चिहुआहुआ (कुत्ता)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Chihuahua
Degaen.jpg
अन्य नाम Chihuahueño
उपनाम "New Yorker" (Mexico only)
मूल देश Mexico
विशेषता
वज़न नर Under 6 pounds (Under 3 kilograms)
मादा Under 6 pounds (Under 3 kilograms)
ऊंचाई नर 6-10 inches (15-23 centimeters)
मादा 6-10 inches (15-23 centimeters)
जीवन काल 14-18 years
कुत्ता (Canis lupus familiaris)

[2] (स्पेनी: Chihuahueño) कुत्ते की सबसे छोटी नस्ल है और इसका नाम मेक्सिको के चिहुआहुआ राज्य के नाम पर रखा गया है.

इतिहास[संपादित करें]

चिहुआहुआ का इतिहास संदिग्ध है और इस नस्ल की उत्पत्ति को लेकर कई सिद्धांत व्याप्त हैं. चिहुआहुआ का उपयोग पवित्र अनुष्ठान में किया जाता था क्योंकि पूर्व-कोलमबियाई इंडियन देशों में इन्हें पवित्र माना जाता था. वे उच्च वर्ग के बीच भी लोकप्रिय पालतू पशु थे. इस नस्ल का नाम मैक्सिकी राज्य चिहुआहुआ के आधार पर पड़ा, जहां इस नस्ल के पहले नमूनों की खोज की गई थी.

कुछ इतिहासकारों का मानना है कि चिहुआहुआ, भूमध्य के माल्टा द्वीप से आया है.[1] इस सिद्धांत के और अधिक सबूत छोटे कुत्ते के यूरोपीय चित्रों में निहित हैं जो चिहुआहुआ के सदृश दिखते हैं. एक सबसे प्रसिद्ध चित्र सिस्टिन चैपल में सांड्रो बोटीसेली द्वारा 1482 में बनाया फ्रेस्को है. सीन्स फ्रॉम द लाइफ ऑफ़ मोज़ेस नाम की इस पेंटिंग में, एक महिला को दो छोटे कुत्ते लिए हुए दर्शाया गया है, जिनके सर गोल, आंखें बड़ी-बड़ी, बड़े कान और अन्य विशेषताएं हैं जो चिहुआहुआ के समान है. यह पेंटिंग कोलंबस के नई दुनिया से लौटेने के दस वर्ष पहले समाप्त हो चुकी थी. बोटिसेली के लिए एक मैक्सिकन कुत्ता देखना असंभव था, फिर भी उसने एक ऐसा जानवर बनाया जो आश्चर्यजनक रूप से चिहुआहुआ के समान था.

एक अन्य सिद्धांत के अनुसार चिहुआहुआ को 200 साल पहले चीन से मेक्सिको लाया गया था. इस सिद्धांत के समर्थकों का मानना है कि चीनियों को बौने पौधों और जानवरों के लिए जाना जाता था, और जब अमीर चीनी व्यापारी मैक्सिको गए, तो वे अपने साथ चिहुआहुआ ले आए. एजटेक के पास टेचीची नाम का एक छोटा कुत्ता था; लेकिन चिहुआहुआ का माइटोकोल्ड्रियल डीएनए विश्लेषण यह बताता है कि इसकी उत्पत्ति प्राचीन दुनिया[कृपया उद्धरण जोड़ें] की है, जैसे कि एक यूरोपीय टॉय डॉग से. माइटोकोल्ड्रियल डीएनए विश्लेषण केवल यह देखता है कि माता से विरासत में क्या मिला है; इसलिए टेचीची , चिहुआहुआ के जनक हो सकते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

लोककथाओं और पुरातात्विक साक्ष्यों, दोनों से यह प्रदर्शित होता है कि यह नस्ल मेक्सिको में उत्पन्न हुई. सबसे सामान्य सिद्धांत और सबसे अधिक संभावना यह है कि चिहुआहुआ, टेचीची , मेक्सिको में टोल्टेक सभ्यता द्वारा पसंद किया जाने वाला एक साथी कुत्ता, के वंशज हैं.

एक लंबे बालों वाला टैन चिहुआहुआ

ऐतिहासिक रिकॉर्ड से संकेत मिलता है कि टेचीची झुण्ड में शिकार करते थे. उनके इतिहास का पता सिर्फ नौवीं सताब्दी से लगता है लेकिन इस बात की काफी संभावना है कि ये चिहुआहुआ के देशी मैक्सिकन पूर्वज हैं[कृपया उद्धरण जोड़ें]. इस बात का सबूत यह है कि इनसे काफी समानता रखने वाले कुत्ते लेकिन जो औसत चिहुआहुआ से थोड़े बड़े हैं उनके अवशेष को चोलुला के महान पिरामिड जैसे स्थानों में पाया गया है, जिनका समयकाल दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व है और 16वीं शताब्दी से काफी पहले है. ऐसे भी सबूत हैं जिनसे पता चलता है कि टेचीची , माया से पहले के हो सकते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

टोल्टेक पर एज़्टेक द्वारा विजय प्राप्त कर ली गई, जिनका मानना था कि टेचीची में रहस्यमय शक्तियां होती हैं.[2] आकार के संदर्भ में, मौजूदा चिहुआहुआ, अपने पूर्वजों की तुलना में काफी छोटा है, एक बदलाव जिसे छोटे चीनी कुत्तों, जैसे कलगी वाला चीनी कुत्ता, के स्पेनिश द्वारा दक्षिण अमेरिका में परिचय के कारण हुआ बदलाव माना जाता है.

इस नस्ल के एक जनक को 1850 में चिहुआहुआ के मैक्सिकन राज्य में, जिसके आधार पर इसका नाम पड़ा, कासस ग्रांडेस के निकट एक प्राचीन खंडहर में पाया गया था.[3] इस राज्य की सीमाएं संयुक्त राज्य अमेरिका, में टेक्सास, एरिजोना और न्यू मैक्सिको से मिलती हैं जहां चिहुआहुआ पहली बार प्रसिद्ध हुआ और आगे और विकसित हुआ. उस समय के बाद से, चिहुआहुआ लगातार एक लोकप्रिय नस्ल के रूप में बना हुआ है, विशेष रूप से अमेरिका में जबसे इसे अमेरिकी केनेल क्लब द्वारा 1904 में पहचाना गया. आनुवंशिक परीक्षणों के आधार पर चिहुआहुआ को अन्य आधुनिक नस्लों के साथ 1800 की सदी में रखा जाता है.[4]

विवरण और मानक[संपादित करें]

एक चिहुआहुआ पिल्ला

इस कुत्ते के लिए नस्ल के मानक में, आम तौर पर कोई उंचाई निर्दिष्ट नहीं होती, केवल वजन और समग्र अनुपात का विवरण शामिल होता है. परिणामस्वरूप, कई अन्य नस्लों की तुलना में इनमें ऊंचाई की भिन्नता अधिक पाई जाती है. सामान्यतया, इनकी ऊंचाई छह और दस इंच के बीच होती है. हालांकि, कुछ कुत्तों की लम्बाई 12 से 15 इंच (30-38 सेमी) तक बढ़ती है. ब्रिटिश और अमेरिकी नस्ल मानक, दोनों का कहना है कि चिहुआहुआ को अनुकूलता के लिए छह पाउंड से अधिक नहीं होना चाहिए. हालांकि, ब्रिटिश मानक का यह भी कहना है कि 2 से 4 पाउंड के भार को प्राथमिकता दी जाती है और कहा कि यदि दो कुत्ते समान रूप से अच्छे प्रकार में हैं, तो जो अधिक लघु या छोटा होता है उसे पसंद किया जाता है. फेडरेशन सिनोलोगिक इंटरनेशनेल (एफसीआई) मानक उन कुत्तों को आदर्श मानता है जो 1.5 से लेकर 3.0 कीग्रा (3.3 से 6.6 lbs तक) के बीच होते हैं, हालांकि शो रिंग में छोटे वाले स्वीकार्य हैं.[5] पालतू पशु की गुणवत्ता वाले चिहुआहुआ (यानी, जिन्हें प्रदर्शनी के बजाय साथी के रूप में जना या खरीदा जाता है) अक्सर इस वजन सीमा से ऊपर होते हैं, और यहां तक कि यदि वे बड़ी शल्य संरचना वाले हैं या उन्हें मोटा होने दिया जाता है तो वे दस पाउंड से ऊपर हो जाते हैं. इसका यह मतलब नहीं है कि वे शुद्ध नस्ल के चिहुआहुआ नहीं हैं; वे अनुकूलन कार्यक्रम में प्रवेश करने की योग्यताओं को पूरा नहीं करते. मोटे चिहुआहुआ को कुछ सर्वोत्तम और निकृष्टतम रक्तरेखा में देखा जाता है. आमतौर पर, लंबी और छोटी, दोनों चिहुआहुआ की नस्ल के लिए नस्ल मानक समान होंगे, सिवाय कोट के विवरण के...

चिहुआहुआ प्रजनक, पिल्लों का वर्णन करने के लिए अक्सर मिनिएचर, टीकप, तेनी टॉय, या मृग सिर जैसे शब्दों का उपयोग करते हैं. इन शब्दों का प्रयोग नस्ल मानक द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है और यह भ्रामक हो सकता है.[6]

लोमचर्म (कोट)[संपादित करें]

हरे रंग की आंखों वाला बीज मादा चिहुआहुआ.

यूनाइटेड किंगडम में द केनेल क्लब और संयुक्त राज्य अमेरिका में अमेरिकी केनेल क्लब केवल दो किस्मों के चिहुआहुआ को मान्यता देता है: लंबे कोट वाले, और नरम कोट वाले को जिसे छोटे बाल वाले के रूप में भी संदर्भित किया जाता है.[7] वे आनुवंशिक रूप से एक ही नस्ल के हैं. नरम-कोट शब्द का मतलब यह नहीं है कि बाल आवश्यक रूप से नरम होंगे, क्योंकि बाल मखमल स्पर्श से लेकर मूंछ जैसे हो सकते हैं. लंबे बालों वाले चिहुआहुआ वास्तव में स्पर्श में चिकने होते हैं, जिनके बाल मुलायम, और महीन होते हैं, जो उन्हें उनका फूला स्वरूप प्रदान करते हैं. कई लम्बे बालों वाली नस्लों के विपरीत, लंबे बालों वाले चिहुआहुआ को किसी कंटाई-छंटाई और न्यूनतम रूप-सज्जा की आवश्यकता नहीं होती है. आम धारणा के विपरीत, लंबे बालों वाली नस्ल आम तौर पर छोटे बालों वाले समकक्षों की तुलना में कम बाल छोड़ते हैं. एक पूर्ण लंबे बालों वाले आवरण को विकसित होने में दो या दो से अधिक वर्षों का समय लग सकता है. .

रंग[संपादित करें]

चित्र:Misterthemodel2.jpg
एक तिरंगा चिहुआहुआ

अमेरिकी केनेल क्लब चिहुआहुआ मानक, रंग के तहत निर्धारित करता है: "कोई भी रंग - ठोस, चिह्नित, या छींटदार.[7] इससे सभी रंगों को अनुमति मिलती है, ठोस काले से लेकर ठोस सफेद, छींटदार, स्याह, या अन्य रंग और पैटर्न के विविध किस्मों को. कुछ उदाहरण हैं फौन, लाल, क्रीम, चॉकलेट, नीले और काले. मरले रंग एक धब्बेदार लोमचर्म है. पैटर्न, सफेद धारियों के साथ या उनके बिना, में शामिल हैं:

  • स्याह
  • आयरिश धब्बेदार
  • डलमैटियन धब्बेदार
  • चितकबरा धब्बेदार
  • अत्यंत काला धब्बेदार
  • चितकबरा
  • मास्क
  • टैन पॉइंट
  • लाल
  • सफ़ेद
  • काला
  • मरले
  • नारंगी
  • हलके पीले रंग का
  • तिरंगा
  • गहरा भूरा रंग
  • नीला
  • अत्यंत दुर्लभ नीला चितकबरा

मरले कोट पैटर्न को पारंपरिक रूप से नस्ल मानक का हिस्सा नहीं माना जाता है. यूनाइटेड किंगडम केनेल क्लब ने मई 2007 में फैसला किया कि उत्तरदायी जीन के साथ जुड़े स्वास्थ्य जोखिम की वजह से "कुत्तों में मरले कोट रंग" वाले पिल्लों को दर्ज नहीं किया जायेगा, और उस वर्ष दिसंबर में नस्ल मानक में औपचारिक रूप से संशोधन करते हुए कहा "कोई भी रंग या रंगों का मिश्रण पर मरले (चितकबरा) कभी नहीं".[8] द फेडरेशन सिनेलोगिक इंटरनेशनेल, जो 84 देशों के प्रमुख केनेल क्लब का प्रतिनिधित्व करता है उसने भी मरले को निरर्हित कर दिया.[9] कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और जर्मनी सहित अन्य देशों के केनेल क्लब ने भी मरले को निरर्हित कर दिया है. हालांकि, मई 2008 में अमेरिका के चिहुआहुआ क्लब ने मतदान किया कि मरले को संयुक्त राज्य अमेरिका में निरर्हित नहीं किया जायेगा और उन्हें पूरी तरह से दर्ज किया जा सकता है और वे सभी अमेरिकी केनेल क्लब (AKC) के कार्यक्रमों में प्रतिस्पर्धा करने में सक्षम हैं. नस्ल मानकों में मरले कुत्तों को मान्यता देने के विरोधियों को संदेह है कि यह रंग अन्य कुत्तों के साथ आधुनिक आनुवंशिक संकरण द्वारा आया है, और न कि प्राकृतिक आनुवंशिक परिवर्तन द्वारा.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

चिहुआहुआ के रंग का वर्गीकरण विभिन्न संभावनाओं की मौजूदगी के कारण जटिल हो सकता है. उदाहरण में हो सकते हैं नीले चितकबरे या एक चॉकलेट और टैन. रंग और प्रतिमान, संयुक्त होकर एक-दूसरे को प्रभावित कर सकते हैं, जिससे भिन्नता का एक बहुत ही उच्च स्तर फलित होता है. क्लासिक चिहुआहुआ का रंग हलके पीले रंग का बना हुआ है. किसी भी रंग या प्रतिमान को दूसरों की तुलना में अधिक मूल्यवान नहीं माना जाता है, हालांकि नीले को दुर्लभ माना जाता है.

स्वभाव[संपादित करें]

आक्रमण के संकेत देता चिहुआहुआ.
आराम करता चिहुआहुआ.

अन्य नस्लों की तुलना में, चिहुआहुआ का स्वभाव इस बात पर काफी ज्यादा निर्भर करता है कि उसके माता-पिता और दादा-दादी का आनुवंशिक स्वभाव कैसा था (सम्पूर्ण वंशावली सामाजिक या असामाजिक होती है) और उसे घार लाकर कैसे पाला-पोसा गया है (समाजीकरण और प्रशिक्षण)[1] एक चिहुआहुआ को बड़े ध्यान से चुना जाना चाहिए, क्योंकि उसके मालिक(कों) का स्वभाव पिल्ले के स्वभाव में फर्क डाल सकता है. क्रोधी चिहुआहुआ को हमला करने के लिए आसानी से उकसाया जा सकता है, और इसलिए वे आम तौर पर छोटे बच्चों वाले घरों के लिए अनुपयुक्त होते हैं.[10] AKC इस नस्ल का वर्णन इस रूप में करता है, "एक सुंदर, सावधान, तेज-चाल वाला छोटा कुत्ता जिसके हाव-भाव तीक्ष्ण और चुस्त है और स्वभाव में टेरिअर (एक छोटा शिकारी कुत्ता) के गुण विद्यमान हैं." [7] यह नस्ल कट्टरतापूर्ण एक विशेष मालिक के प्रति वफादार होती है और कुछ मामलों में उस व्यक्ति को लेकर वह अति सुरक्षात्मक हो जाती है, विशेष रूप से अन्य व्यक्तियों या पशुओं के आस-पास, लेकिन कई के साथ भी जुड़ सकती है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] वे अन्य नस्लों के साथ हमेशा मैत्रीपूर्ण नहीं होते,[10] और उनमें एक "जातिगत" प्रकृति पाई जाती है, जिससे वे अन्य कुत्तों की बजाय अन्य चिहुआहुआ के साथ रहना अक्सर पसंद करते हैं.[11] ये लक्षण आमतौर पर उन्हें घर के लिए अनुपयुक्त बनाते हैं जहां बच्चे शांत और धर्यवान नहीं होते.[7]

चिहुआहुआ ध्यान, स्नेह, व्यायाम और दुलार के भूखे होते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] वे अतिक्रियाशील हो सकते हैं, लेकिन खुश होने के लिए उत्सुक रहते हैं.[कृपया उद्धरण जोड़ें] उनकी प्रतिष्ठा एक "यप्पी" कुत्ते के रूप में है, जिसे उचित प्रशिक्षण के साथ हल किया जा सकता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] उचित प्रजनन वाले चिहुआहुआ "यप्पी" नहीं होते; AKC मानक "टेरिअर सदृश व्यवहार" की मांग करता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

स्वास्थ्य विकार[संपादित करें]

इस नस्ल को विशेषज्ञ पशु चिकित्सा की आवश्यकता होती है जैसे कि प्रसव और दंत चिकित्सा देखभाल में. चिहुआहुआ, कुछ आनुवंशिक विसंगतियों के प्रति भी संवेदनशील होते हैं, जो अक्सर स्नायविक होता है, जैसे जब्ती और मिरगी विकार.

चिहुआहुआ, और अन्य टॉय नस्ल, कभी-कभी दर्दनाक रोग, हाइड्रोसेफेलस के शिकार होते हैं. इसका निदान अक्सर पिल्ले के जीवन के शुरूआती कई महीनों के दौरान असामान्य रूप से एक बड़ा सिर होने के रूप में किया जाता है, लेकिन अन्य लक्षण अधिक दिखाई देते हैं (क्योंकि "एक बड़ा सिर" एक विस्तृत वर्णन है). ऐसे चिहुआहुआ पिल्ले जिनमें हाइड्रोसिफेलस प्रदर्शित होता है उनमें आमतौर पर ठोस हड्डी की बजाय खोपड़ी की प्लेटों पर धब्बे होते हैं और आम तौर पर सुस्त होते हैं और अपने भाई-बहन की तरह समान गति से विकसित नहीं होते. हाइड्रोसिफेलस के एक वास्तविक मामले का निदान एक पशुचिकित्सक द्वारा किया जा सकता है, यद्यपि रोग का निदान गंभीर है.

चिहुआहुआ को अत्यधिक खिलाना उस कुत्ते के स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा हो सकता है, जिससे उसका जीवन छोटा और उसे मधुमेह का खतरा होता है [12]

चिहुआहुआ में मोलेरा होता है, या उनकी खोपड़ी में एक नरम स्थान होता है, और कुत्तों की वे एकमात्र ऐसी नस्ल हैं जो अधूरी खोपड़ी के साथ पैदा होते हैं. यह मोलेरा उम्र के साथ भरता है, लेकिन पहले छह महीनों के दौरान काफी देखभाल करने की जरुरत होती है जब तक कि खोपड़ी का पूरी तरह से गठन ना हो जाए. कुछ मोलेरा पूरी तरह से बंद नहीं होते हैं और किसी चोट से बचाव के लिए उन्हें अतिरिक्त देखभाल की आवश्यकता होती है. कई पशुचिकित्सक, एक नस्ल के रूप में चिहुआहुआ से परिचित नहीं हैं, और गलती से एक मोलेरा को हाइड्रोसिफेलस समझ बैठते हैं. अमेरिका के चिहुआहुआ क्लब ने इस घातक गलत निदान से सम्बंधित एक बयान जारी किया है.[13] चिहुआहुआ पर अल्पशर्करारक्तता या न्यून रक्त शर्करा का खतरा भी होता है, वे एकमात्र ऐसे कुत्ते हैं जिन्हें मधुमेह होता है.रक्त शर्करा यह विशेष रूप से पिल्लों के लिए खतरनाक है. यदि इलाज न किया जाए तो अल्पशर्करारक्तता से कोमा या मृत्यु फलित हो सकती है. लगातार खिलाते हुए इस रोग से लड़ा जा सकता है (बहुत छोटे या जवान पिल्ले के लिए हर तीन घंटे पर). चिहुआहुआ के मालिकों के पास आपात स्थितियों में प्रयोग के लिए साधारण चीनी पूरक रखा होना चाहिए, जैसे कि न्यूट्री-कैल, कारो सिरप या शहद. रक्त शर्करा स्तर को तेज़ी से बढ़ाने के लिए इन पूरकों को मसूड़ों और मुंह की छत पर मला जा सकता है. अल्पशर्करारक्तता के लक्षण में शामिल है सुस्ती, तंद्रा, कम ऊर्जा, लड़खड़ाते हुए चलना, विकेन्द्रित दृष्टि और गले की मांसपेशियों की ऐंठन (या सिर का पीछे की ओर या बगल की तरफ खींचना). अपनी बड़ी, गोल, निकली हुई आंखों और जमीन से अपेक्षाकृत कम उंचाई की वजह से चिहुआहुआ को नेत्र संक्रमण या नेत्र चोट का खतरा रहता है. देखभाल करनी चाहिए कि कोई आगंतुक या बच्चे उसकी आंखों में कुछ कोंच न दें. आंखों में पड़ने वाली धूल या एलर्जी वाले तत्वों को हटाने के लिए आंखों में पानी आता रहता है. दैनिक सफाई से आंखें साफ़ रहेंगी और आंखों में धुंधला नहीं होगा.

चिहुआहुआ में कांपने की प्रवृत्ति मिली है लेकिन यह एक स्वास्थ्य मुद्दा नहीं है, बल्कि यह तब होता है जब कुत्ता तनाव में, उत्तेजित होता है या उसे ठंड लगती है. इसकी एक वजह यह हो सकती है कि छोटे कुत्तों में बड़े कुत्तों की तुलना में एक उच्च चयापचय होता है और इसलिए वे गर्मी को तेजी से उड़ाते हैं. इस कारण से चिहुआहुआ जब ठण्ड में बाहर जाते हैं या अधिक वातानुकूलित स्थानों में जाते हैं तो अक्सर कोट या स्वेटर पहनते हैं. चिहुआहुआ, सोने के लिए कंबल में अक्सर खुदाई करते हैं और लेट जाते हैं.

हालांकि आंकड़े अक्सर भिन्न पाए जाते हैं, जैसा कि किसी भी अन्य नस्ल के साथ होता है, एक स्वस्थ चिहुआहुआ का औसत जीवन काल लगभग 10 वर्ष से लेकर 17 वर्ष तक होता है.

चिहुआहुआ कभी-कभी चुनावी भक्षण करते हैं, और उन्हें पर्याप्त पोषण प्रदान करने का ख़याल रखा जाना चाहिए. चिहुआहुआ को यह प्रतिष्ठा इसलिए मिली क्योंकि वे दिन भर भोजन के छोटे टुकड़े खोज लेते हैं. इन लगातार भक्षण करने वालों को कभी-कभी गीला या ताजा भोजन सबसे आकर्षक गंध प्रदान करता है. "जब वे भूखे होते हैं तब वे खाते हैं" लागू नहीं होता क्योंकि चिहुआहुआ अल्पशर्करारक्तता के प्रति संवेदनशील होते हैं और यदि भोजन मिलने में लंबा अंतराल हो तो उनकी स्थिति खराब हो सकती है. साथ ही साथ, यह भी ध्यान देना चाहिए कि उन्हें आवश्यकता से अधिक ना खिलाया जाये. उन्हें मानव भोजन नहीं देना चाहिए. उनके छोटे आकार के कारण, थोड़ा भी उच्च वसा वाला या मीठा खाद्य चिहुआहुआ के वजन को अधिक कर सकता है. अधिक वजन वाले चिहुआहुआ को जोड़ों की चोटें, श्वासप्रणाली अवरोध, क्रोनिक ब्रोन्काइटिस, और लघु जीवन अवधि का खतरा रहता है.

चिहुआहुआ को 'लुक्सेटिंग पटेला' नामक एक आनुवंशिक हालत के लिए भी जाना जाता है. यह एक आनुवंशिक हालत है जो सभी कुत्तों में, बूढ़े या जवान, पतले या अधिक वजन वाले कुत्तों में हो सकता है, विशेष रूप से छोटे कुत्तों में. कुछ कुत्तों में, पटेलर खांचे का निर्माण करने वाली लकीरें सही आकार की नहीं होती हैं, और एक उथली नाली बन जाती है. उथले खांचे वाले कुत्ते में, पटेला बगल की ओर उखड़ जाता है (जगह से हट जाता है), विशेष रूप से अंदर की ओर. इससे पैरों में बंधन होने लगता है और चिहुआहुआ अपने पैर को जमीन से ऊपर उठा कर रखता है. जब पटेला जांध की हड्डी के नाली से उखड़ जाता है, यह आमतौर पर तब तक अपनी सामान्य स्थिति में नहीं लौटता जब तक क्वाड्रीसेप्स मांसपेशियों में आराम नहीं होता और उसकी लंबाई नहीं बढ़ जाती. यही कारण है कि क्यों प्रभावित कुत्ता अपने पैरों को प्रारंभिक विस्थापन के बाद कुछ मिनट के लिए ऊपर उठाने के लिए मजबूर हो जाता है. जब मांसपेशियों में संकुचन होता है और पटेला अपनी सही स्थिति से उखड़ जाता है, तो जोड़, उखड़ी या मुडी स्थिति में रहता है. जांध की हड्डी के शल्य नलिका के चलते, जांध की हड्डी के पार फिसलने वाली घुटने की टोपी कुछ दर्द पैदा कर सकती है. एक बार स्थिति से बाहर आ जाने पर, पशु को कोई असुविधा महसूस नहीं होती और वह अपनी गतिविधि जारी रखता है.

चिहुआहुआ को हृदय संबंधी विकारों का भी खतरा होता है जैसे हार्ट मर्मर, यानी अशांत रक्त प्रवाह और फेफड़ों के संकुचन के कारण हृदय की अतिरिक्त आवाज पैदा होती है जिसके तहत हृदय के दाएं वेंट्रिकल से रक्त का बहिर्वाह फेफड़े के वाल्व पर बाधित हो जाता है.[14]

यह भी देंखे[संपादित करें]

  • साथी कुत्ता
  • साथी कुत्ता समूह
  • टॉय समूह
  • मेसोअमेरिका में कुत्ते

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Chihuahua Dog History". http://www.chihuahua-rama.com/chihuahua-dog-history.html. अभिगमन तिथि: 08-07-10. 
  2. चिहुआहुआ पुस्तिका, डी. कैरलाइन कोइली, पीएच.डी., बैरन द्वारा प्रकाशित; ISBN 0-7641-1521-9.
  3. चिहुआहुआ: तथ्य और सूचना, टेन्ना पेरी, ESortment.com, 2002, जुलाई 29, 2007 को पुनः प्राप्त, यद्यपि इसके अस्तित्व से संबंधित अधिकांश कलाकृतियां मेक्सिको सिटी के आसपास मिलती हैं.
  4. Ostrander, Elaine A. (September–October 2007). "Genetics and the Shape of Dogs; Studying the new sequence of the canine genome shows how tiny genetic changes can create enormous variation within a single species". American Scientist (online). www.americanscientist.org. pp. seven pages. http://www.americanscientist.org/issues/feature/2007/5/genetics-and-the-shape-of-dogs. अभिगमन तिथि: 08/09/2008. 
  5. "FCI Chihuahua standard". Archived from the original on 2004-10-16. http://web.archive.org/web/20041016061005/http://www.fci.be/uploaded_files/218gb04_en.doc. अभिगमन तिथि: 2009-08-14. 
  6. "CCA-Teacup Statement". Chihuahuaclubofamerica.com. 2009-05-30. http://www.chihuahuaclubofamerica.com/NEW%20TRANSFER/Teacup1.html. अभिगमन तिथि: 2009-08-14. 
  7. अमेरिकन केनेल क्लब चिहुआहुआ पृष्ठ, 29 जुलाई, 2007 को पुनः प्राप्त.
  8. "Kennel Club breed standard". Thekennelclub.org.uk. 2006-05-15. http://www.thekennelclub.org.uk/item/183. अभिगमन तिथि: 2009-08-14. 
  9. "FCI-Standard N° 218 / 21.10.2009 / GB". Fédération Cynologique Internationale. 07-28-2009. Archived from the original on 2010-07-15. http://web.archive.org/web/20100715015204/http://www.fci.be/uploaded_files/218GB2009.doc. अभिगमन तिथि: 2010-07-21. 
  10. द चिहुआहुआ , डॉग ओनर्स गाइड canismajor.com पर मालिकों.
  11. चिहुआहुआ के बारे में, ब्रिटिश चिहुआहुआ क्लब, 29 जुलाई, 2007 को पुनः प्राप्त.
  12. पालतू स्वास्थ्य 101 - चिहुआहुआ, 29 जुलाई 2007 को पुनः प्राप्त
  13. मोलेरा वक्तव्य[मृत कड़ियाँ]
  14. चिहुआहुआ स्वास्थ्य , Dog-breeds.in

बाह्य लिंक[संपादित करें]