कोटागिरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Kotagiri
—  city  —
Map of Tamil Nadu with Kotagiri marked
Location of Kotagiri
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य Tamil Nadu
ज़िला The Nilgiris
जनसंख्या 29,184 (2001 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 1,793 मीटर (5,883 फी॰)

Erioll world.svgनिर्देशांक: 11°26′N 76°53′E / 11.43°N 76.88°E / 11.43; 76.88 कोटागिरी भारतीय राज्य तमिलनाडु के नीलगिरी जिले में एक पंचायत शहर है.

कोटागिरी समुद्र स्तर से लगभग 1793 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यह नीलगिरी में स्थित तीन लोकप्रिय हिल स्टेशनों में से एक है. यह खूबसूरत हिल स्टेशन हरे-भरे चाय बागानों से घिरा है और ट्रैकिंग के कई विकल्प प्रदान करता है.

यह पुराना हिल स्टेशन असंख्य छोटी-छोटी पहाड़ियों और घाटियों के चारो ओर विकसित है. डोडा बेल्ट रेंज 22 किमी दूर है. कैथरीन फॉल्स, एल्क फॉल्स, रंगास्वामी पिलर इस स्थान के निकट प्रमुख आकर्षण हैं और आप इन स्थानों के लिए पैदल यात्रा कर सकते हैं. कोडानाड व्यू प्वाइंट सौम्य ढलवां पहाड़ियों और नीली पहाड़ियों का एक शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है. जंगल से होकर पैदल यात्रा का एक अन्य मार्ग भी है जो आपको एक छोटी जलधारा तक ले जाता है.

पैदल यात्रा के तीन लोकप्रिय मार्ग हैं कोटागिरी - कोडानाड; कोटागिरी - सैंट कैथरीन फॉल्स और कोटागिरी - लांगवुड शोला. कोटागिरी - कोडानाड मार्ग आपको हरे-भरे सघन चाय बागानों और मनमोहक मोयर नदी के आकर्षक नजारों से होकर ले जाता है. कोडानाड पहुंचने के लिए सुंदर घास के मैदानों से होकर गुजरना पड़ता है.

भूगोल[संपादित करें]

कोटागिरी 11°26′N 76°53′E / 11.43°N 76.88°E / 11.43; 76.88 में स्थित है.[1] इसकी औसत ऊंचाई 1793 मीटर (5882 फीट) है.

"कोटागिरी की जलवायु ऊटी की तुलना में अधिक धनी है क्योंकि यह दक्षिण-पश्चिम मानसून के आक्रमण से डोड्डाबेट्टा पर्वत श्रृंखला द्वारा संरक्षित है."

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

2001 के अनुसार  भारत की जनगणना[2] के अनुसार कोटागिरी की आबादी 29,184 थी. जनसंख्या में पुरुषों की भागीदारी 49% और महिलाओं की 51% है. कोटागिरी की औसत साक्षरता दर 77% है जो कि राष्ट्रीय औसत दर 59.5% से कहीं अधिक है: पुरुष साक्षरता 84% है और महिला साक्षरता 70% है. कोटागिरी में जनसंख्या का 9% भाग 6 वर्ष से कम की आयु का है. एक समय यहाँ का मौसम दुनिया का दूसरा सबसे अच्छा मौसम माना जाता था. इस शहर के ज्यादातर लोग तमिल और कन्नड़ भाषा बोलते हैं.

इतिहास[संपादित करें]

हालांकि, कोटागिरी का ब्रिटिश काल से पूर्व की अवधि का कोई लिखित इतिहास नहीं है, जो संभवतः युगों से अस्तित्व में रहा है. कुन्नूर के ठीक नीचे का क्षेत्र और नीलगिरी पहाड़ियों की ढलानें कोटा जनजातियों के लिए परंपरागत निवास स्थान रही हैं. अपने आप में 'कोटा-गिरी' नाम का मतलब ही 'कोटा का पहाड़' है. जहाँ टोडा जाति के लोग नीलगिरी के पारंपरिक किसान रहे हैं, कोटा जाति परंपरागत शिल्पकारों की है जो मिट्टी के बर्तन बनाने और टेराकोटा बेकिंग की कला में निपुण हैं. 'कोटा' जनजाति को उनके एकांतवासी स्वभाव और किसी भी बाहरी व्यक्ति से मिलने या उनके साथ घुलने-मिलने की अनिच्छा के लिए जाना जाता है. वर्तमान में उनकी संख्या केवल 1000 सदस्यों के आसपास है और इसमें तेजी से गिरावट आ रही है.

कोटागिरी को अतीत में "कोटा-केरी" या "कोटा-घेरी", कोटा जाति की सड़क के रूप में जाना जाता था. वास्तव में, वहाँ पर कोटा नामक एक बस्ती थी और जब 1911 में सरकार द्वारा स्वच्छता सुधार उद्देश्यों के लिए इस बस्ती की जमीन का अधिग्रहण कर लिया गया था और कोटा बस्ती को कोटागिरी से 2 किलोमीटर दूर "अग्गल" ग्राम में स्थानांतरित हो जाना पड़ा था. कोटा के मंदिर 'कामताराया' देवता को समर्पित हैं जो अभी भी वहाँ रहते हैं और उनका पुनर्निर्माण किया गया है. कोटा जनजाति के लोग हर महीने और वार्षिक उत्सव के दिन इस मंदिर में पूजा करते हैं, वार्षिक उत्सव "अरुद्र दर्शन" के दिन होता है जो जिले के सभी कोटा समुदाय के व्यक्तियों के लिए बहुत महत्त्व रखता है.

कीज और मैकमोहन द्वारा नीलगिरी पहाड़ियों के विस्मृत अभियान के बाद, मद्रास सरकार के दो सिविल सर्वेंट, जे.सी. व्हिश और एन. डब्ल्यू किंडर्सले ने 1819 में इन पहाड़ियों की यात्रा की थी. उनकी यात्रा का सटीक कारण अज्ञात बना हुआ है, लेकिन यह संभवतः तस्करों का पीछा करने के लिए किया गया हो सकता था. वे दर्रे से होकर पहाड़ियों (अब किल कोटागिरी का डेनाड गांव) में गए थे और जैसा कि अपने वरिष्ठों को वापस आकर बताया था, उन्होंने "एक यूरोपीय जलवायु वाले पठार की खोज की थी". उन्होंने इस पठार को 'कोटरचेरी' कहा था.

इसके तुरंत बाद, कोयंबटूर के कलेक्टर, जॉन सुलेवान ने स्वयं इन पहाड़ियों की यात्रा की और कोटागिरी में अपना एक घर बना लिया. वे नीलगिरी पहाड़ियों के पहले यूरोपीय निवासी थे. उनके सुझाव पर, मद्रास सरकार ने ऊटी में एक 'अस्पताल' खोला और गर्मियों के दौरान पूरी सरकार को पहाड़ियों में स्थानांतरित करने का प्रचलन शुरू किया. इस शहर को अपना निजी स्वास्थ्य रिसॉर्ट बना लेने के साथ कई अंग्रेजों ने उनका अनुसरण किया और यहाँ आकर बस गए. उनके लिए यह वातावरण पुराने इंग्लैंड की घाटियों और दर्रों की याद ताजा करने वाला रहा हो सकता है जिसे वे राजा/रानी की सेवा के लिए पीछे छोड़ आये थे.

फिर भी, घर की याद करने वाले अंग्रेजों के लिए कोटागिरी पहली पसंद बन गया था जो इन पहाड़ियों में बसना चाहते थे. इस क्षेत्र की आबोहवा सुखद थी जहां ऊटी या कुन्नूर के विपरीत कोई भी चरम स्थिति नहीं थी जो नम और ठंढे रहते थे. यह आबोहवा उनके लिए 'घर की तरह" थी. इस पठार में सालों भर वर्षा की तुलना में कहीं अधिक गर्म हवाएं चलती थीं. जॉन सुलेवान के बाद अन्य लोगों ने उनका अनुसरण किया जिनमें कई संभ्रांत हस्तियाँ जैसे कि डलहौजी के मार्कस शामिल थे और 1830 के दशक तक इस स्थान के आसपास तकरीबन बीस बंगले बन गए थे.

उनके पास दोनों ही दुनिया में रहने का सर्वश्रेष्ठ विकल्प था, सर्दियों के दौरान मद्रास (अब चेन्नई) में रहना और भीषण गर्मियों के दौरान कोटागिरी में स्थानांतरित हो जाना.

कोटागिरी ने उस समय अपना महत्त्व खो दिया जब कुन्नूर की तलहटी में मुत्तुपलायम से नए घाट रोड का निर्माण हो गया. उस समय तक ऊटी जाने का एक मात्र रास्ता घुड़सवारी के जरिये था जो कोटागिरी से होकर गुजरता था. इस मार्ग को इवान मैकफर्सन द्वारा 1821 में बनाया गया था और 1870 के आसपास जब एक अच्छी सड़क का निर्माण किया गया, उस समय तक यह एकमात्र रास्ता था.

आज कोटागिरी नीलगिरी पहाड़ियों के सबसे छोटे शहरों में से एक है और बाहरी लोगों के लिए यह अपेक्षाकृत अज्ञात है. हालांकि कोटागिरी के नाम के साथ पहली बार की कई बातें जुडी हुई हैं. इसे नीलगिरी में खोजा गया और ब्रिटिश सरकार द्वारा व्यवस्थित पहला क्षेत्र होने का गौरव हासिल है, और यह मद्रास सरकार के कई कर्मचारियों के लिए इसके गुमनाम होने से पहले गर्मियों की छुट्टियां बिताने के लिए पहली पसंद का गंतव्य था जबकि अन्य दो शहर ऊटी और कुन्नूर ने लोकप्रियता के मामले में बाजी मार ली.

यह नीलगिरी आदिवासी वेलफेयर एसोसिएशन (एनएडब्ल्यूए) (NAWA) का मुख्यालय भी है. (एनएडब्ल्यूए) (NAWA) इस क्षेत्र में उन स्थानीय ट्राइबल लोगों की मदद के लिए कुछ प्रशंसनीय कार्य कर रहा है, जिन्हें अन्यथा आदिवासियों रूप में जाना जाता है. यही वह पहली जगह है जहां चाय, कॉफी और अन्य मसाले जैसी नकदी फसलें लगाई गयीं और उन्हें बाजार में उपलब्ध कराया गया. यह कोडानाड व्यू प्वाइंट, सैंट कैथरीन वाटर फॉल्स, भगवान रंगास्वामी चोटी, थेंगुमाराहाडा, भगवान रंगास्वामी स्तंभ और कूटाडा जैसे कई दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए पर्यटकों का पसंदीदा स्थान भी है.

बागवानी की कहानी[संपादित करें]

पहले कॉफी एस्टेट की स्थापना 1843 में एम.डी. कॉकबर्न द्वारा कानहट्टी में की गयी थी. इसके तुरंत बाद नियमित पौधारोपण शुरू हो गया और कई बागान खोले गए. लेकिन ऐसा लगता है कि वहां इससे कई सालों पहले से पौधारोपण हो रहा था. इस तरह के कई छोटे-छोटे प्रयास इस क्षेत्र के आसपास किये गए जिनमें पोप और मैग्राथ ने कोटागिरी में खोला, एम.डी. कॉकबर्न ने कोतागुरी घाट में, उनके बेटे जॉर्ज कॉकबर्न ने कोटागिरी में और बैनरमैन एवं हाल्ड्वेल ने टोटापोलियम में किया.

हालांकि पहले चाय बागान को अस्तित्व में लाने का श्रेय एक महिला, एम.डी. कॉकबर्न की बेटी को जाता है जिन्होंने कोडानाड के बाद यहाँ 1863 में एक एस्टेट खोला था. चाय जल्दी ही लोकप्रिय हो गया और कॉफी उगाना छोड़ दिया गया. चाय के पौधारोपण में वहां एक सतत विकास देखा गया. 19वीं सदी के अंत तक यह लगभग 300 एकड़ (12 वर्गमीटर) में फ़ैल गयी थी और आज लगभग 30,000 एकड़ (120 वर्गमीटर) में इसकी खेती होती है.[3]

कोटागिरी में पिछले तीन सालों में कई हाई टेक कट फ्लावर फार्मों का विकास हुआ है. कई उद्यमी किसानों ने जलवायु को नियंत्रित करने वाले ग्रीनहाउसों की स्थापना की है जहां बहुमूल्य फूलों को उगाया जाता है, कारनेशन, लिलिमस और जरबेरा इस वातावरण में बहुत अच्छी तरह से फलते-फूलते हैं.

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

कोडानाड व्यू प्वाइंट तक सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है, जो कोटागिरी से 16 किलोमीटर (10 मील) या वाहन से लगभग 30 मिनट की दूरी पर है. यह एक ओर से विशाल मैसूर के पठार का शानदार नजारा प्रस्तुत करता है और सुरम्य 50 एकड़ (2,00,000 मी2) फार्मिंग को-ऑपरेटिव जिसे थेंगुमारहाडा कहा जाता है जो एक झाड़ीदार जमीन पर एक हरे मोजाइक की तरह लगता है, इस छोटे से गाँव के घुमावदार मार्ग पर मंद-मंद मोयर नदी बहती है.

जॉन सुलेवान का बंगला, जिसे पेथाकल बंगले के रूप में भी जाना जाता है, जिसे उन्होंने यहाँ रहते हुए बनाया था, हाल ही में इसका जीर्णोद्धार किया गया है और यह आम जनता के लिए खुला है. नीलगिरी डॉक्यूमेंटेशन सेंटर और नीलगिरी संग्रहालय इस बंगले में ही स्थित है. गांव के सैर, स्थानीय व्यंजन का स्वाद और लोक जीवन की मिठास आदि ऐसी गतिविधियों हैं जिसकी व्यवस्था यहाँ की जाती है. यह शहर से लगभग 2 किमी दूर, कन्नेरीमुक्कू में स्थित है. नारागिरी इसी स्थान के पास एक छोटा सा गाँव है जहां चाय बागानों की भरमार है और यहाँ घाटियों एवं पहाड़ियों का आकर्षक नजारा भी दर्शनीय है. इसी पठार में कन्नेरीमुक्कू से लगभग 6 किमी की दूरी पर कूकलथोराई गांव है जहां का दृश्य अत्यंत मनमोहक है.

कोटागिरी शहर के भीतर स्थित लांगवुड वन एक प्राचीन उष्णकटिबंधीय सदाबहार वन है जो शान्ति और एकांत की चाह रखने वालों के लिए एक निर्जन शरण स्थली है, यही वह जगह है जहां उड़ने वाली फ़्लाइंग फॉक्स (एक बड़ी वृक्षवासी गिलहरी) का ठिकाना है जो कभी-कभार दिखाई देती है, यहाँ लगभग 20 बाइसनों का एक स्थानीय निवासी परिवार रहता है जिसे मिलिधेन रोड पर वन के ठीक बाहर शाम को चरते हुए देखा जा सकता है.

शहर में नेहरू पार्क एक ऐसा कॉम्प्लेक्स है जहां कोटा जनजाति का एक मंदिर स्थित है, गांधी मैदानम जो एक सार्वजनिक खेल का मैदान है, एक धार्मिक सभा का केंद्र और बाढ़ से बचने का आश्रय बना हुआ है जिसे सामान्य अवसरों में इनडोर खेलों के लिए इस्तेमाल किया जाता है. कुनूर रोड पर शहर से लगभग 3 किमी की दूरी पर एक निजी पार्क है जो गुलाबों के लिए विशेष है, यह मार्च से लेकर जून तक के बीच अवश्य देखने की चीज है.

अन्य दर्शनीय स्थल हैं अरावेनु के निकट सेंट. कैथरीन झरना, उइलाट्टी झरना (जिसे एल्क फॉल्स के नाम से भी जाना जाता है) जो कोटागिरी शहर से 8 किलोमीटर दूर है और (1,785 मीटर (5,856 फुट) ऊंची रंगास्वामी पर्वत शिखर . यह एक द्विशंक्वाकार चोटी है और नीलगिरी के लोगों के पवित्र देवता होने के कारण, यह पठार की सबसे पवित्र पहाड़ी है. कोंगु क्षेत्र और अन्य स्थानों से हजारों तीर्थयात्री हर साल इस मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं. हिन्दू पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान रंगास्वामी मैदानी क्षेत्र में कोयंबटूर जिले के करमादाई में रहते थे, लेकिन अपनी पत्नी के साथ झगड़ा कर यहाँ अकेले रहने लगे. माना जाता है कि अराकाडु गाँव से थोड़ी ही दूर चोटी के नीचे चट्टान पर दो पद चिह्न इसके प्रमाण हैं.

सेंट कैथरीन फॉल्स (गेद्देहाडा हल्ला) 8 किमी की पैदल यात्रा पर स्थित है. सेंट कैथरीन फॉल्स एक दो चरणों का झरना है जो 250 फ़ुट (76 मी) ऊंचाई से नीचे गिरता है. लांगवुड शोला वन कोटागिरी से 3 किमी दूर है और यह जंगली इलाका ट्रैकिंग का एक अद्भुत अनुभव प्रदान करता है. शोला वन तक जाने वाले मिलिधेन का उपयोग करने लिए पैदल यात्रा मार्ग को चुनने से पहले पर्यटकों को जिला वन अधिकारी (डीएफओ) से पूर्व अनुमति की आवश्यकता होती है.

"देनाड गाँव" से दूर रंगास्वामी शिखर के उत्तर पश्चिम की ओर रंगास्वामी स्तंभ है जो लगभग 400 फ़ुट (120 मी) की ऊंचाई पर एकांतवासी भव्यता के साथ खड़ा एक असाधारण अकेला चट्टानी स्तंभ है और इसके किनारे बिलकुल खड़े हैं जिन पर आसानी से नहीं चढ़ा जा सकता है. किल-कोटागिरी, शोलरमत्तम, कारागोदुमत्तम, कडाशोलाई रंगास्वामी शिखर के मार्ग पर पड़ने वाले दर्शनीय स्थल हैं.

कोटागिरी में अंग्रेजों द्वारा निर्मित यूरोपीय शैली के अनेकों विशाल बंगले हैं और उनमें से ज्यादातर ने अपनी अंग्रेजियत को कायम रखा है, ये आज भी रहने योग्य हैं और इन्हें आधुनिकतम आवासों में तब्दील कर दिया गया है. नए निर्माण भी काफी संख्या में हैं लेकिन इन्हें सौंदर्य की कीमत पर तैयार किया गया है.

मशहूर नीलगिरी चाय का उत्पादन करने वाली कई चाय की फैक्ट्रियां यहाँ मौजूद हैं. सुप्रसिद्ध नीलगिरी तैलम (युक्लिप्टस का तेल) छोटी-छोटी झोपड़ियों में मौलिक ढंग से डिस्टिल्ड किये जाते हैं.

कोटागिरी में कुछ सोने की खदानें भी हैं जिनका खनन ब्रिटिश के जमाने में संभव स्तर तक किया गया था. वर्तमान में यह निर्धारित करने के लिए अनुसंधान जारी है कि क्या इन खदानों से और अधिक सोना निकालना संभव हो सकता है.

इस क्षेत्र में कुछ महत्वपूर्ण बॉक्साइट भी मौजूद है. नेहरू पार्क कोटागिरी शहर में स्थित है. कोडानाड व्यू प्वाइंट आसपास की घाटियों और मैदानों के चित्ताकर्षक दृश्यों के लिए एक अवश्य देखने वाला स्थान है. मोयर नदी के पास सुरम्य थेंगुमराहाडा गांव, भवानी सागर जलाशय और दक्कन के पठार यहाँ से दिखाई देते हैं.

अन्य आकर्षण[संपादित करें]

कोडानाड व्यू प्वाइंट : यह व्यू प्वाइंट दूर के पठारों, चाय बागानों, थेंगुमराहाडा गांव, किल-कोटागिरी क्षेत्र की चोटियों, मोयर नदी और कई अन्य दर्शनीय स्थलों का चित्ताकर्षक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है. कोडानाड व्यू प्वाइंट कोटागिरी से 18 किमी की दूरी पर स्थित है.

किल-कोटागिरी : यह कोटागिरी के पूर्वोत्तर में स्थित एक छोटा सा शहर है. देनाड, थुनेरी और बकाडा किल-कोटागिरी के आसपास के गांव हैं. महालिंगास्वामी मंदिर, जेदायास्वामी मंदिर (जो हर साल फरवरी के महीने में आग पर चलने के समारोह के लिए प्रसिद्ध है) और कन्निमरियम्मन मंदिर किल-कोटागिरी के निकट स्थित है.

रंगास्वामी शिखर : किल-कोटागिरी से 12 किमी की दूरी पर स्थित अत्यंत मनोरम रंगास्वामी शिखर की पूजा इरुला जनजातियों द्वारा की जाती है और यह एमएसएल से 1800 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पोरांगाडु सीमाई (कोटागिरी क्षेत्र) में और इसके आसपास रहने वाले हजारों परिवारों के लिए एक पवित्र स्थल है. यह पठार पर सबसे पवित्र पहाड़ी है. गर्मियों के महीने में भक्तगण यहाँ आते हैं और भगवान रंगास्वामी की आराधना करते हैं. हिन्दू पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान रंगास्वामी मैदानी क्षेत्र में कोयंबटूर जिले के करमादाई में रहते थे, लेकिन उन्होंने अपनी पत्नी के साथ झगड़ा किया और यहाँ आकर अकेले रहने लगे. माना जाता है कि अराकाडु गाँव से थोड़ी ही दूर चोटी के नीचे चट्टान पर दो पद चिह्न इसके प्रमाण हैं.

रंगास्वामी स्तंभ : यह किल-कोटागिरी से 4 किमी दूर स्थित एक अन्य पवित्र स्तंभ है जिसकी पूजा की जाती है. यह लगभग 400 फ़ुट (120 मी) की ऊंचाई पर एकांतवासी भव्यता के साथ खड़ा एक असाधारण अकेला चट्टानी स्तंभ है और इसके किनारे बिलकुल खड़े और संकीर्ण हैं जिन पर आसानी से नहीं चढ़ा जा सकता है.

थेंगुमराहाडा : "नीलगिरी का धान का कटोरा" कहा जाने वाला यह स्थान मैदानी क्षेत्र में कोटागिरी तालुक में स्थित है, यहाँ भवानी सागर जलाशय से होकर पहुँचा जा सकता है.

ऊटी : ऊटी को पूरब का स्कॉटलैंड कहा जाता है और यह दक्षिणी भारत का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है. यह सुरम्य शहर उत्तम बॉटनिकल गार्डन का केंद्र है जिसकी स्थापना 1847 में की गयी थी. पहाड़ी के ऊपर एक सुंदर रोज गार्डन है, और सौम्य ऊटी झील इस पहाड़ी शहर का एक अन्य प्रमुख आकर्षण है. ऊटी डोड्डाबेट्टा शिखर सहित कई ट्रैकिंग अभियानों के लिए भी एक आधारीय शहर है.

कुन्नूर नीलगिरी पहाड़ियों में यह दूसरा सबसे बड़ा हिल स्टेशन है जो 1839 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यह चाय बागानों से घिरा हुआ है. यहाँ की लोकप्रिय गतिविधि पक्षी विहार है और पक्षियों की खोज करने वालों के लिए एक प्राकृतिक सौंदर्य का स्थान है. सिम्स पार्क के नाम से जाना जाने वाला वनस्पति उद्यान यहाँ का मुख्य आकर्षण है. यह पार्क वृक्षों, पौधों और फूलों की एक हजार किस्मों के लिए पोषक की भूमिका निभाता है, यहाँ एक छोटी झील भी है. डॉल्फ़िन नोज इस स्थान के निकट एक दर्शनीय स्थल है. सुप्रसिद्ध पाश्चर संस्थान भी कुनूर में ही स्थित है.

द्रूग फोर्ट : द्रूग फोर्ट या किला कुन्नूर के पास ही स्थित है. इस किले को देखने के लिए पर्यटकों को कुछ शारीरिक परिश्रम करना पड़ता है, क्योंकि इसका रास्ता एक बेहतर पैदल मार्ग है लेकिन परिश्रम का फल मिलता है. यह किला सतह से ऊपर लगभग 6,000 फ़ुट (1,800 मी) की ऊंचाई पर स्थित है. कहा जाता है कि इस किले का इस्तेमाल महान योद्धा टीपू सुल्तान द्वारा अपनी चौकी के लिए किया गया था.

एल्क फॉल्स : कोटागिरी की यात्रा के लिए यह एक पर्यटक आकर्षण है. यह स्थान अद्भुत झरनों और ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के दिनों के दौरान निर्मित खूबसूरत यूरोपीय आवासों के लिए बहुत ही सुप्रसिद्ध है.

शैक्षिक संस्थान[संपादित करें]

कोटागिरी को बेहतर शिक्षा उपलब्ध कराने वाले कई आवासीय और गैर-आवासीय स्कूलों के होने का गौरव हासिल है.

  • विक्ट्री पार्क - अंतरराष्ट्रीय सामुदायिक स्कूल और जूनियर कॉलेज
  • सेंट जूड्स पब्लिक स्कूल और जूनियर कॉलेज
  • कोटागिरी पब्लिक स्कूल (सीबीएसई) (CBSE)
  • विश्व शांति विद्यालय मैट्रिक स्कूल
  • रिवरसाइड पब्लिक स्कूल
  • सेंट मैरीज होम स्कूल
  • पांडियाराज मैट्रिक हायर सेकेंडरी स्कूल
  • ग्रीन वैली मैट्रिक स्कूल
  • सेंट एंटनीज मिडिल स्कूल
  • सी.एस.आई. हायर सेकेंडरी स्कूल
  • सेंट मैरीज गर्ल्ज़ हायर सेकेंडरी स्कूल
  • गवर्नमेंट (ब्वायज) हायर सेकंडरी स्कूल

स्कूलों के अलावा कोटागिरी में एक आर्ट्स और साइंस कॉलेज भी है.

  • केपीएस (KAYPEEYES) कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड साइंस (भारतियर यूनिवर्सिटी, कोयंबटूर से संबद्ध)

परिवहन के लिंक्स[संपादित करें]

कोटागिरी का संपर्क सड़क मार्ग से मेट्टूपलायम से जुड़ा हुआ है. ऊटी की ओर जाने वाली सड़क (कोटागिरी से ऊटी तक 27 किलोमीटर) नीलगिरी घात की सडकों में से एक है और अब यह संपूर्ण जिले के लिए पाँच पहुंच मार्गों में से एक है. कुनूर कोटागिरी से 23 किमी दूर है और यह एक सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है जिसकी शाखाएं ऊटी मार्ग पर निकलती हैं.

कोटागिरी के लिए बसें मेट्टूपलायम की तलहटी से उपलब्ध हैं, साथ ही ऊटी और अन्य स्थानों से भी यहाँ के लिए बसें हैं.

कोटागिरी तमिलनाडु के सभी प्रमुख शहरों के साथ सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. ऊटी, मेट्टूपलायम और कुन्नूर से नियमित बस सेवाएं उपलब्ध हैं. निकटतम रेलवे स्टेशन कुन्नूर है. नजदीकी हवाई अड्डा कोयंबटूर (105 किमी) है जो चेन्नई, बेंगलूर और कोचीन जैसे शहरों से अच्छी तरह जुडा हुआ है.

संदर्भ[संपादित करें]

  1. फॉलिंग रेन जीनोमिक्स, इंक - कोटागिरी
  2. "भारत की जनगणना २००१: २००१ की जनगणना के आँकड़े, महानगर, नगर और ग्राम सहित (अनंतिम)". भारतीय जनगणना आयोग. http://web.archive.org/web/20040616075334/www.censusindia.net/results/town.php?stad=A&state5=999. अभिगमन तिथि: 2007-09-03. 
  3. नीलगिरी में प्लांटिंग, 1966 (एनपीए स्मारिका)

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]