों, पैमाने की अर्थव्यवस्थाओं (पारंपरिक डिजाइन वाले घरों के निर्माण का खर्च हमेशा से महंगा रहा है.) और दक्ष कामगारों की उपलब्धता पर आधारित होती है. जैसे आवासीय (साथ-साथ अन्य प्रकार के निर्माण भी) निर्माण काफी कचरापैदा कर सकते हैं, पर यहां भी सावधानीपूर्वक योजना बनाने की जरूरत होती है.

संयुक्त राज्य अमेरिका में आवासीय निर्माण की सबसे लोकप्रिय विधि लकड़ी के ढांचे पर निर्माण है. चूंकि हाल के वर्षों में दक्षता की संहिताएं आई हैं, इसलिए नये निर्माण तकनीक और तरीके उभरे है. विश्वविद्यालय निर्माण प्रबंधन निर्माण के नवीनतम तरीकों को अपनाने वाला है, जिससे दक्षता में सुधार, प्रदर्शन और निर्माण कचरे को कम करने में मदद मिलेगी.

Construction of the Havelock City Project in Sri Lanka.
Construction of Phase-1 of the Havelock City Project in Sri Lanka.

औद्योगिक निर्माण[संपादित करें]

औद्योगिक निर्माण, हालांकि पूरे निर्माण उद्योग का एक अपेक्षाकृत छोटा हिस्सा है, पर यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है. इन परियोजनाओं के मालिक आमतौर पर बड़े लाभ पर केंद्रित और औद्योगिक निगमों के रूप में होते हैं. इस तरह के निगम दवा, पेट्रोलियम, रसायन, बिजली उत्पादन, विनिर्माण, आदि उद्योगों मे पाये जाते हैं. इन उद्योगों की प्रक्रियाओं के लिए योजना, डिजाइन और निर्माण में अतिविशिष्ट विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है. भवन और भारी/राजमार्ग निर्माण में इस तरह का व्यक्तियों की एक टीम की आवश्यकता होती है, ताकि परियोजना की सफलता सुनिश्चित की जा सके.

निर्माण प्रक्रिया[संपादित करें]

डिजाइन टीम[संपादित करें]

शास्ता बांध निर्माण के तहत

आधुनिक औद्योगिक दुनिया मे, निर्माण आम तौर पर कागज के अनुवाद या कंप्यूटर पर आधारित डिजाइनों को वास्तविकता में बदलना है. एक औपचारिक डिजाइन टीम भौतिक प्रक्रियाओं की योजना के बना सकती है और उन्हें दूसरे भागों के साथ प्रक्रियाओं में एकीकृत किया जा सकता है. डिजाइन में आमतौर पर ड्राइंग और विनिर्देश होते है, जो आम तौर पर ग्राहक वास्तुकार, इंटीरियर डिजाइनरों, सर्वेयरों, सिविल इंजीनियरों लागत इंजीनियरों (या मात्रा सवेयरों) यांत्रिक इंजीनियरों, वैद्युतिक इंजीनियरों, संरचनात्मक इंजीनियरों और आग संरक्षण इंजीनियरों सहित डिजाइनर टीम द्वारा तैयार किये जाते हैं. ज्यादातर मामलों में डिजाइन की टीम (अनुबंध के साथ) संपत्ति के मालिक द्वारा नियोजित की जाती है. इस प्रणाली के तहत, एक बार डिजाइन टीम द्वारा डिजाइन का काम पूरा हो जाता है, तो कई निर्माण कंपनियों या निर्माण प्रबंधन कंपनियों को काम के लिए बोली लगाने के लिए कहा जाता है, जो या तो सीधे डिजाइन पर आधारित होती है या ड्राइंग और मात्रा सर्वेक्षक द्वारा प्रदान किये गये ड्राइंग बिल के आधार पर होती है. बोलियों के मूल्यांकन के बाद, स्वामी आम तौर पर सबसे कम बोली लगाने वाले को ठेका देता है.

डेगू में अपार्टमेंट निर्माण के अंदर, दक्षिण कोरिया

डिजाइन में आधुनिक रुझान खासकर बड़ी कंपनियों में पहले अलग-अलग विशेषताओं के एकीकरण की ओर है. अतीत में, वास्तुकारों, इंटीरियरों डिजाइनरों, इंजीनियरों, डेवलपर्स, निर्माण प्रबंधकों और सामान्य ठेकेदारों के अधिकतर मामलों में अलग-अलग कंपनियों से जुड़े होने की संभावना होती थी, यहां तक कि बड़ी कंपनियों में भी ऐसा ही होता था. वर्तमान में, एक फर्म, जो एक "वास्तुकला" या "निर्माण प्रबंधन" कंपनी नाम की होती है, में सभी संबद्ध क्षेत्रों के विशेषज्ञ कर्मचारियों के रूप में या किसी सहयोगी कंपनी से जुड़े होते हैं, जो प्रत्येक आवश्यक कौशल प्रदान करते हैं. इस प्रकार, प्रत्येक ऐसी फर्म शुरु से आखिर तक एक निर्माण परियोजना के लिए "एक जगह खरीदारी" का प्रस्ताव दे सकती है. इसे एक "डिजाइन निर्माण" अनुबंध कहा जा सकता है, जहां ठेकेदार को प्रदर्शन विनिर्देश दिया जाता है और उस पर प्रदर्शन विनिर्देश का पालन करते हुए डिजाइन से निर्माण तक का कार्य पूरा करना होता है.

एक पूर्व निर्मित घर का निर्माण

कई परियोजना संरचनाएं इस एकीकरण में डिजाइन-निर्माण, साझेदारी करने, निर्माण प्रबंधन सहित मालिक की सहायता कर सकते हैं. आम तौर पर, इन परियोजना संरचनाओं में प्रत्येक में मालिक को वास्तुकार, इंटीरियर डिजाइनरों, इंजीनियरों और ठेकेदारों की सेवाओं को पूरी डिजाइन और निर्माण प्रक्रिया के दौरान एकीकृत करने की अनुमति होती है. इसकी प्रतिक्रिया में, कई कंपनियां डिजाइन या निर्माण के पारंपरिक सेवाओं के प्रस्तावों से एक कदम आगे बढ़ रही हैं और डिजाइन-निर्माण प्रक्रिया के दौरान अन्य आवश्यक भागीदारों के साथ संबंध स्थापित करने पर अधिक जोर दे रही हैं.

निर्माण परियोजनाओं की बढ़ती जटिलता से परियोजना के जीवन चक्र के सभी चरणों में प्रशिक्षित डिजाइन पेशेवरों और एक उन्नत तकनीक से लैस भवन के रूप में प्रशंसित होने की जरूरत पैदा हो रही है, जिसमें स्थिरता सहित कई उप प्रणालियों और उनके व्यक्तिगत घटकों के घनिष्ठ एकीकरण की आवश्यकता होती है. निर्माण इंजीनियरिंग एक ऐसा उभरता हुआ क्षेत्र है, जिसे नई चुनौतियों का सामना करने की कोशिश करनी है.

वित्तीय सलाहकार[संपादित करें]

कई निर्माण परियोजनाएं निवारण योग्य वित्तीय समस्याओं से ग्रस्त होती हैं. कम बोली लगाने वाले परियोजना पूरी करने के लिए कम पैसे की मांग करते हैं. नकदी के प्रवाह की समस्या तब पैदा होती है, जब वर्तमान राशि से श्रमिकों व सामग्रियों का वित्त पोषण नहीं हो पाता और चूंकि यह एक विशिष्ट समय में पर्याप्त धन से जुड़ा मामला है, इसलिए लागत तब भी बढ़ सकती है, जब कुल लागत पर्याप्त हो. कई क्षेत्रों में धोखाधड़ी एक समस्या है, लेकिन निर्माण क्षेत्र इसके लिए कुख्यात है. परियोजना के लिए वित्तीय योजना का मकसद यह सुनिश्चित करना होता है कि पर्याप्त सुरक्षा और आपात योजनाओं के साथ एक ठोस योजना कार्य शुरू करने से पहले बने और इसमें यह भी सुनिश्चित करना होता है कि योजना ठीक तरह से पूरी परियोजना अवधि में उचित तरीके से निष्पादित हो.

बंधक बैंकर, लेखाकार और लागत इंजीनियर भवन निर्माण परियोजना के वित्तीय प्रबंधन के लिए एक समग्र योजना बनाने के संभावित प्रतिभागी होते हैं. बंधक बैंकर मौजूदगी की भी अत्यधिक संभावना होती है, भले ही अपेक्षाकृत छोटी परियोजनाएं क्यों न हों, क्योंकि एक भवन परियोजना के लिए वित्तपोषण का सबसे बड़ा स्रोत संपत्ति में मालिक की इक्विटी होती है. लेखाकार का काम परियोजना की अवधि में कोष का प्रवाह और पूरी प्रक्रिया में भुगतान की निगरानी करना होता है. लागत इंजीनियर का कार्य व सामग्रियों उचित मूल्यांकन के क्षेत्र में अपनी विषेज्ञता को लागू करना होता है. सरकारी परियोजनाओं में लागत तब बढ़ जाती है, जब ठेकेदार बदलाव के आदेश या परियोजना में परिवर्तनों की पहचान करने में सक्षम होता है, जिससे लागत काफी बढ़ जाती है. हालांकि इनका दूसरी फर्मों की प्रतियोगिता से कोई लेना-देना नहीं होता, क्योंकि प्रारंभिक बोली के बाद ही वे अलग कर दी जाती हैं.[1]

बड़ी परियोजनाओं में अत्यधिक जटिल वित्तीय योजनाएं शामिल हो सकती हैं. किसी परियोजना के कुछ हिस्से जब पूरे हो जाते है, तो उन्हें बेचा, एक ऋणदाता या मालिक द्वारा दूसरों को बदला जा सकता है, जबकि निर्माण परियोजना के प्रत्येक चरण के लिए सामग्री सही ट्रेडों और सामग्रियों की परिवहन जरूरतों को आगे जारी रख्ना जा सकता है. कई अंग्रेजी-भाषी देशों में, लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका नहीं, परियोजनाओं में आमतौर मात्रा सर्वेयरों का उपयोग किया जाता है.

कानूनी विचार[संपादित करें]

एक निर्माण परियोजना को अवश्य ही संपत्ति के शासकीय कानूनी ढांचे में फिट होना होता है. इनमें संपत्ति के उपयोग पर सरकारी नियम और दायित्व शामिल होते हैं, जो निर्माण की प्रक्रिया के दौरान निर्मित होते हैं.

परियोजना को क्षेत्रों में विभाजन और भवन कोड आवश्यकताओं का पालन करना होता है. जिस परियोजना में कोड का पालन करने में विफलता हासिल होती है, उसमें मालिक को फायदा नहीं होगा. कुछ कानूनी आवश्यकताएं अज्ञात कारणों से पैदा होती हैं या पुल के गिर जाने या विस्फोट जैसे निर्विवाद खराब स्थितियों से निपटने की इच्छा के दौरान पड़ती है. अन्य कानूनी आवश्यकताएं संभावित स्थितियों व चीजों से पैदा हो सकती हैं, रिवाज या उम्मीद के मुताबिक आती हैं, जैसे व्यावसायिक भवनों को व्यावसायिक जिले में और आवासीय भननों को आवासीय जिले के लिए अलग करना. एक वकील उस देश में लागू कानून में बदलाव या छूट की मांग कर सकता है, जहां इमारत का निर्माण किया जाने वाला है, जैसे वह तर्क दे सकता है कि यह नियम लागू नहीं होने योग्य है (पुल डिजाइन पतन नहीं होगा), या कि कस्टम कानूनों की जरूरत नहीं है(समुदाय में लाइव-वर्क स्पेश की स्वीकृति विकसित हो गई है).

एक निर्माण परियोजना अनुबंधों और अन्य कानूनी दायित्वों का एक जटिल जाल है, जिनमें से प्रत्येक पर ध्यान से विचार किया जाना चाहिए. एक अनुबंध दो या अधिक पार्टियों के बीच दायित्वों के एक सेट का विनिमय है, लेकिन यह इतना आसान मामला नहीं है कि एक पक्ष दूसरे पक्ष को जितना कम संभव हो, उतने के विनिमय पर ज्यादा से ज्यादा के लिए सहमत करने की कोशिश करे. निर्माण में समय तत्व का मतलब है कि देर होने से लागत बढ़ती है और बाधाओं के मामलों में देर बहुत महंगी पड़ सकती है. इस प्रकार, अनुबंध इस रूप से किया जाना चाहिए कि यह सुनिश्चित हो सके कि प्रत्येक पक्ष दायित्वों के निर्वाह करने में सक्षम हो सके. अनुबंध में अपेक्षाओं का स्पष्ट विवरण और उन अपेक्षाओं को पूरा करने का साफ रास्ता तय होना चाहिए, जिससे कि परियोजना के सुचारु रूप से आगे बढ़ाने का परिणाम हासिल हो सके, जबकि खराब अनुबंध का मसौदा भ्रम पैदा करता है और अंतत: उसका पतन हो सकता है.

एक निर्माण परियोजना की शुरूआत में कानूनी सलाहकार अस्पष्टता और अनुबंध संरचना की अन्य संभावित परेशानी के स्रोतों की पहचान और समस्याओं के निदान के लिए मौजूदा विकल्पों की तलाश कर सकते हैं. परियोजना की पूरी प्रक्रिया के दौरान वे टकराव से से बचने और उनके निदान के लिए काम करते हैं. प्रत्येक मामले में, वकील उन दायित्वों का पालन करता है, जो परियोजना की वास्तविकता से मेल खाता है.

विशेषज्ञता का आदान-प्रदान[संपादित करें]

डिजाइन, वित्त और कानूनी पहलू एक दूसरे पर आश्रित और संबंध रखने वाले हो सकते हैं. डिजाइन को न केवल संरचनात्मक रूप से बेहतर और उपयोग और स्थान के लिए सुविधाजनक होना चाहिए, बल्कि निर्माण आर्थिक रूप से संभव और कानूनी झमेलों से मुक्पत होना चाहिए. वित्तीय संरचना ऐसी हो, जिसमें प्रदान की डिजाइन के निर्माण की जरूरतें समायोजित हो सकें और कानूनी तौर पर देयताओं का भुगतान करना होगा. कानूनी ढांचा ऐसा हो, जिससे आसपास के कानूनी ढांचे में डिजाइन को एकीकृत किया जा सके और वह निर्माण की प्रक्रिया के वित्तीय परिणामों को प्रभावित कर सके.

अधिप्रापण या खरीद[संपादित करें]

एक ग्राहक के भवन को प्राप्त करने के लिए द्वारा की जाने वाली गतिविधियों के विलय को खरीद कहा जा सकता है. निर्माण खरीद के कई अलग-अलग तरीके हैं, हालांकि खरीद के तीन सबसे आम प्रकार हैं:

  1. पारंपरिक (डिजाइन-बिड निर्माण)
  2. डिजाइन और निर्माण
  3. संपर्क प्रबंधन

खरीद के नए रूपों की संख्या भी बढ़ रही है, जिसमें संबद्ध अनुबंध शामिल होता है और जहां एक निर्माण परियोजना के भीतर मुख्य‍ मालिक, ठेकेदार और अन्य हितधारकों के बीच सहकारी संबंधों पर जोर होता है. नए रूपों में साझेदारी जैसे सार्वजनिक-निजी साझेदारी (PPPs) उर्फ निजी वित्त पहल (PFIs) और गंठबंधनों जैसे "शुद्ध" या "परियोजना" गंठबंधन और "अशुद्ध या "रणनीतिक" गठबंधन शामिल होते हैं. सहयोग पर ध्यान केंद्रित करने का मकसद कई समस्याओं को दूर करना होता है, जो निर्माण उद्योग के भीतर अक्सर अत्यधिक प्रतिस्पर्धी और प्रतिकूल गतिविधियों के कारण पैदा होती हैं.

परंपरागत[संपादित करें]

इस निर्माण खरीद का सबसे आम तरीका है और अच्छी तरह से स्थापित और मान्यता प्राप्त है. इस व्यवस्था में इंजीनियर या वास्तुकार परियोजना के समन्वयक के रूप में कार्य करता है. उसके या उसकी भूमिका काम की डिजाइन करना, विनिर्देशों तैयार करना, निर्माण की ड्राइंग पेश करना, अनुबंध प्रशासन, काम शुरू करना और शुरू से लेकर आखिर तक काम का प्रबंधन करना है. वास्तुकार के ग्राहक और मुख्य ठेकेदार के बीच सीधे संविदात्मक संबंध होते हैं. किसी उपठेकेदार का मुख्य ठेकेदार के साथ एक सीधा संविदात्मक संबंध होता है.

डिजाइन और निर्माण[संपादित करें]

यह दृष्टिकोण हाल के वर्षों में काफी आम हो गया है और इसमें फिक्सचर, फिटिंग और अन्य आवश्यक उपकरणों सहित समूचा पूर्ण पैकेज शामिल होता है, जिससे एक पूरी तरह कार्यात्मक इमारत तैयार होती है. कुछ मामलों में, डिजाइन और निर्माण (डी एंड बी) पैकेज में स्थल की तलाश, वित्त पोषण की व्यवस्था करना और सभी आवश्यक वैधानिक सहमति हासिल करने के लिए आवेदन शामिल होते हैं.

मालिक एक परियोजना की आवश्यकताओं की एक सूची पेश करता है और परियोजना के लक्ष्यों का एक समग्र दृष्टिकोण सामने रखता है. कई डी एंड बी ठेकेदार इन लक्ष्यों को पूरा करने के बारे में विभिन्न तरह के विचार रखते हैं. मालिक अपनी पसंद के सबसे अच्छे विचारों का चयन करता है और उपयुक्त ठेकेदार को काम देता है. अक्सर, सिर्फ एक ठेकेदार नहीं है, बल्कि कई ठेकेदार एक साथ काम करते हैं. एक बार जब एक ठेकेदार (एक समूह/संघ) को एक बार काम पर रखा जाता है, वे परियोजना के पहले चरण का निर्माण शुरू करता है. वे चरण 1 का जब काम कर रहे होते हैं, चरण 2 की डिजाइन करते हैं. यह डिजाइन बिड-बिल्ट अनुबंध के विपरीत है, जहां परियोजना की डिजाइन पूरी तरह से मालिक द्वारा बनायी जाती है और तब बोली लगती है और निर्माण पूरा किया जाता है.

इंजीनियरिंग फॉर द नेशनल एसफाल्ट पेवमेंट एसोसिएशन (NAPA) के निदेशक केंट ीानसेन ने बताया कि सरकार के परिवहन विभाग (डाट) आमतौर पर डिजाइन-बिल्ड ठेकेदारों का उपयोग करते हैं, ताकि सरकारों के पास धन नहीं भी हो तो परियोजनाओं को पूरा किया जा सके. डॉट्स में, डिजाइन-बिल्ड अनुबंध का आमतौर पर बड़ी परियोजनाओं के लिए इस्तेमाल किया जाता है.[2]

प्रबंधन प्रणालियों की खरीद[संपादित करें]

इस व्यवस्था में ग्राहक डिजाइनर वास्तुकार या इंजीनियर निर्माण प्रबंधक, और व्यक्तिगत व्यापार ठेकेदारों के साथ अलग-अलग अनुबंध कर खरीद प्रणाली में एक सक्रिय भूमिका अदा करते है. ग्राहक संविदात्मक भूमिका अपनाता है, जबकि निर्माण या परियोजना प्रबंधक अलग व्यापार अनुबंधों के प्रबंधन के लिए सक्रिय भूमिका अदा करता है और यह सुनिश्चित करता है कि वे सभी सुचारू रूप से और प्रभावी रूप से एक साथ काम करें.

प्रबंधन खरीद प्रणालियों का अक्सर खरीद प्रक्रियाओं में गति देने में उपयोग किया जाता है, जिससे ग्राहक को पूरे अनुबंध के दौरान डिजाइन में बदलाव के लिए अधिक से अधिक लचीलेपन मिलता है, इससे व्यक्तिगत कार्य ठेकेदारों को नियुक्त करने की क्षमता मिलती है, पूरे अनुबंध के दौरान प्रत्येक व्यक्ति पर अलग संविदात्मक दायित्व होता है और इससे ग्राहक को अधिक से अधिक नियंत्रण हासिल होता है.

क्षेत्राधिकार वाले प्राधिकरण[संपादित करें]

साँचा:Globalize/North America निर्माण क्षेत्र में क्षेत्राधिकार वाले प्राधिकरण (AHJ) सरकारी एजेंसी या उप-एजेंसी होती है, जो निर्माण प्रक्रिया को नियंत्रित करती है. ज्यादातर मामलों में नगरपालिका होती है, जिसके क्षेत्र के अधीन भवन स्थित होता है. हालांकि, नगरपालिका अधिकारियों के लिए होने वाले निर्माण पर आमतौर पर सीधे मालिकाना हक वाले प्राधिकार का नियंत्रण होता है, जो एएचजे (AHJ) बन जाता है.

निर्माण की योजना के दौरान, एएचजे के क्षेत्र बांटनेवाले और योजना बोर्ड प्रस्तावित भवन की संपूर्ण स्वीकृति के संबंध में नगरपालिका जनरल की योजना और नियमों के साथ मिलाकर समीक्षा करेगा. एक बार प्रस्तावित निर्माण को मंजूरी दे दी गई, तो विस्तृत सिविल, वास्तुशिल्प और संरचनात्मक योजना अवश्य ही नगर निगम के निर्माण विभाग (और कभी-कभी लोक निर्माण विभाग को) पेश की जानी होती है, जिससे यह निर्धारण हो सके कि वह बिल्डिंग कोड और कभी-कभी यह देखने के लिए कि वर्तमान बुनियादी ढांचे के लिए उपयुक्त है या नहीं. अक्सर, नगरपालिका का अग्निशमन विभाग इस बात की समीक्षा करेगा कि प्लान आग से सुरक्षा के नियमों और विनियमों के अनुपालन के अनुरूप है या नहीं.

चित्र:Liberty Memorial 043.jpg
कैनसस सिटी में एक इमारत का निर्माण

नींव खोदे जाने से पहले, ठेकेदारों को आम तौर पर युटिलीटी कंपनियों को या तो सीधे या कंपनी के माध्यम से सूचित करना आवश्यक है ताकि भूमिगत उपयोगिता लाइनों में चिह्नित किया जा सके और सुरक्षित खुदाई सुनिश्चित की जा सके. इससे मौजूदा बिजली, पानी, मल, फोन और केबल की सुविधाओं के नुकसान की संभावना कम होती है, जो विवाद और संभावित खतरनाक स्थितियां पैदा कर सकती हैं. भवन के निर्माण के दौरान, नगरपालिका का भवन निरीक्षक समय-समय पर भवन का निरीक्षण करता है, ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि निर्माण मंजूर की गई योजना और स्थानीय बिल्डिंग कोड के अनुरूप हो रहा है या नहीं. एक बार जब निर्माण पूरा हो जाता है, एक अंतिम निरीक्षण होता है और एक अधिभोग परमिट जारी किया जा सकता है.

एक ऑपरेटिंग बिल्डिंग आग कोड के अनुपालन के अनुरूप होनी चाहिए. आग कोड स्थानीय अग्निशमन विभाग द्वारा लागू किया जाता है.

भवन में किसी तरह का परिवर्तन, जिससे इसके उपयोग, विस्तार,संरचनात्मक अखंडता और आग की सुरक्षा के आइटम सहित सुरक्षा प्रभावित हो सकती है, को आम तौर पर बिल्डिंग से संबद्ध समीक्षा के लिए एएचजे की स्वीकृति की आवश्यकता के विषय में समीक्षा AHJ के लिए.

ब्रिटेन के नियमों के लिए देखें योजना की अनुमति

निर्माण करियर[संपादित करें]

साँचा:Globalize/UK

एक नई इमारत के आयरनवर्कर्स स्टील फ्रेम बनाते हुए, संयुक्त राज्य अमेरिका में मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल

निर्माण उद्योग में विविध प्रकार के करियर या भविष्य के लिए कई रास्ते हैं, जो अलग-अलग देशों में अलग-अलग हैं. हालांकि, शैक्षिक पृष्ठभूमि पर करियर के तीन मुख्य स्तर आधारित हैं, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आम तौर पर दिख्रते हैं.

  • अकुशल और अर्द्धकुशल - आम तौर पर निर्माण मजदूर, जिनमें निर्माण कार्य की योग्यता मामूली या नहीं होतीं.
  • कुशल - निर्माण स्थल पर रहने वाले प्रबंधक, जो अपने शिल्प या पेशे का व्यापक ज्ञान या अनुभव रखते हैं.
  • तकनीकी और प्रबंधन - उच्च शैक्षिक योग्यता वाले कर्मी, आमतौर पर स्नातक डिग्री, डिजाइन के लिए प्रशिक्षित और जो निर्माण प्रक्रिया का प्रबंधन और निर्देशन कर सकें.

ब्रिटेन में कुशल नौकरियों में और भी ज्यादा शैक्षिक योग्यता की आवश्यकता होती है, अक्सर वोकेशनल क्षेत्रों में है. ये योग्यताएं अनिवार्य शिक्षा के पूरे होने के बाद सीधे या "काम पर रहने के दौरान" प्रशिक्षण से हासिल की जा सकती हैं. ब्रिटेन में, 2007 में 8500 निर्माण संबंधी प्रशिक्षणशालाएं शुरू की गईं थीं.[3]

तकनीकी और विशेष व्यवसायों में और अधिक प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है, क्योंकि वहां और अधिक तकनीकी ज्ञान की जरूरत होती है. इन व्यवसायों भी और अधिक कानूनी जिम्मेदारी होती है. शैक्षिक आवश्यकताओं की एक रूपरेखा के साथ मुख्य करियर की एक छोटी सूची नीचे दी जा रही हैं:[4]

इतिहास[संपादित करें]

पहली इमारतें झोपड़ी और आश्रयों के रूप थीं, जिन्हें हाथों या साधारण उपकरणों से बनाया जाता था. जब शहरों ने कांस्य युग में प्रवेश किया तो ईंट बिछाने और बढ़ई जैसे पेशेवर कारीगरों का एक वर्ग उभरा. कभी-कभी, गुलामों का निर्माण कार्य में उपयोग किया गया. मध्य युग में, ये गिल्ड के रूप में संगठित हो गये. 19 वीं सदी में, भाप संचालित मशीनरी दिखाई दी और बाद में डीजल और बिजली की शक्ति वाले वाहन जैसे क्रेन, खुदाई के यंत्र और बुलडोजर आये.

इन्हें भी देखें: History of architecture

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wikiversity
विकिविश्वविद्यालय में आप निर्माण पर और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है:

साँचा:TBSW