डेलेरियम त्रेमेंस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Delirium tremens
वर्गीकरण व बाहरी संसाधन
आईसीडी-१० F10.4
आईसीडी- 291.0
रोग डाटाबेस 3543
ई-मेडिसिन med/524 
एमईएसएच D000430

डेलेरियम त्रेमेंस - मद्य-व्यसन से निवर्तन का प्रलाप- यह शराब से निवर्तन के वक़्त होता है. यह एक उग्र स्थिति है, जिस में रोगी को प्रलाप होता है. यह पहली बार १८१३ में वर्णित किया गया था.[1][2] बेंजोडाइजेपाइन डेलेरियम त्रेमेंस के प्रलाप के लिए खास उपचार है.[3]. डेलेरियम त्रेमेंस को "डी.टी." नाम से भी पचाना जाता है.शराब के आलावा, अन्य निद्राकारी शामक (ह्य्प्नोतिच्स) - जैसे बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस या बर्बितुरातेस - से निवर्तन करते वक़्त भी दौरे, डी.टी. और मृत्यु हो सकते हैं, अगर ठीक से चिकितसा प्रबंधित नहीं किया जाता है. ओपिओइद , कोकीन और मारिजुआना, जैसे अन्य दवाओं - जो निद्राकारी शामक नहीं है - के निवर्तन में, प्रमुख चिकित्सा जटिलताओं नहीं रहता है. इस लिए, इन से निवर्तन करते वक़्त, रोगी की जान को धमकी नहीं राहता है[4] शराब के कारण डी. टी., शराब के इतिहास वाले व्यक्तियों मैं ही होता है. बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस के साथ समान सिंड्रोम की घटना के लिए, इतना लगातार और लंबी अन्तर्ग्रहण अवधि की आवश्यकता नहीं होती है.शराब और बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस, का पूर्व उपयोग और दोनों के एक साथ उपयोग करने से, लक्षण और भी मिश्रित और खतरनाक हो सकते हैं, खास कर अगर उपचार नहीं किया जाता है.[तथ्य वांछित]

अमेरिका में, ५०% से कम शराबियों, शराब से छुटकारी पाते वक़्त, निवर्तन लक्षण से पीड़ित होते हैं. इन में से सिर्फ ५% इथेनॉल से निवर्तन करते वक़्त डी.टी. तक पहुँचते है.[1] अफ़ीम के नशे के निर्भरता से निवर्तन सिंड्रोम से विपरीत, डी. टी.(और शराब से निवर्तन) घातक हो सकता है. फर्मको-थेरपी की उन्नत और गहन देखभाल के आगमन से पहले, मृत्यु ३५% से ज्यादा रहती थी. आधुनिक चिकित्सा के युग में, मृत्यु 5-15% के श्रेणी में रहती है.[1]

लक्षण[संपादित करें]

डी.टी के मुख्य लक्षण भ्रम, दस्त, भटकाव और उत्तेजना हैं. और गंभीर औतोनोमिक अस्थिरताअन्य के लक्षण भी हो सकते हैं (जैसे, बुखार, हृदक्षिपता और उच्च रक्तचाप) [5] अन्य आम लक्षण, तीव्र अवधारणात्मक अशांति भी हो सकता हैं - जैसे, कीड़ों, सांप या चूहों के रूप में (या फिर, गुलाबी हाथी या छोटे आंकड़े के रूप में). ये दु: स्वप्न या पर्यावरण से संबंधित भ्रम हो सकते अहिं. (जैसे, मरीज यह समझता है कि वॉल-पेपर में से विशाल मकड़ियाँ बहार निकल कर, उस पर हमला कर रहा है). स्चिज़ोफ्रेनिया प्रकार का पागलपन के साथ जुड़े मतिभ्रम के विपरीत, देलेरियम त्रेमेंस के मतिभ्रम खास दृश्य-रूप में होते हैं. लेकिन यह मतिभ्रम कुछ रेंगने का स्पर्श के साथ जुड़े सनसनी रूप मेंभी हो सकते हैं. जैसे, जिस्म में सनसनी घटना के रूप में. इस को "फ़ोर्मिकेसुन" कहते हैं.

कभी कभी, डी.टी. हाथ-पैर के बेकाबू, गंभीर कंपन के संघ आ सकता है. और कभी, अन्य लक्षण के साथ - जैसे, चिंता, आतंक का दौरा और मानसिक उन्माद. रोगी का भ्रम, अक्सर दर्शकों को ध्यान मैं आता है, क्यों कि रोगी को सरल वाक्यों का निर्माण करने या बुनियादी तार्किक गणना करने में परेशानी हो जाता है. कई मामलों में, वे लोग जो हमेशा शान्ति से बात करते थे, अब बारी से बाहर बात करने लगते हैं, भले वे मन से सचेत हो.

डी.टी. और शराबी विभ्रमता के बीच प्रतिष्ठित किया जाना चाहिए. शराबी विभ्रमता २०% शराबियों में, अस्पताल में भर्ती करने के बाद, होता है और घातक नहीं होता है. इसके विपरीत, डी.टी., ५-१०% शराबियों और 5% घातक हो सकता है अगर उपचार किया जाता है और 35% घातक हो सकता है अगर इलाज नहीं किया जाता है.[2] डी.टी. का विशेषता यह है - परिवर्तित सेंसोरियम(मस्तिष्क).व्यक्ति पूरा माया में रहता है, असली दुनिया के किसी भी मान्यता के बिना. डी.टी. में चरम औतोनोमिक अधिक सक्रियता दीखाई देती है - (जैसे, उच्च नाड़ी, उच्च रक्तचाप और साँस लेने की दर), और ३५-६०% रोगियों में बुखार होता है . कुछ व्यक्तियों दौरा अनुभव करते हैं.

कारण[संपादित करें]

देलेरियम त्रेमेंस मुख्य रूप से, शराब पीने की एक लंबी अवधि के बाद होता है, जब अचानक शराब बंद किया जाता है और निवर्तन का अनुभव होता है. कई लोगों में - जिन में शराब की भारी इस्तेमाल के एक इतिहास हैं - सिर पर चोट, संक्रमण, या बीमारी से भी डी.टी. हो सकता है. डी.टी. का एक और अन्य कारण उन व्यक्ति में पाया जाता है, जो अचानक बार्बिटुरेट या बेन्ज़ोदिअज़ेपिने वर्गों के ट्रैंक्विलाइज़र दवाओं को रोक लेते हैं; खास करके उन लोगों में, जिन को इन के साथ (अपेक्षाकृत बोल)'भारी' लत हैं.

क्योंकि, इन त्रन्क़ुइलिज़ेर्स के प्राथमिक औषधीय और शारीरिक प्रभाव, रासायन GABA और शारीरिक प्रणाली ट्रांसमीटर के हेरफेर से होते है; इसी लिए, शराब से भारी निर्भर व्यक्तियों में, अंतर्जात प्रणाली नयूरोत्रन्स्मित्टर प्रभावित हो सकते हैं और यह डी.टी.के रूप में उभर आ सकता है. इन डी.टी.और शराब - दोनों - के रूप एक जैसा है. यह प्राथमिक कारण है, कि बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस डी.टी. के लिए एक प्रभावी उपचार है. हालांकि, विडंबना यह है कि, वे ज्यादातर मामलों में, उनमें के कारण हैं. क्योंकि, इथेनॉल और ट्रैंक्विलाइज़र (जैसे, बर्बितुरेट और बेन्ज़ोदिअज़ेपिने वर्ग के), दोनों के पथमिक प्स्य्चो-अक्तिवे रासायनिक घटक GABA का नकल है. इसी लिए, मस्तिष्कक उन्हें GABA समझ लेता है. मस्तिष्क, धोखा खा कर, इस को एक असंतुलित रसायन प्रणाली समझता है. और GABA के उत्पादन को बंद कर देता है. GABA अपनी शामक प्रभाव के अलावा, एक बेहद महत्वपूर्ण नियामक नयूरोत्रन्स्मित्टर है; जो हृदय की दर को नियंत्रण, रक्तचाप और असंख्य अन्य महत्वपूर्ण औतोनोमिक तंत्रिका सुब्स्यस्तेम्स नियंत्रण में रखता है.

देलेरियम त्रेमेंस, उन व्यत्कियों में सब से ज्यादा पाया जाता है, जिन में शराब की निवर्तन का इतिहास है. खास करके वो लोग जो ७ से ८ अमेरिकन पिन्त्ज़ (३३१०-३७९० मिलीलीटर या ५.८३ - ६.६६ इम्प पिन्त्ज़)बियर या १ अमेरिकन पिन्त्ज़ (४७३ मिलीलिटर या १६ .६५ इम्प फ्लू ओ) दैनिक पीते हैं. देलेरियम त्रेमेंस, सामान्यतः 10 वर्ष से शराब का इतिहास या शराब की आदत से प्रभावित करता है.[6]

इथेनॉल का औषध विज्ञान अभी तक पूरी तरह से समझा नहीं गया है. तथापि, यह सोचा जाता है कि देलेरियम त्रेमेंस तब होता है, जब शराब बेंजोडाइजेपाइन -GABA A क्लोराइड रिसेप्टर (जो निरोधात्मक नयूरोत्रन्स्मित्टर गाबा के लिए है) पर प्रभाव करता है. लगातार शराबी पेय मस्तिष्क में प्रतिक्रिया का कारण बनता, जब होमेओस्तासिस हासिल करने की कोशिश किया जाता है.

ऐसे करने से, इन रिसेप्टरों में 'डाउन रेगुलेशुन' (कम विनियमन) होता है. और, साथ ही साथ, उत्तेजक न्यूरोट्रांसमीटर - जैसे: नोरेपिनेफ्रिने , दोपमिने , एपिनेफ्रीन, और सेरोटोनिन - में एक 'अप रेगुलेशुन' (उत्तेजक विनियम) होता है - और इस से, पीने वालों को शराब के सहिष्णुता बढ़ाते है. जब शराब की खपत बांध होता है, ये नीचे-विनियमित GABA रिसेप्टर परिसरों उत्पादित कर रहे हैं करने के लिए असंवेदनशील तो GABA ठेठ राशि का प्रभाव पड़ता है कि GABA छोटे; गठन के साथ संभावित जटिल तथ्य यह है कि कार्रवाई रोकता GABA सामान्य रूप से वहाँ नहीं कर रहे हैं के लिए कई रिसेप्टर्स के रूप में बाँध के लिए निर्विरोध GABA अर्थ यह है कि सहानुभूति सक्रियण - करने के लिए. इसे अद्रेनेर्गिक "तूफान नाम से भी जाना जाता है. इस का नतीजा है - (लेकिन सीमित नहीं हैं) तीव्र हृदय स्‍पंदन दर , उच्च रक्तचाप, अतिताप , अतिप्रतिवर्तता , स्वेदन; , दिल का दौरा, हृदय अतालता, स्ट्रोक, चिंता, आतंक का दौरा , व्यामोह, और आंदोलन."

इस से भी बदतर यह बात है कि विनियमन उत्तेजक नयूरोत्रन्स्मित्टर ऊपर है. तो सहानुभूति तंत्रिका गतिविधि है, जिस को GABA र्विरोध नहीं कर सकता है. साथ में सेरोटोनिन , नोरेपिनेफ्रिने , दोपमिने, एपिनेफ्रीन और विशेष रूप से ग्लुतामाते भी अधिक हैं. उत्तेजक न.म.डी.अ. रिसेप्टर में भी उत्तेजक विनियमित दिया जाता है; जिस से प्रलाप और निवर्तन का न्यूरो-तोक्सिसिटी बढता है ( एक्स्सितो-तोक्सिसिटी के कारन). सेंट्रल नोरेपिनेफ्रिने और इसके चयापचयों के प्रत्यक्ष मापन, शराब के निवर्तन सिंड्रोम के गंभीरता के और प्रत्यक्ष के संबंधित में रहते हैं.[7] यह संभावित है कि,मनोवैज्ञानिक (यानि कि, अभौतिक) कारण भी भूमिका निभाते हैं; विशेष रूप से, संक्रमण, कुपोषण, या अन्य अंतर्निहित चिकितसिक रोग, जो शराब से संबंधित होते है.

उपचार[संपादित करें]

शराब से निवर्तन के प्रलाप, बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस के साथ इलाज किया जा सकता है. मृत्यु दर को रोकने के लिए, उच्च खुराक आवश्यक हो सकता है.[8] फार्माको-थेरपी रोगसूचक और सहायक है. आम तौर पर, रोगी को बेंजोडाइजेपाइन के साथ बेहोश रखा जाता है; जैसे: दिअज़ेपम (वलियम), लोराज़ेपम (अतिवन ), च्लोर्दिअज़ेपोक्षिदे (लिब्रियम ) या ओक्साज़ेपम (सेरक्स). और घम्बिर स्तितियों में, कम से कम स्तर में अन्ति-स्य्चोतिच्स (जैसे: हलोपेरिदोल या और शक्तिशाली बेंजोडाइजेपाइन (जैसे : तेमाज़ेपम (रेस्तोरिल) या मिदाज़ोलम (वेर्सेद), जब तक लक्षण मिट न जाये. पुराने दवाओं, जैसे परल्देह्यदे और क्लोमेथिअजोले , से उपचार किया जाता था; लेकिन अब, बड़े पैमाने पर, इन को बेन्ज़ोदिअज़ेपिनेस अधिक्रमण कर दिया है. हालांकि, वे, अभी भी, कुछ परिस्थितियों में, एक विकल्प के रूप में प्रयोग किया जाता हैं. अकाम्प्रोसते उपचार बढ़ाने के लिए अक्सर इस्तेमाल किया जाता है.और फिर, लंबी अवधि तक पतन के जोखिम कम करने के लिए उपयोग किया जाता है. अगर स्थिति एपिलेप्तिचुस मौजूद है, आक्षेप के इलाज अनुसार-युक्त किये जाते है. पर्यावरण उत्‍तेजक का नियंत्रण करना भी सहायक है.(जैसे: एक उज्ज्वल और आराम-दायक वातावरण; मतिभ्रम जैसे गलत दृश्य को कम करने के रूप में किया जा सकता है.) गंभीर रोगियों के लिए, एक शराब का ड्रिप निर्धारित किया जा सकता है, जिन से उन्हें धीरे-धीरे शराब से दूर लिया जा सकते हैं.हालांकि, यह शायद बहुत ही कम इस्तेमाल किया जाता है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • शराब निर्विषीकरण
  • शराब निवर्तन सिंड्रोम
  • बेंजोडाइजेपाइन निवर्तन सिंड्रोम
  • भ्रान्तिमूलक परजीवीरुग्णता
  • उत्साहित प्रलाप
  • शराब मनोभ्रंश

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Michael Burns; James Price & Michael E Lekawa (2008). "Delirium Tremens: eMedicine Critical Care". emedicine.medscape.com. http://emedicine.medscape.com/article/166032-overview. अभिगमन तिथि: 2009-06-23. 
  2. Gossman, William (2007). "Delirium Tremens: eMedicine Emergency Medicine". emedicine.medscape.com. http://emedicine.medscape.com/article/791802-overview. अभिगमन तिथि: 2009-06-23. 
  3. Gossman, William (2007). "Delirium Tremens: Treatment & Medication". emedicine.medscape.com. http://emedicine.medscape.com/article/791802-treatment. अभिगमन तिथि: 2009-06-23. 
  4. Galanter, Marc; Kleber, Herbert D (1 July 2008). The American Psychiatric Publishing Textbook of Substance Abuse Treatment (4th ed.). United States of America: American Psychiatric Publishing Inc. प॰ 58. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1585622764. http://books.google.com/?id=6wdJgejlQzYC. 
  5. [15] ^ {1 } एक ब्रिटिश मेडिकल छात्र का ब्लॉग , २००९ , सूचना पर डी.टी. और शराब पर पुनः प्राप्त, निवर्तन २५ जनवरी.
  6. "MedlinePlus Medical Encyclopedia: Delirium tremens". www.nlm.nih.gov. http://www.nlm.nih.gov/medlineplus/ency/article/000766.htm#Causes,%20incidence,%20and%20risk%20factors. अभिगमन तिथि: 2009-06-23. 
  7. Linnoila, Markku (1989). "Alcohol withdrawal syndrome and sympathetic nervous system function - Biological Research at National Institute of Alcohol Abuse and Alcoholism". findarticles.com. http://findarticles.com/p/articles/mi_m0847/is_n4_v13/ai_8276920/. अभिगमन तिथि: 2009-06-23. 
  8. Wolf KM, Shaughnessy AF, Middleton DB (1993). "Prolonged delirium tremens requiring massive doses of medication". J Am Board Fam Pract 6 (5): 502–4. PMID 8213241. 

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]