तृतीय विश्व युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक परमाणु प्रलय अक्सर विश्व युद्ध III के साथ जुड़ा होता है.

विश्व युद्ध III या तृतीय विश्व युद्ध, [[द्वितीय विश्व युद्ध|द्वितीय विश्व युद्ध (1939-1945) का काल्पनिक उत्तरवर्ती है, जिसका स्वरुप लगभग परमाणविक एवं विनाशकारी है।

इस युद्ध की पूर्वानुमानित परिकल्पना सैन्य एवं नागरिक अधिकारियों द्वारा की गयी है तथा कई देशों की कल्पित कथाओं में इसकी चर्चा की गयी है। ये अवधारणाएँ विशुद्ध पारंपरिक परिदृश्यों से लेकर परमाणविक शस्त्रों के सीमित उपयोग या सम्पूर्ण ग्रह के विनाश तक विस्तारित हैं।

हथियारों की दौड़ के विकास के साथ, सोवियत संघ के पतन और शीत युद्ध की समाप्ति के साथ, संयुक्त राज्य अमेरिका और सोवियत संघ के बीच एक सर्वनाश से सम्बंधित अंतर्भासी युद्ध ऊपर से देखने में तो विश्वसनीय माना जाता रहा, हालांकि इसकी संभावना नहीं के बराबर थी। जबसे ट्रूमैन का सिद्धांत सन् 1947 में कारगर हो गया, डूम्सडे क्लॉक ऐतिहासिक विश्व युद्ध III की प्रतीक बन गयी।

सबसे बड़ी धमकियां[संपादित करें]

1956 के स्वेज संकट के दौरान, सोवियत प्रधानमंत्री निकोलाई बुल्गानिन ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री एंथोनी ईडन को चेतावनी देते हुए एक सन्देश भेजा कि "अगर यह युद्ध नहीं रोका गया तो यह तीसरे विश्व युद्ध के खतरे की ओर मुड़ जाएगा."[1]

1962 में क्यूबा के मिसाइल संकट को आमतौर पर एक ऐसा ऐतिहासिक बिंदु मना जाता है, जिसपर विश्व युद्ध III का जोखिम सबसे करीब सोचा गया था[कृपया उद्धरण जोड़ें], लेकिन कुछ ऐसी भी अन्य घटनाएं थीं जिन्हें इतिहासकारों ने विश्वयुद्ध III के करीबी संकेत के रूप में सूचीबद्ध किया है।

26 सितम्बर 1983 के दिन कोरियाई एयर लाइन्स की उड़ान 007, के उतार दिए जाने के सिर्फ 25 दिन बाद ही स्तानिस्लाव पेत्रोव के आदेश के अनुसार एक सोवियत प्रारंभिक चेतावनी स्टेशन ने पांच अन्तर्निमित अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का गलत तरीके से पता लगाया। पेत्रोव ने स्थिति की गंभीरता को भांपते हुए झूठी चेतावनी का सही मूल्यांकन किया और इसलिए वरिष्ठ अधिकारियों को अपनी खोज की रिपोर्ट नहीं भेजी। पेत्रोव की इस कार्रवाई ने विश्व युद्ध III की संभावना को लगभग टाल दिया, चूंकि उस वक़्त सोवियत नीति अंतर्निर्मित बैलिस्टिक मिसाइलों का पता लगते ही तत्काल नाभिकीय प्रतिक्रिया थी।[2]

2 नवम्बर 1983 से आरम्भ हुए एक दस दिवसीय नाटो कमान पोस्ट के युद्धाभ्यास एबल आर्चर 83 के दौरान, सोवियत सेना ने अपने परमाणविक बलों को तैयार कर दिया और हवाई इकाइयों को पूर्वी जर्मनी तथा पोलैंड में तैनात कर सतर्क रहने को कहा। कई इतिहासकारों का मानना है कि यह अभ्यास ही विश्वयुद्ध III शुरू होने का एक करीबी आह्वान था।[3]

पर 12 से 26 जून 1999 के मध्य, कोसोवो के प्रिस्टीना हवाई अड्डे पर रूसी और नाटो बलों गतिरोध कायम कर दिया था। प्रतिक्रिया में, नाटो कमांडर वेस्ली क्लार्क ने मांग की कि ब्रिटिश जनरल सर माइक जैक्सन अपने पैराट्रूपर्स के साथ हवाई अड्डे पर तूफानी हमला बोल दें। ऐसी सूचना है कि जैक्सन ने जवाब दिया, "मैं आप के लिए तीसरा विश्व युद्ध शुरू करने नहीं जा रहा हूं"।[4]

CIA के मौलिक कार्यकारी प्रधान, माइल्स कोपलैंड, ने दावा किया है कि भविष्य में, तृतीय विश्व युद्ध तभी शुरू होगा जब "सोवियत रूस संयुक्त राज्य अमेरिका और इजरायल को मुस्लिम/अरब दुनिया के साथ एक आत्म-संहारक युद्ध छेड़ने के लिए बेवकूफ बनाकर धोखा देगा[5].

"विश्व युद्ध" का निर्धारण करने में कठिनाई[संपादित करें]

केवल एक ही सघर्ष - द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अंग्रेजी शब्दावली "विश्व युद्ध" का व्यापक प्रयोग देखने में आया. जर्मन जीवविज्ञानी तथा दार्शनिक अर्नस्ट हेक्केल ने प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत के तुरंत बाद यह लिखा:

There is no doubt that the course and character of the feared "European War"...will become the first world war in the full sense of the word.

Indianapolis Star September 20, 1914[6]


प्रथम विश्व युद्ध (फर्स्ट वर्ल्ड वार) शब्द का यह पहला ज्ञात उदाहरण है जिसका प्रयोग पहले 1913 में दिनांकित किया गया था. युद्ध के अंत के आस-पास इस शब्द का फिर से प्रयोग होने लगा. अंग्रेजी पत्रकार चार्ल्स ए रेपिंगटन (1858-1925) ने लिखा है

[Diary entry, September 10, 1918]: We discussed the right name of the war. I said the we called it now The War, but that this could not last. The Napoleonic War was The Great War. To call it The German War was too much flattery for the Boche. I suggested The World War as a shade better title, and finally we mutually agreed to call it The First World War in order to prevent the millennium folk from forgetting that the history of the world was the history of war.

The First World War, 1914–1918 (1920)[6]


1920 के दशक का महान युद्ध (द ग्रेट वार) के रूप में ज्ञात, इसके "महान युद्ध" के संदिग्ध सम्मान के लिए नेपोलियन के युद्धों की उपेक्षा की गयी, हालांकि शीत युद्ध की ही तरह यह गठबंधन के संग्रह का संघर्ष था, न कि केवल एकल सतत संघर्ष जैसा कि द्वितीय विश्व युद्ध के रूप में था.

एक बड़े संघर्ष को विवादास्पद रूप से विश्व युद्ध III के रूप में मान्यता प्राप्त करने से पहले वर्षों लग जाएंगे. पहले दो विश्व युद्धों से पहले और बाद में गंभीर युद्धों, यहां तक कि वे भी जो उनसे काफी निकटता से जुड़े थे, उन्हें भी अब बड़े संघर्ष के रूप में नहीं आंका जाता है. इनमे सन् 1912-1913 के बीच हुए [[बाल्कन युद्ध और 1919 से 1921 के मध्य पोलिश सोवियत युद्ध, मंचूरिया और बाद में चीन पर जापानी आक्रमण, स्पेन का गृह युद्ध, इथोपिया अल्बानिया पर इतालवी हमले और 1938 में ऑस्ट्रिया (अन्स्च्लस) के जर्मन कब्जे के बाद चेकोस्लोवाकिया|बाल्कन युद्ध[[और 1919 से 1921 के मध्य पोलिश सोवियत युद्ध, मंचूरिया और बाद में चीन पर जापानी आक्रमण, स्पेन का गृह युद्ध, इथोपिया अल्बानिया पर इतालवी हमले और 1938 में ऑस्ट्रिया (अन्स्च्लस) के जर्मन कब्जे के बाद चेकोस्लोवाकिया]]]]पर कब्ज़ा शामिल हैं. इसलिए जहां एक विशेष घटना भविष्य में विश्व युद्ध III की शुरूआत के लिए, केवल एक विशेष घटना की पूर्व प्रतिक्रिया के अनुसार ही निर्धारित की जा सकती है.

कुछ विश्लेषकों[7] और इतिहासकारों ने[8] सुझाव दिया है कि शीत युद्ध (कोल्ड वार) को विश्व युद्ध III के रूप में पहचाना जा सकता है क्योंकि यह संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रतिनिधि लड़ाकों की, बाद में नाटो और सोवियत संघ एवं वारसा संधि के देशों के द्वारा विश्व स्तर पर लड़ा गया था.[9] सन् 2006 के एक साक्षात्कार में अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू. बुश ने आतंकवाद पर चल रहे युद्ध को "विश्व युद्ध III" के रूप में साम्य दिखाना चाहा है.[10]

लोकप्रिय संस्कृति[संपादित करें]

For more details on this topic, see World War III (science fiction).

लोकप्रिय संस्कृति में भी विश्व युद्ध III एक आम विषय-वस्तु है. एक विशाल सर्वनाश से सम्बंधित अंतर्भासी और बाद में उत्तर-अंतर्भासी विज्ञान कल्पित कथा साहित्य मौजूद हैं. विश्व युद्ध III के निर्विवाद तत्वों के निष्पादन तथा युद्ध के बाद के परिणाम का विस्तृत वर्णन करते हुए विश्व युद्ध III पर आधारित कई उल्लेखनीय फिल्में बनी हैं और यह विभिन्न कॉमिक्स, वीडियो गेम, गाने, रेडियो- कार्यक्रम, अखबारों, वेबसाइटों और बिलबोर्ड्स के विषय बन गए हैं.

उद्धरण[संपादित करें]

If the Third World War is fought with nuclear weapons, the fourth will be fought with bows and arrows.

Lord Louis Mountbatten [11][12]


I do not know how the Third World War will be fought, but I can tell you what they will use in the Fourth - rocks!

Albert Einstein [13][14][15][16]


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

शीत युद्ध

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "The Nuclear Seduction". escholarship. http://www.escholarship.org/editions/view?docId=ft1n39n7wg&chunk.id=d0e1874&toc.depth=1&toc.id=d0e1874&brand=ucpress. अभिगमन तिथि: 2010-01-`6. 
  2. "The Man Who Saved the World Finally Recognized". Association of World Citizens. http://www.worldcitizens.org/petrov2.html. अभिगमन तिथि: 2007-06-07. 
  3. John Lewis Gaddis and John Hashimoto. "COLD WAR Chat: Professor John Lewis Gaddis, Historian". http://www.cnn.com/SPECIALS/cold.war/guides/debate/chats/gaddis. अभिगमन तिथि: 2005-12-29. 
  4. BBC समाचार
  5. माइल्स कोपलैंड : "लेकिन इज़राइलियों की मदद के साथ भी, खास तौर पर इज़राइलियों की मदद के साथ!, हमलोग ईरानियों, 'अरबों", इस्लामी जगत या सम्पूर्ण तृतीय विश्व को हरा नहीं सकते यदि यह हमारे खिलाफ हुआ. हमलोगों [[[CIA]]] के पास इस बात पर पर विश्वास करने का कारण है कि सोवियत रणनीतिकार इसे भली-भांति समझते है, और यह भी कि उनकी कल्पना वाला तृतीय विश्व युद्ध तीसरी दुनिया के निराकार बल के खिलाफ हमलोगों से ही कोई एक होगा और साथ में सोवियत रूस जाहिरा तौर पर इससे अलग हो जाएगा...अमेरिकी सरकार वास्तव में एक ऐसी दुविधा में डूबी हुई थी कि जो मास्को के लेनिनवादियों के प्रयोजनों से अच्छी तरह मेल खाता था क्योंकि उन्होंने गोर्बाचेव के तहत फलना-फूलना शुरू कर दिया है. गुप्तचर व्यवस्था के सहयोग के बिना अमेरिकी सरकार के लिए आसानी से उपलब्ध होने वाली सामग्रियों में उन्होंने इसे काफी स्पष्ट कर दिया था कि तृतीय विश्व युद्ध के बारे में उनकी दृष्टि में संयुक्त राज्य अमेरिका विभिन्न प्रकार की परिस्थितियों में प्रवेश होने के लिए मजबूर किया जाएगा जिसमें यह एक शक्तिशाली राष्ट्र की भूमिका निभाने के लिए अपने आप को मजबूर महसूस करेगा लेकिन, इसे टेलीविज़न सेट पर देखने वाली पूरी दुनिया के लिए यह वास्तव में शक्तिहीन होगा." द गेम प्लेयर: कंफेशंस ऑफ़ द CIA's ऑरिजिनल पॉलिटिकल ऑपरेटिव , लन्दन: ऑरूम प्रेस, 1989
  6. The Yale Book of Quotations (2006) Yale University Press, edited by Fred R. Shapiro
  7. उसकी वर्ल्ड वॉर IV: द लॉंग स्ट्रगल अगेंस्ट इस्लामोफासिज़्म में राष्ट्र
  8. फ़ॉक्स न्यूज़ की द बिग स्टोरी के जुलाई 10 संस्करण में मेजबान जॉन गिब्सन ने अमेरिकन एंटरप्राइज़ इंस्टिट्यूट (AEI) के निवासी विद्वान, माइकल लेडीन का साक्षात्कार लिया और कहा: "कुछ लोग वैश्विक युद्ध का खतरा मंडराने जैसी कुछ बातें कर रहे हैं, जो शायद बहुत कुछ विश्व युद्ध III की तरह ही है." लेकिन लेडीन ने जवाब दिया: "यह ज्यादातर चतुर्थ विश्व युद्ध की तरह है क्योंकि जो शीत युद्ध हुआ था, वह निश्चित रूप से एक विश्व युद्ध ही था...इसका [चतुर्थ विश्व युद्ध] आरम्भ शायद 1979 का ईरानी क्रांति था." इसी तरह, CNBC के कुडलोव एण्ड कंपनी के 24 मई के संस्करण में मेजबान लॉरेंस कुडलोव ने पूर्व डेपुटी अंडर-सेक्रेटरी ऑफ़ डिफेन्स जेड बैबिन की एक पुस्तक पर चर्चा करते हुए कहा: "चतुर्थ विश्व युद्ध आतंक युद्ध है, और चीन के साथ होने वाला युद्ध पंचम विश्व युद्ध होगा.", Mediamatters.org
  9. 11 सितम्बर के हमलों के एक महीने से बस कुछ ही दिन बाद जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी में अडवांस्ड इंटरनैशनल स्टडीज़ के पॉल एच. नित्ज़ में सामरिक अध्ययन के निदेशक, एलियट कोहेन ने वॉल स्ट्रीट जर्नल में घोषणा की कि आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष एक क़ानून-प्रवर्तन संचालन से बढ़कर था, और इसके लिए अफगानिस्तान के हमले से परे सैन्य संघर्ष की आवश्यकता होगी. मारेंचेस की तरह कोहेन ने भी विश्व युद्ध III को इतिहास माना. "एक कम रूचिकर लेकिन अधिक सटीक नाम चतुर्थ विश्व युद्ध है," उन्होंने लिखा. "शीत युद्ध विश्व युद्ध III था, जो हमें याद दिलाता है कि सभी वैश्विक संघर्ष लाखों-करोड़ों लोगों की सेनाओं के आन्दोलन, या एक मानचित्र के पारंपरिक अगली पंक्तियों को आवश्यक नहीं बनाता है. Macleans.ca
  10. बुश 'आतंक आधारित युद्ध" की उपमा WWIII से देते हैं. 06/05/2006. ABC न्यूज ऑनलाइन
  11. Knowles, Elizabeth, सं. (1997), The Oxford Dictionary of Phrase, Saying, and Quotation, Oxford University Press, ISBN 0-19-866229-7 
  12. Andrews, Robert; Biggs, Mary; Seidel, Michael, सं (1996). The Columbia World of Quotations.. Columbia University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-231-10518-5. 
  13. Calaprice, Alice (2005). The new quotable Einstein. Princeton University Press. प॰ 173. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-691-12075-7. 
  14. Calaprice, Alice; Lipscombe, Trevor (2005). Albert Einstein: a biography. Greenwood Publishing Group. प॰ 124. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ ISBN 0-313-33080-8. 
  15. Shapiro, Fred; Epstein, Joseph (2006), The Yale book of quotations, Yale University Press, प॰ 229, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-300-10798-6, http://books.google.com/books?id=w5-GR-qtgXsC&pg=PA229&lpg=PA229&dq=I+do+not+know+how+the+third+World+War+will+be+fought,+but+I+can+tell+you+what+they+will+use+in+the+Fourth+-+rocks&source=bl&ots=1XPP9Swi3P&sig=QEmYQyBX_1Y-t1UTs2rH6W2zKA0&hl=en&ei=jePvSq2iOojk6gPFsdDIBg&sa=X&oi=book_result&ct=result&resnum=8&ved=0CB8Q6AEwBw#v=onepage&q=I%20do%20not%20know%20how%20the%20third%20World%20War%20will%20be%20fought%2C%20but%20I%20can%20tell%20you%20what%20they%20will%20use%20in%20the%20Fourth%20-%20rocks&f=false 
  16. A variation of the quote, appearing in sources such as the video game Call of Duty 4: Modern Warfare, runs: I know not with what weapons World War III will be fought, but World War IV will be fought with sticks and stones...

बाहरी लिंक[संपादित करें]

साँचा:Doomsday