ग्रहणाधिकार (लियन)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कानून में, ग्रहणाधिकार या लियन(IPA: /ˈliːən/;IPA: /ˈliːn/) किसी संपत्ति के एवज में दिए गए ऋण शोधन या किसी अन्य दायित्व के निर्वाह के बदले में भुगतान को सुरक्षित करने के लिए हित सुरक्षा की मंजूरी का एक प्रकार है. संपत्ति का मालिक, जो लियन या ग्रहणाधिकार प्रदान करता है, को लियनर (lienor) और जिस व्यक्ति को लियन का लाभ मिलता है उसे लियनी (lienee) कहा जाता है.

एंग्लो-फ्रेंच लियन (लियन), लोयेन "बोंड" (loyen "bond"), "रिस्ट्रेंट" ("restraint"), लैटिन लिगामेन (ligamen) से, लिगारे से "टु बाइंड" ("to bind") शब्द व्युत्पत्ति का मूल है.

संयुक्त राज्य अमेरिका में, शब्द लियन (lien) आमतौर पर शुल्क भार की एक विस्तृत श्रृंखला को दर्शाता है (संदर्भित या उद्धृत करता है) और इसमें अन्य प्रकार के बंधक या शुल्क शामिल होते हैं. संयुक्त राज्य अमेरिका में, लियन विलक्षण रूप से गैर-स्वामित्वकारी सुरक्षा हितों या ब्याज प्रतिभूतियों के लिए संदर्भित है (देखें: [[प्रतिभूति-व्याज श्रेणियां|प्रतिभूति-व्याज श्रेणियां]]).

अन्य समान कानून वाले देशों में, लियन शब्द एक बहुत ही विशेष प्रकार के ब्याजी प्रतिभूति के लिए संदर्भित है; इसके तहत कर्ज या अन्य दायित्व से मुक्त होने तक संपत्ति पर प्रतिधारण का (लेकिन बिक्री का नहीं) निष्क्रिय अधिकार प्राप्त होता है. अन्य देशों में विशुद्ध रूप से प्रतिभूति ब्याज का स्‍वत्‍व संबंधी रूप कहलाता है; इसके विपरीत USA में इस शब्द का उपयोग निश्चित तौर पर उस समय होता है, जब संपत्ति पर दखल नहीं रहता, और तब लियन अर्थात् ग्रहणाधिकार निर्मुक्त होता है.[1] हालांकि, समान कानूनवाले देशों में इसकी पहचान प्रतिभूति व्याज के जरा असंगत प्रकार के रूप में भी की जाती है, "न्यायसंगत ग्रहणाधिकार" (एक्विटबल लियन) कहलाता है, जो कुछ दुर्लभ मामलों में सामने आता है.

शब्दावली और इसके अमल में अंतरों के बावजूद, USA और सामान कानून वाले देशों के विभिन्न ग्रहणाधिकारों के बीच अनेक प्रकार की समानताएं हैं.

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

ग्रहणाधिकार सहमतिजन्य या असहमतिजन्य हो सकते हैं (विभिन्न राज्यों में यह ऐच्छिक या अनैच्छिक भी कहलाते हैं); सहमतिजन्य ग्रहणाधिकार ऋणदाता और ऋणी के बीच एक अनुबंध द्वारा लगाया जाता है:

असहमतिजन्य ग्रहणाधिकार खास तौर पर अधिनियम द्वारा या सामान कानून की कार्यवाही से सामने आते हैं. वे कानून ऋणदाता तथा ऋणी के बीच के संबंध के बनाये रखने के द्वारा ऋणदाता को स्थावर संपदा अथवा चल-संपत्ति के मद पर ग्रहणाधिकार अधिरोपित करने का अधिकार देते हैं. उन ग्रहणाधिकारों में शामिल हैं

  • कर ग्रहणाधिकार, कर का भुगतान सुरक्षित करने के लिए लगाए जाते हैं;
  • "छंटनी का ग्रहणाधिकार" (weed liens) और "विध्वंस ग्रहणाधिकार" (demolition liens), उपद्रव मचने और सार्वजनिक संकट के कारण किसी संपत्ति को दुरुस्त करने के लिए सरकार द्वारा मूल्यांकन किया जाता है;
  • वकील का अधिकार, कोष और दस्तावेजों के एवज में शुल्क को सुरक्षित करता हैं;
  • मिस्त्री का ग्रहणाधिकार (मैकेनिक्स लियन), जो जमीन अथवा जायदाद पर हुए काम के एवज में भुगतान को सुरक्षित करता है;
  • निर्णय ग्रहणाधिकार (जजमेंट लियंस), किसी निर्णय के भुगतान को सुरक्षित करने के लिए यह अधिरोपित किया जाता है;
  • समुद्री ग्रहणाधिकार (मैरीटाइम लियंस), इसे नौसेना विभाग के कानून द्वारा जहाजों पर लगाया जाता है.

लियंस "दोषहीन" या "दोषपूर्ण" भी होते हैं (देखें पूर्णता). दोषहीन लियंस वो लियंस होते हैं जिनके लिए एक ऋणदाता तीसरे पक्ष के ऋणदाताओं का सम्मान करते हुए ऋणभारग्रस्त संपत्ति पर एक प्राथमिकता अधिकार स्थापित करता है. साधारणतया तीसरे पक्ष को लियन की नोटिस भेजकर कानून द्वारा अपेक्षित कदम उठाकर पूर्णता प्रमाणित होती है. असल बात यह है कि संपत्ति की एक चीज या अंश ऋणदाता के हाथों में हो तो आमतौर पर पूर्णता स्थापित हो जाती है. जब संपत्ति ऋणी के ही हाथों में रहती है, तब उपयुक्त कार्यालय में ब्याज प्रतिभूति की नोटिस की रिकॉर्डिंग जैसी कुछ कार्रवाई कर ली जानी चाहिए.

किसी लियन की पूर्णता संपत्ति में ऋणदाता के हित को सुरक्षित करने के काम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. संपत्ति के असली खरीददार के लिए दोषहीन लियन वैध है,और यहां तक कि दिवालिया हुए न्यासी के मामले में भी, जबकि दोषपूर्ण लियन नहीं भी हो सकता है.

न्यायसंगत ग्रहणाधिकार (एक्विटबल लियन) (U.S.)[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में न्यायसंगत ग्रहणाधिकार वह अधिकार है जो केवल इक्विटी पर ही लागू होता है, और जो बगैर कोष अथवा संपित्त पर कब्जा किए किसी कोष विशेष अथवा किसी खास संपत्ति की मांग को पूरा करता है. U.S. कानून में, ऐसे ग्रहणाधिकार चार परिस्थितियों में विशेष रूप से सामने आते हैं:[2]

  1. किसी जगह का अधिवासी, नेकनीयती में जिसे उस जगह का मालिक मान लिया गया है,जब उस जगह की मरम्मती के लिए अथवा अन्य मद पर व्यय करता है, जिससे स्थायी तौर पर उस जगह की कीमत बढ़ जाती है;
  2. जब एक या एक से अधिक संयुक्त मालिक उपरोक्त किसी भी तरह का व्यय करते हैं;
  3. जब वसीयतकर्ता से पहले कोई एक किरायेदार अपने रहने की अवधि तक के लिए किसी जायदाद का आजीवन स्थायी और लाभकारी विकास का काम शुरू करता है; और
  4. जब भूमि या अन्य संपत्ति को ऋण, विरासत, किसी तीसरे पक्ष के अंशों अथवा सालाना भत्ते के भुगतान के लिए स्थानांतरित कर रहा है.

अन्य एक समान कानूनवाले देश[संपादित करें]

USA के बाहर, एक समान कानून ग्रहणाधिकार को सामान्य शब्दों में कानून द्वारा प्रदत्त चल संपत्ति (और, किन्हीं मामलों में दस्तावेजी अप्रत्यक्ष संपत्ति और कागजात) को रोके रहने के निष्क्रिय अधिकार के रूप में परिभाषित किया जाता है. आधुनिक परिस्थितियों में लागू करने के लिए बगैर किसी वास्तविक प्रयास के जब कोई मामला ऐतिहासिक तौर पर स्थापित हो, तब आधुनिक कानून आमतौर पर कानूनी ग्रहणाधिकार को छोड़ देता है. टैप्पेंडेन बनाम आर्टस [1964]2 QB 185 डिपलॉक LJ में एक "स्वयं सेवा" उपाय का लियन संदर्भित है, जैसे कि "उपद्रव की समाप्ति, आत्म-सुरक्षा या अतिक्रमियों को जमीन से बाहर निकालने जैसे अन्य पुराने उपाय". न्यायसंगत लियंस संपत्ति के अधिकार का एक असामान्य प्रकार हैं, जिन्हें आमतौर पर सुई जेनेरिस (sui generis) माना जाता है.

समान कानून ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

विशेष ग्रहणाधिकार और सामान्य ग्रहणाधिकार में विभाजित हैं एक समान कानून ग्रहणाधिकार. एक विशेष ग्रहणाधिकार, जो बहुत ही सामान्य प्रकार का होता है, को संपत्ति और प्रदान की जाने वाली सेवा के बीच एक घनिष्ठ संबंध की आवश्यकता होती है. तत्काल लेनदेन से संबंधित फीस के संबंध में केवल एक विशेष लियन या ग्रहणाधिकार का ही प्रयोग किया जा सकता है; साथ ही पुराने ऋणों की प्रतिभूति के रूप में रोक रखी गयी संपत्ति का प्रयोग लियनी या ऋणी नहीं कर सकता. एक सामान्य ग्रहणाधिकार ऋणी की उन सभी संपत्ति पर प्रभाव डालता है जो ऋणदाता के कब्जे में है, और ऋणी को ऋणदाता द्वारा दिए गए सभी कर्ज की सुरक्षा की गारंटी करता है. एक विशेष ग्रहणाधिकार को अनुबंध द्वारा आम ग्रहणाधिकार में विस्तारित किया जा सकता है, और यह आम तौर पर कैरियर्स के मामले में किया जाता है.[3] एक समान कानून ग्रहणाधिकार सिर्फ प्रतिधारण का एक निष्क्रिय अधिकार ही देता है; समान कानून में बिक्री करने का अधिकार नहीं होता है,[4] हालांकि कुछ परिनियमों में बिक्री करने के अतिरिक्त अधिकार भी प्रदत्त होते हैं,[5] और अनुबंध के जरिये एक अलग अधिकार प्रदत्त करना संभव है.

समान कानून ग्रहणाधिकार घनिष्ठ रूप से तथाकथित "कॉमन कॉलिंग्स" के साथ संरेखित होते हैं, लेकिन वे आपस में सह-विस्तारी नहीं होते हैं.

एक समान कानून ग्रहणाधिकार एक बहुत ही सीमित प्रकार का प्रतिभूति ब्याज है. इस सच के बावजूद कि यह कब्जे का सिर्फ निष्क्रिय अधिकार देता है, एक ग्रहणाधिकार हस्तांतरित नहीं किया जा सकता है;[6] किसी तीसरे पक्ष द्वारा इस पर अधिकार नहीं जताया जा सकता, जिसके कब्जे में माल है उन सेवाओं के लिए जिसे मूल पक्ष द्वारा किया जाना चाहिए;[7]; और अगर चल-संपत्ति ऋणदाता को अध्यर्पित कर दी जाती है तो लियन की हकदारी हरदम के लिए समाप्त हो जाती है[8] (इसके सिवाय कि जब सभी पक्ष इस बात पर राजी हों कि ऋणदाता अस्थायी रूप से ग्रहणाधिकार पर पुनः अधिकार रख सकता है). कोई ऋणी जो अवैध रूप से चल-संपत्ति को बेचता है, वह रूपांतरण का जिम्मेदार हो सकता है, साथ ही लियन के समर्पण का भी.[9]

न्यायसंगत ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

समान कानून वाले देशों में न्यायसंगत ग्रहणाधिकार या एक्विटेबल लियंस ने अनूठे और कठिन मुद्दों में वृद्धि की है. एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार कानून की कार्यवाही द्वारा प्रदत्त एक गैर-स्वामित्व वाला सुरक्षा अधिकार है, जो प्रभाव में एक साम्यिक प्रभार (एक्विटेबल चार्ज) के समान है. यह किसी चार्ज से अलग होता है तब यह गैर सहमति-जन्य है. यह बहुत ही सीमित परिस्थितियों में प्रदत्त होता है, इनमें सबसे आम (और बहुत ही कम अस्पष्ट) है भूमि की बिक्री के संबंध में; एक अभुक्त विक्रेता का खरीद कीमत के लिए भूमि पर एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार होता है, बावजूद इसके कि क्रेता का संपत्ति पर कब्जा हो चुका हो. इसे एक्विटेबल नियम पर एक प्रतिभार के रूप में देखा जाता है, जो खरीदगी के अनुबंधों के विनिमय के बाद खरीददार को भूमि पर एक लाभकारी हित प्रदान करता है.

यह अनुमान की बात है कि अभुक्त विक्रेता ग्रहणाधिकार के बाहर न्यायसंगत ग्रहणाधिकार का कितना विस्तार किया जा सकता है. क्रियाशील चीजों के शामिल रहे अनेक मामलों में न्यायसंगत ग्रहणाधिकार को रोक रखा गया है,लेकिन चल-संपत्ति के संबंध में अब तक नहीं.[10] ऑस्ट्रेलियाई अदालतें व्यक्तिगत संपत्ति से संबंधित न्यायसंगत ग्रहणाधिकार के मामलों में सबसे अधिक ग्रहणशील हैं (हेवेट बनाम कोर्ट (1983) 57 ALJR 211 देखें), लेकिन एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार किस पर लगाया जाय इससे संबंधित सिद्धांतों की स्पष्टता की कमी मामलों की समीक्षा में देखी गयी.

  • री स्टकली [1906] 1 Ch 67 में एक त्रस्त फंड में एक विक्रेता के प्रत्यावर्ती हित रहे,जिसने अपने हित (न्यासी) ट्रस्टी को बेच दिया,उसके पास इस संबंध का एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार हुआ करता था, हालांकि यह स्पष्ट रूप से व्यक्तिगत जायदाद थी और अचल संपत्ति नहीं थी.
  • बार्कर बनाम कॉक्स (1876) 4 Ch D 464 में संपत्ति के खरीददार को न्यासियों में से एक को अग्रिम तौर पर एक वैवाहिक निपटान के मूल्य का भुगतान करने में शामिल किया गया था, और खरीददार को निवेश में एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार दिया गया, जिसे बाद में न्यासियों ने खरीद मूल्य से प्राप्त कर लिया.
  • लांगेन एंड विंग बनाम बेल [1972] Ch 685 में एक निदेशक के सेवा अनुबंध में अपेक्षित था कि अगर उसकी नौकरी चली जाती है तो वह अपना शेयर कंपनी में लगा दे, और बाद में वार्षिक हिसाब का लेखा-जोखा आने के बाद उसे एक मूल्य प्राप्त होना था; ऐसे में उसे अंतिम खरीद मूल्य के भुगतान की सुरक्षा के लिए स्थान्तरित किये गए शेयरों के एवज में एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार प्राप्त हुआ.
  • लॉर्ड नेपियर एंड एटेरिक बनाम हंटर [1993] 2 WLR 42 में यह संघटित हुआ कि बीमाकृत व्यक्ति को सीधे तौर पर अनुचित ढंग से फंड दिए जाने से संबंधित एक क्षतिपूर्ति बीमा कंपनी के प्रस्थापन अधिकार एक न्यायसंगत ग्रहणाधिकार का विषय बना.

लेकिन कुल मिलाकर, अभी भी केंद्रीय तालमेल में एक कमी महसूस की जाती है.[11]

सांविधिक ग्रहणाधिकार और संविदा संबंधी ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

हालांकि चर्चा किये गए ग्रहणाधिकार के रूप में तर्क साध्य न भी हो, लेकिन ऋण भार के दो अन्य रूपों का भी कभी-कभी ग्रहणाधिकार के रूप में उल्लेख होता है.

सांविधिक ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

कुछ विधियां दायित्वों के लिए एक सुरक्षा के रूप में उसके मालिक के खिलाफ संपत्ति के प्रतिधारण का निष्क्रिय अधिकार प्रदान करती हैं. उदाहरण के लिए, यूनाइटेड किंगडम के सिविल एविएशन एक्ट 1982 की धारा 88 हवाई अड्डे को अभुक्त हवाई अड्डा शुल्क और विमानन ईंधन के लिए किसी विमान को रोकने की अनुमति प्रदान करती है. हालांकि इस अधिकार को UK दिवालिया कानून के तहत ग्रहणाधिकार के रूप में माना जाता है,[12] लेकिन तर्क है इस तरह के वैधानिक अधिकार दरअसल ग्रहणाधिकार नहीं हैं,लेकिन ये अधिकार ग्रहणाधिकार के अनुरूप हैं;[13] हालांकि कुछ लोग कह सकते हैं कि बगैर किसी अंतर के यह भेद है.

संविदा संबंधी ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

ऐसा कहा जाता है कि एक समझौते के द्वारा किया गया अनुबंध ग्रहणाधिकार नहीं है, जिसमें एक पक्ष दूसरे पक्ष के माल को तब तक रोके रख सकता है जब तक कि भुगतान नहीं हो जाए,[13] क्योंकि एक समान कानून के तहत ग्रहणाधिकार गैर-सहमतिजन्य ग्रहणाधिकार नहीं हो सकता. हालांकि, ऐसा प्रतीत होता है कि दिवालिया कानून के तहत, ऐसे अधिकारों को ग्रहणाधिकार की तरह ही लिया जायेगा, भले ही वह ग्रहणाधिकार की तरह नहीं व्यक्त किये जाएं.[12]

समुद्री ग्रहणाधिकार[संपादित करें]

समुद्री ग्रहणाधिकार वह ग्रहणाधिकार है जो पोत पर उस ऋणदाता के दावे को सुनिश्चित करने के लिए दिया जाता है जो पोत पर समुद्री सेवाएं प्रदान करता है अथवा पोत का उपयोग करने में घायल हुआ हो. समुद्री ग्रहणाधिकार कभी कभी सूचित दृष्टि बंधक के रूप में भी जाना जाता है. समुद्री ग्रहणाधिकार अन्य ग्रहणाधिकारों के कानूनों के तहत ज्यादातर अधिकार क्षेत्रों में एक जैसे हैं.

समुद्री ग्रहणाधिकार "बहुत ही अनोखे नौसेना कानून की विशिष्टताओं में से एक" के रूप में जाना जाता है.[14] एक समुद्री ग्रहणाधिकार जहाजों पर इस प्रकृति के प्रतिभूति ब्याज का निर्माण करता है जो एक समान कानून या इक्विटी के लिए अज्ञात है. यह शुद्ध रूप से कानून की कार्यवाही से सामने आता है और संबंधित संपत्ति पर एक दावे के रूप में विद्यमान रहता है, गुप्त तथा अदृश्य दोनों तरह से, जिसे अक्सर परिनियम द्वारा पंजीकृत ब्याज सुरक्षा के अन्य रूपों पर प्राथमिकता दी जाती है.[15] हालांकि ये विशेषताएं विभिन्न देशों के कानूनों के तहत अलग-अलग हैं, जिन्हें इस तरह वर्णित किया जा सकता है:

  1. एक विशेष सुविधा का दावा,
  2. समुद्री संपदाओं पर,
  3. इसकी सेवा के लिए अथवा इससे हुए नुकसान के लिए,
  4. दावे के संलग्न होने के क्षण से लाभ होना,
  5. बिना शर्त संपत्ति के साथ यात्रा,
  6. जब्ती संबंधी कार्रवाई द्वारा लागू.[14]

पारिभाषिक शब्दावली[संपादित करें]

दुनिया भर में, बड़ी संख्या में लिएंस के विभिन्न प्रकार और इसके बहुत सारे उप-विभाजन हैं. निम्नलिखित सभी प्रकार के लिएंस सभी वैधानिक प्रणाली में मौजूद नहीं होते हैं जिससे ग्रहणाधिकार (लियन) की अवधारणा को पहचाना जाए. नीचे जो विवरण दिए जा रहे हैं जरूरी नहीं कि वे परस्पर अनन्य हों. ग्रहणाधिकार के प्रकारों में शामिल हैं

  • लेखाकार का ग्रहणाधिकारलेखापाल का अधिकार है कि वह ग्राहक के दस्तावेजों को रोके रखे जब ‍तक कि लेखापाल के मेहनताने का भुगतान न कर दिया जाए.
  • एजेंट(अभिकर्ता) का ग्रहणाधिकार
  • चरवाहे का ग्रहणाधिकार —जो जमानत के रूप में मेहनताने के लिए चरवाहे की चौकसी पर रहनेवाले पशुओं पर होता है.
  • कृषि ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—यह सांविधिक ग्रहणाधिकार है जो विक्रेता के खेती के उपकरणों की सुरक्षा के लिए उसके द्वारा दिए गए उपकरणों से उगाये गए फसल का ग्रहणाधिकार है.
  • वास्तुकार का ग्रहणाधिकारवास्तुकार का अधिकार है कि वह ग्राहक के दस्तावेजों को तब तक रोके रखे जब ‍तक कि वास्तुकार के मेहनताने का भुगतान न कर दिया जाए.
  • जब्ती ग्रहणाधिकार —यह निर्णय-पूर्व जब्ती द्वारा संपत्ति की जब्ती का ग्रहणाधिकार है.
  • अधिवक्ता का ग्रहणाधिकारअधिवक्ता का अधिकार है कि वह ग्राहक के दस्तावेजों को तब तक रोके रखे जब ‍तक कि वकील के मेहनताने का भुगतान न कर दिया जाए. (यह चार्जिंग (प्रभार)लियन, सॉलिसिटर का लियन अथवा कुछ अधिकार क्षेत्र में रिटेनिंग लियन भी कहलाता है).
  • बैंकर का ग्रहणाधिकारबैंक का अधिकार है कि वह बैंक में ग्राहक के अधिकृत धन अथवा सं‍पत्ति पर कब्जा करके ग्राहक के परिपक्व ऋण की उगाही कर ले.
  • ब्लैंकेट लियन —यह ग्रहणाधिकार लियनी को कर्ज में दिए गए अपने बकाया राशि की उगाही के लिए लियनर के सभी अचल संपित्त पर कबजा कर लेना का अधिकार देता है.
  • वाहक का ग्रहणाधिकार —वाहक का अधिकार है कि जहाज का मालिक जब तक माल की ढुलाई की लागत का भुगतान नहीं कर देता तब तक वह जहाज के माल पर अपना कब्जा बनाये रखे.
  • चोएट लियन (संयुक्त राज्य अमेरिका)—वह ग्रहणाधिकार है जो जिसमें लियनी संपत्ति और मौद्रिक राशि कुछ इस तरह स्थापित करता है ताकि ग्रहणाधिकार दोषहीन हो और ग्रहणाधिकार को लागू करने योग्य बनाने के लिए और कुछ भी करने की जरूरत नहीं हो.
  • एक समान कानून ग्रहणाधिकार—वह ग्रहणाधिकार है जो एक समान कानून के तहत आता है, न कि अधिनियम, इक्विटी या पक्षों के बीच समझौते के जरिए.
  • संयुक्त ग्रहणाधिकार —दो में से एक अथवा अधिक की संपत्ति पर यह ग्रहणाधिकार है.
  • परिपूर्ण ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)— एक निर्णय ग्रहणाधिकार है जिसकी नौबत नई सुनवाई के लिए प्रस्ताव को मानने से इंकार करने के बाद आती है.
  • पारंपरिक ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—वह ग्रहणाधिकार है जो पक्षों के बीच आपसी समझौते से ऐसी परिस्थितियों में बनाया जाता है, जहां कानून किसी भी तरह से ग्रहणाधिकार नहीं बनाता.
  • विलंबित ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—वह ग्रहणाधिकार है जो केवल भविष्य में ही प्रभावी होते हैं.
  • विलंब शुल्क ग्रहणाधिकार —वाहक का ग्रहणाधिकार है जो किसी सामान पर बकाया विलंब शुल्क के लिए होता है.
  • महाजाल ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—वह ग्रहणाधिकार है जो साहूकार पर उसी ऋणदाता द्वारा अतिरिक्त ऋण व्यय की उगाही के लिए अभिवर्धित किया जाता है.
  • पर्यावरण ग्रहणाधिकार —खतरनाक पदार्थों अथवा पेट्रोलियम उत्पाद से पैदा हुई गड़बड़ी को रोकने के लिए किए गए काम, सफ-सफाई अथवा अन्य उपाय की लागत अथवा ऋण के भुगतान को सुनिश्चित करने के लिए प्रभार, प्रतिभूति जमानत अथवा संपत्ति स्वतवाधिकार पर भार है.
  • न्यायसंगत ग्रहणाधिकार —यह वह ग्रहणाधिकार है जो ऋणी को दिए गए किसी अतिरिक्त ऋण की सुरक्षा के लिए उसी ऋणदाताके लिए अभिवर्धित है.
  • कार्यान्वयन ग्रहणाधिकार —यह लेवी कार्यान्वयन द्वारा संपत्ति की जब्ती का ग्रहणाधिकार है.
  • घटक ग्रहणाधिकार —आमतौर पर सांविधिक ग्रहणाधिकार है जो घटक द्वारा प्रेषित संपत्ति को रोकने का होता है.
  • प्रथम ग्रहणाधिकार —वह ग्रहणाधिकार है जो एक ही संपत्ति पर सभी अन्य भारों को प्राथमिकता से लेता है.
  • अस्थिर ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—यह ग्रहणाधिकार लियनर द्वारा उस समय अधिग्रहण किए गए किसी भी अतिरिक्त संपत्ति को समाविष्ट करने में हुआ व्यय है, जब उसका ऋण बकाया हो (एक समान कानूनवाले देश में, देखें अस्थिर चार्ज)
  • ऋण-अनुबंध ग्रहणाधिकार —यह ऋण-अनुबंध कर्ता द्वारा किसी देनदार की संपित्त पर कब्जा करने का ग्रहणाधिकार है.
  • सामान्य ग्रहणाधिकार यह स्‍वत्‍व संबंधी ग्रहणाधिकार है जिसके द्वारा ग्रहणाधिकार धारक ऋणी के किसी सामान पर तब तक कब्जा बनाये रख सकता है जब तक कि उसका ऋण बकाये का भुगतान न हो जाये, भले ही वह सामान रोका गया सामान हो या कोई रूसरा. घटकों, बीमा दलालों, पैकेरों, शेयर दलालों और बैंकरों का ग्रहणाधिकार आमतौर पर सभी सामान्य ग्रहणाधिकार हैं.
  • स्वास्थ्य ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—एक सांविधिक ग्रहणाधिकार है जो एक HMO, बीमा कंपनी, चिकित्सा दल अथवा स्वतंत्र अभ्यास संघ द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में भुगतान योग्य पैसों का दावा करने अथवा देये धन की वसूली के लिए उनके खिलाफ किया जाता है, साथ में हर्जाने के लिए उत्तरदायी मरीज से भी (कभी-कभी स्वास्थ्य) ग्रहणाधिकार कहलाता है.
  • अस्पताल का ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—एक सांविधिक ग्रहणाधिकार है जो अस्पताल द्वारा आपातकालीन लागत और चल रहे अन्य चिकित्सा तथा सेवाओं में हुए व्यय की उगाही के लिए निश्चित किया जाता है.
  • होटल पदाधिकारी का ग्रहणाधिकार —स्वत्व संबंधी अथवा सांविधिक ग्रहरणाधिकार है जो भुगतान को सुनिश्चित करने के लिए सरायखाने के अधिकारी को अतिथि द्वारा होटल में लायी गयी निजी संपत्ति को रख लेने की अनुमति देता है (यह सरायेखाने के पदाधिकार का ग्रहणाधिकार भी कहलाता है).
  • अपरिपक्व ग्रहणाधिकार —वह ग्रहणाधिकार है जो अगर प्रासंगिक निर्णय निष्प्रभावी होने अथवा नई सुनवाई के लिए प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाने पर यह ग्रहणाधिकार असफल हो सकता है.
  • अनैच्छिक ग्रहणाधिकार वह ग्रहणाधिकार है जो लियनर की सहमति के बगैर होता है.
  • निर्णय ग्रहणाधिकार वह ग्रहणाधिकार है जो ऋणी के करदेय संपत्ति के मूल्यांकन पर लगाया पर होता है.
  • न्यायिक ग्रहणाधिकार —यह निर्णय, लेवी, ज़ब्ती या अन्य समान कानूनी प्रक्रिया अथवा कार्यवाही द्वारा प्राप्त होता है.
  • कनिष्ठ ग्रहणाधिकार —यह दूसरे ग्रहणाधिकार का कनिष्ठ अथवा अधीनस्थ ग्रहणाधिकार है जो एक ही संपत्ति होता है.
  • मकान मालिक का ग्रहणाधिकार —वह ग्रहणाधिकार है जो मकान मालिक को अपने बकाये किराए की उगाही के लिए किरायेदार की संपत्ति जब्त करने और उसे बेच देने का अधिकार देता है.
  • निर्माता का ग्रहणाधिकार —एक सांविधिक ग्रहणाधिकार है जो श्रम अथवा दूसरे माल के निर्माण के लिए सामग्रियों पर होनेवाले व्यय के लिए भुगतान को सुनिश्चित करता है.
  • समुद्री ग्रहणाधिकार —ऊपर देखें.
  • मिस्त्री का ग्रहणाधिकार —(अलग-अलग अधिकार क्षेत्र में कभी कभी दस्तकार ग्रहणाधिकार, चल सम्पत्ति ग्रहणाधिकार, निर्माण ग्रहणाधिकार, मजदूर ग्रहणाधिकार के रूप में भी जाना जाता है).
  • बंधक ग्रहणाधिकार —बंधक को सुनिश्चित करने के लिए बंधककर्ता की संपत्ति पर यह ग्रहणाधिकार है.
  • नगरपालिका-संबंधी ग्रहणाधिकार (संयुक्त राज्य अमेरिका)—सार्वजनिक प्रगति के लिए संपत्ति के मालिक के अनुपातिक अंश के लिए नगरपालिका द्वारा संपत्ति के मालिक पर लगाया गया ग्रहणाधिकार है, जिसका लाभ मालिक को विशेष रूप से और निजी तौर पर होता है.
  • स्‍वत्‍व संबंधी ग्रहणाधिकार —जब तक ऋण अदायगी नहीं हो जाती तब तक साहूकार को भारग्रस्त संपित्त अपने कब्जे में रखने की यह ग्रहणाधिकार अनु‍मति देता है.
  • सहायक ग्रहणाधिकार —एक ही संपत्ति पर इस ग्रहणाधिकार का दर्जा पहले ग्रहणाधिकार के बाद आता है.
  • गुप्त ग्रहणाधिकार —वह ग्रहणाधिकार है जो रिकॉर्ड में दर्ज नहीं होता है और खरीददार इससे अनजान होता है; विक्रेता द्वारा आरक्षित किया गया ग्रहणाधिकार है और माल की सुपुर्दगी के बाद भुगतान को सुरक्षित रखने के लिए तीसरे पक्ष से छिपाया जाता है.
  • सॉलिसीटर ग्रहणाधिकार —एक वकील को अधिकार है कि वह अपने मुवक्किल से लागत वसूले. यह एक पारंपरिक ग्रहणाधिकार की तुलना में कहीं अधिक व्यापक है.
  • विशेष ग्रहणाधिकार —यह आधिकारिक ग्रहणाधिकार है, जिसके द्वारा माल के धारक को अधिकार है कि माल के एवज में जब तक भुगतान नहीं कर दिया जाता तब तक वह माल विशेष को रोके रखे (इसे पर्टिकुलर लियन भी कहते हैं). सामान्य ग्रहणाधिकार के यह विपरीत है.
  • वैधानिक ग्रहणाधिकार —केवल लागू करने के अधिनियम द्वारा यह ग्रहणाधिकार सामने आता है.
  • कर ग्रहणाधिकार —यह संपत्ति पर ग्रहणाधिकार है और संपत्ति पर बकाया कर के लिए जिसे कर प्राधिकरण को लगाने का पूरा अधिकार है.
  • गाहक का ग्रहणाधिकार —किसी भूमि की खरीददारी पर प्रतिभूति के रूप में क्रय-धन की अदायगी के पुनर्भुगतान के लिए ग्राहक ग्रहणाधिकार है, अगर विक्रेता वैध स्वत्व हस्तांतरित नहीं कर सकता है अथवा करता है तो यह प्रवर्तन योग्य है.
  • विक्रेता का ग्रहणाधिकार —खरीद मूल्य के लिए प्रतिभूति के रूप में भूमि पर यह किसी विक्रेता का ग्रहणाधिकार है (कभी`कभी यह बकाया विक्रेता का ग्रहणाधिकार कहलाता है.
  • स्वैच्छिक ग्रहणाधिकार यह ग्रहणाधिकार लियनर की सहमति से बनता है.
  • गोदाम-निरीक्षक का ग्रहणाधिकार —यह ग्रहणाधिकार अमानतदार के साथ सामान का भंडारण करने के लिए भंडारण शुल्क के लिए है (कभी-कभी गोदाम मालिक का ग्रहणाधिकार भी कहलाता है)
  • कर्मचारियों की क्षतिपूर्ति ग्रहणाधिकार एक सांविधिक ग्रहणाधिकार, जो स्वास्थ्य प्रदाता द्वारा आपातकालीन लागत की वसूली और चल रहे चिकित्सा के लिए दिया जाता है, आमतौर पर किसी कर्मचारी की मुआवजा सुविधाओं के एवज में मरीज को दिया जाता है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. हैटॉन बनाम कार मेंटेनेंस' [1915] 1 अध्याय 621
  2. ब्लैक'स लॉ डिक्शनरी (8 एड.)
  3. जॉर्ज बेकर लिमिटेड बनाम एयनॉन [1974] 1 डब्ल्यूएलआर (WLR) 462
  4. थेम्स आयरन वर्क्स बनाम पेटेंट डेरीक (1860) 1 J&H 93
  5. यूनाइटेड किंगडम में, उदाहरण के लिए ईनकीपर्स ऐक्ट 1878 देखें.
  6. लेग बनाम एवांस (1840) 6 एम्एंडडब्ल्यू (M&W) 36
  7. पेनिंगटन बनाम रिलायंस मोटर्स लिमिटेड [1923] 1 केबी (KB) 127
  8. हैटॉन बनाम कार मेंटेनेंस [1915] 1 अध्याय 621
  9. मलिनेयर बनाम फ्लोरेंस (1878) 3 क्यूबीडी (QBD) 484
  10. ट्रांसपोर्ट एण्ड जेनरल क्रेडिट बनाम मॉर्गन [1939] 2 ऑल इआर (All ER) 17
  11. फिलिप्स जे देखें, पैल्मर और मैककेंड्रिक में "इक्वीटेबल्स लेंस-अ सर्च फॉर अ युनिफायिंग प्रिंसिपल", इंटरेस्टस इन गुड्स (2न्ड एड.)
  12. ब्रिस्टल एयरपोर्ट बनाम पॉड्रिल [1990] अध्याय 744
  13. माइकल ब्रिज, पर्सनल प्रोपर्टी लॉ (2न्ड एड.)
  14. ग्रिफ़िथ प्राइस, द लॉ ऑफ़ मैरीटाइम लेंस (1940)
  15. बैंकर्स ट्रस्ट बनाम टोड शिपयार्ड, द हैल्सयों इज़्ले [1981] एसी (AC) 221