देवनागरी लिप्यन्तरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देवनागरी से रोमन लिपि में लिप्यन्तरण की अनेक विधियाँ हैं। हन्टेरियन लिप्यन्तरण विधि भारत की राष्ट्रीय रोमन लिप्यन्तरण विधि मानी जाती है।

हन्टेरियन विधि[संपादित करें]

हन्टेरियन लिप्यन्तरण विधि का विकास उन्नीसवी शताब्दी में भारत के भूतपूर्व सर्वेयर-जनरल, विलियम विल्सन हंटर, ने किया था। यह विधि भारत की राष्ट्रिय रोमन लिप्यन्तरण विधि मानी जाती है और इसे भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है। भारत के अधिकतर व्यक्तियों, स्थानों, घटनायों, ग्रंथों एवं पुस्तकों के प्रचलित रोमन-लिपि नाम इसी हन्टेरियन विधि पर आधारित हैं।[1][2][3]

देवनागरी लिप्यन्तरण की अतिरिक्त विधियाँ[संपादित करें]

IAST[संपादित करें]

आईएसओ १५९१९ (ISO 15919)[संपादित करें]

ASCII schemes[संपादित करें]

Harvard-Kyoto[संपादित करें]

ITRANS पद्धति[संपादित करें]

लिप्यन्तरण की तुलनात्मक सारणी[संपादित करें]

नीचे देवनागरी लिप्यन्तरण में प्रयुक्त प्रमुख विधियों की तुलनात्मक सारणी दी गयी है।

स्वर[संपादित करें]

देवनागरी IAST हार्वर्ड-क्योटो ITRANS
a a a
ā A A/aa
i i i
ī I I/ii
u u u
ū U U/uu
e e e
ai ai ai
o o o
au au au
R RRi/R^i
RR RRI/R^I
lR LLi/L^i
lRR LLI/L^I
अं M M/.n/.m
अः H H

व्यंजन[संपादित करें]

देवनागरी IAST हार्वर्ड-क्योटो ITRANS
ka ka ka
kha kha kha
ga ga ga
gha gha gha
ṅa Ga ~Na
ca ca cha
cha cha Cha
ja ja ja
jha jha jha
ña Ja ~na
ṭa Ta Ta
ṭha Tha Tha
ḍa Da Da
ḍha Dha Dha
ṇa Na Na
ta ta ta
tha tha tha
da da da
dha dha dha
na na na
pa pa pa
pha pha pha
ba ba ba
bha bha bha
ma ma ma
ya ya ya
ra ra ra
la la la
va va va/wa
śa za sha
ṣa Sa Sha
sa sa sa
ha ha ha

संयुक्ताक्षर[संपादित करें]

देवनागरी IAST हार्वर्ड-क्योटो ITRANS
क्ष kṣa kSa kSa/kSha/xa
त्र tra tra tra
ज्ञ jña jJa GYa/j~na
श्र śra zra shra

अन्य व्यंजन[संपादित करें]

देवनागरी ITRANS
क़ qa
ख़ Kha
ग़ Ga
ज़ za
फ़ fa
ड़ .Da/Ra
ढ़ .Dha/Rha

टिप्प्णी: ड़ और दोनो ही IAST में डायाक्रिटिक (diacritic) "" का प्रयोग करते हैं।

संस्कृत लिप्यन्तरण का इतिहास[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. United Nations Group of Experts on Geographical Names, United Nations Department of Economic and Social Affairs, Technical reference manual for the standardization of geographical names, United Nations Publications, 2007, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789211615005, http://books.google.com/books?id=mh8u32ANQxAC, "... ISO 15919 ... There is no evidence of the use of the system either in India or in international cartographic products ... The Hunterian system is the actually used national system of romanization in India ..." 
  2. United Nations Department of Economic and Social Affairs, United Nations Regional Cartographic Conference for Asia and the Far East, Volume 2, United Nations, 1955, http://books.google.com/books?id=QKsvAAAAYAAJ, "... In India the Hunterian system is used, whereby every sound in the local language is uniformly represented by a certain letter in the Roman alphabet ..." 
  3. National Library (India), Indian scientific & technical publications, exhibition 1960: a bibliography, Council of Scientific & Industrial Research, Government of India, 1960, http://books.google.com/books?id=8VYEAQAAIAAJ, "... The Hunterian system of transliteration, which has international acceptance, has been used ..." 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]