कोलोन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मध्य कोलोन का दृष्य

कोलोन (जर्मन: Köln [kœln] ; अंग्रेजी उच्चारण: /kəˈloʊn/) बर्लिन, हैम्बर्ग और म्युनिख़ के बाद जर्मनी का चौथा सबसे बड़ा शहर है। कोलोन, राइन नदी के दोनों तरफ बसा हुआ है। शहर का मशहूर कोलोन कैथेड्रल, कोलोन के कैथोलिक आर्कबिशप का निवास है। कोलोन विश्वविद्यालय यूरोप के सबसे पुराने और बड़े विश्वविद्यालयों में से एक है जिसमें लगभग 44,000 विद्यार्थी पढ़ते हैं।[1]

इतिहास[संपादित करें]

कोलोन लगभग दो हजार वर्ष पुराना शहर है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] ई. पू. 38 में यह रोमन सैनिक अड्डा था। 50 ई. के बाद रोम के राजा क्लाडियस ने अपनी पत्नी कोलोनिया अग्रीपिनेन्सिन के नाम पर इसका नामकरण किया। 870 ई. में यह जर्मनी के अधिकार में आ गया।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

मध्यकालीन युग में यह नगर पूर्व की वस्तुओं, रेशम और मसाले का वितरण केंद्र रहा।[कृपया उद्धरण जोड़ें] महत्वपूर्ण स्थिति के कारण इसपर विभिन्न शक्तिशाली राष्ट्रों की निगाह बराबर लगी रहती रही। 1794 ई. में फ्रांसीसियों ने, 1815 ई. में प्रशा वालों ने तथा 1918 से 1926 ई. तक अंग्रेजों ने इसे अपने अधिकार में रखा।[कृपया उद्धरण जोड़ें]द्वितीय विश्वयुद्ध के समय बमबर्षा के कारण इस नगर का दो तिहाई भाग पूर्णत: नष्ट हो गया था। इसकी वर्तमान उन्नति रूर औद्योगिक क्षेत्र के सामीप्य से हुई है। यह नगर अनेक रेलमार्गो का केंद्र और महत्व का नदीपत्तन है। यहाँ से अन्न, मद्य, तेल आदि का बेल्जियम, हालैंड और स्विटज़रलैंड को निर्यात होता है। यहाँ तंबाकू, सिगार, चाकलेट, साबुन, बिजली के सामान, रासायनक, जहाज, मोटर, सूती कपड़े, रबर, शीशे, आदि के सामान बनाने के कारखाने हैं। यहाँ का गोथिक कैथेड्रल वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Top Universities"
  2. कोलोन

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]